---विज्ञापन---

‘पता नहीं क्यों मेरा मन आज घबरा रहा है…’, बच्चों को मौत के घाट उतारने से पहले बोला था साजिद

Budaun Double Murder: बदायूं में दो नाबालिग बच्चों की हत्या के बाद साजिद ने कहा था कि आज मैंने अपना काम पूरा कर लिया। वह अपने भाई जावेद के साथ बच्चों के घर पर पहुंचा था। उसने बच्चों की मां से 5000 रुपये भी मांगे थे। यह खुलासा मृतक बच्चों के पिता की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर से हुआ है।

Edited By : Achyut Kumar | Updated: Mar 20, 2024 12:06
Share :
Budaun Double Murder case accused
Budaun Double Murder Case: बाइक से घर पहुंचे, 5000 रुपये मांगे... फिर बच्चों को उतार दिया मौत के घाट, FIR सनसनीखेज खुलासा

Budaun Double Murder Case: बदायूं हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है। मृतक बच्चों के पिता की तरफ से दर्ज करवाई गई एफआईआर में बताया गया है कि बच्चों को मौत के घाट उतारने के बाद उसने कहा था कि आज मैंने अपना काम पूरा कर लिया है। एफआईआर में यह भी बताया गया है कि साजिद बाइक से घर पहुंचा था और 5000 रुपये की मांग की थी।

‘बाइक से घर आया था साजिद’

पीड़ित विनोद कुमार ने एफआईआर में कहा कि मेरे घर के सामने नाई की दुकान है, जिसमें साजिद अपने भाई के साथ काम करता है। साजिद थाना अलापुर क्षेत्र के सखानूं थाना क्षेत्र का रहने वाला है। वह अपने भाई जावेद के साथ बाइक से घर आया था और मेरी पत्नी से 5000 रुपये मांगे। उस समय मेरे घर पर पत्नी संगीता, मेरी मां मुन्नी देवी और मेरे तीन बच्चे मौजूद थे।

‘साजिद ने मेरी पत्नी से मांगे 5000 रुपये’

विनोद कुमार ने बताया कि साजिद ने घर आकर मेरी पत्नी से बोला कि उसकी पत्नी की आज डिलीवरी होनी है। डॉक्टर ने रात 11 बजे तक का टाइम दिया है। इसलिए उसे 5000 रुपये की जरूरत है। इस पर मेरी पत्नी ने कहा कि अभी लाकर देती हूं। इसके बाद उसने मेरे बीच वाले लड़के से पुड़िया लाने को कहा।

‘आज मेरा मन घबरा रहा है’

एफआईआर में बताया गया कि साजिद ने मेरी पत्नी से बोला कि आज मेरा मन घबरा रहा है। थोड़ी देर छत पर घूम लेता हूं। वह मेरे छोटे लड़के को लेकर ऊपर चला गया। वहीं, मेरे बड़े लड़के से पानी लाने को कहा। साजिद, जावेद और मेरे दोनों बेटे छत पर चले गए।

https://twitter.com/narendra483/status/1770255483997470947

साजिद और जावेद के हाथ में थी खून से सनी हुई छुरी

विनोद ने बताया कि जब मेरी पत्नी पैसे लेकर आई तो साजिद और जावेद जीने से उतर रहे थे। उनके हाथ में खून से सनी हुई छुरी थी। उन्होंने मेरी पत्नी से कहा कि आज मैंने अपना काम पूरा कर दिया है। उनके हाथ में छुरी देखकर मेरी पत्नी एकदम घबरा गई। वह चिल्लाने लगी। इस पर मोहल्ले के लोग आ गए। उन्होंने दोनों को पकड़ने की कोशिश की जावेद फरार हो गया। साजिद को भीड़ ने पकड़ लिया।

छत पर पड़े थे बच्चों के खून से लथपथ शव

एफआईआर में विनोद ने बताया कि जब मेरी पत्नी ऊपर छत पर गई तो वहां दोनों बच्चे खून से लथपथ पड़े हुए थे। उनकी मौत हो चुकी थी। जब मेरा लड़का पुड़िया लेकर आया तो जावेद ने उसे भी मारने की कोशिश की। उस पर छूरी से वार किया, जिससे उसके हाथ में गंभीर चोटें आई हैं।

यह भी पढ़ें: ‘वे मुझे भी मारना चाहते थे, लेकिन मैं…’, बदायूं मर्डर केस में जिंदा बचे बच्चे ने सुनाई आपबीती

‘साजिद और जावेद से मेरी कोई दुश्मनी नहीं थी’

पीड़ित ने बताया कि घटना के बाद काफी भीड़ इकट्ठा हो गई। भीड़ ने साजिद को पुलिस के हवाले कर दिया। लोगों में काफी आक्रोश था। उन्होंने बताया कि साजिद और जावेद से मेरी कोई दुश्मनी नहीं है। मुझे नहीं पता कि उन्होंने मेरे बच्चों की हत्या क्यों की।

हत्याकांड में जादू-टोने की आशंका

बता दें कि मामले में परिजनों ने जादू-टोने की बात होने की भी आशंका व्यक्त की। उन्होंने बताया कि साजिद ने बच्चों का खून भी पिया था। उसके हाथ में लोथड़े थे। बताया जाता है कि साजिद ने पुलिस पर फायरिंग की थी, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में वह मारा गया।

यह भी पढ़ें: ‘बच्चों को मारकर पिया खून’; बदायूं हत्याकांड के पीड़ितों का खौफनाक दावा, क्या है जादू-टोने का सच?

First published on: Mar 20, 2024 11:50 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें