---विज्ञापन---

Google में पार्ट टाइम नौकरी का लालच पड़ा मंहगा, सॉफ्टवेयर इंजीनियर को दो हफ्तों में 48 लाख रुपये का लगा चूना

Lured by part-time job offer software engineer loses 48 lakh:आजकल साइबर अपराधी लोगों को फंसाने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। इसके लिए अपराधी सोशल मीडिया के साथ-साथ कई माध्यमों की मदद ले रहे हैं। ऐसी कई सारी खबरें सामने आती रहती हैं कि साइबर ठगों ने फलां शख्स के बैंक से लाखों रुपये […]

Edited By : News24 हिंदी | Updated: Feb 22, 2024 23:21
Share :
Google में पार्ट टाइम नौकरी का लालच पड़ा मंहगा, सॉफ्टवेयर इंजीनियर को दो हफ्तों में 48 लाख रुपये का लगा चूना

Lured by part-time job offer software engineer loses 48 lakh:आजकल साइबर अपराधी लोगों को फंसाने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। इसके लिए अपराधी सोशल मीडिया के साथ-साथ कई माध्यमों की मदद ले रहे हैं। ऐसी कई सारी खबरें सामने आती रहती हैं कि साइबर ठगों ने फलां शख्स के बैंक से लाखों रुपये निकाल लिए। हालांकि, सरकार और साइबर अपराध शाखा भी लोगों को जागरुक करने के लिए विशेष कदम उठा रही है। लेकिन इसके बावजूद ठग किसी न किसी सहारे से लोगों का पैसा बैंकों या अन्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से निकाल लेते हैं। इसी के साथ तेलंगाना के हैदराबाद से एक और साइबर ठगी का मामला सामने आया है, यहां पर सॉफ्टवेयर इंजीनियर के अकाउंट से ठगों ने दो हफ्तों के अंदर 48 लाख रुपये निकाल लिए। इसकी सूचना शख्स ने पुलिस में दी है।

48 लाख रुपये का ऐसे लगा चूना

हैदराबाद के सेरिलिंगमपल्ली शहर के रहने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने साइबराबाद पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई। उसने पुलिस को बताया कि बीती 2 अगस्त को किसी ‘अनाया’ नाम से उनके व्हाट्सऐप पर पार्ट टाइम नौकरी का ऑफर आया था, जिसमें उससे गूगल मैप्स पर रेस्टोरेंट का रिव्यू लिखने के लिए कहा गया। उसने बताया कि उसे एक दिन में 22 टास्क दिए गए, जिनमें से 17 फ्री और पांच प्रीपेड टास्क थे। इस दौरान उसे एक टेलीग्राम ग्रुप में शामिल होने के लिए भी कहा गया, जहां टास्क दिए गए थे। शख्स ने बताया कि तीन टास्क पूरे होने के बाद उसे स्क्रीनशॉट शेयर करना था और पेमेंट के लिए बैंक विवरण देना था।

आईपीसी की धारा 420 के तहत मामला दर्ज

शख्स ने आगे बताया कि तीन फ्री टास्क पूरे करने के लिए उसे 150 का भुगतान किया गया। फिर उसे 3,000 का भुगतान वाला टास्क मिला। कुल मिलाकर, उसे लगभग 13,000 का भुगतान किया गया। वहीं, उसके अकाउंट में बाकी की राशि 26 लाख रुपये शो कर रही थी। इसके बाद उससे कहा गया कि बाकी के रुपये निकालने के लिए उसे कर के रूप में 10.6 लाख का भुगतान करना होगा। जिसके बाद उसने भुगतान कर दिया, लेकिन उसे बताया गया कि उसने एक टास्क में मिस्टेक की है, जिसके कारण क्रेडिट स्कोर 100 से घटकर 60 हो गया है, और निकासी करने के लिए स्कोर 100 होना चाहिए। शख्स ने इसके आगे कहा कि उससे 16 लाख और भुगतान करने के लिए कहा गया। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, पुलिस ने इस संबंध में आईपीसी की धारा 420 और आईटी अधिनियम की धारा 66-डी के तहत मामला दर्ज किया है।

(Valium)

First published on: Sep 27, 2023 07:19 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें