Wednesday, 24 April, 2024

---विज्ञापन---

चुनाव आयोग में हो क्या रहा है? अरुण गोयल के इस्तीफे से मोदी सरकार पर उठे सवाल

Arun Goyel Resigns: लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले चुनाव आयुक्त अरुण गोयल ने इस्तीफा दे दिया, जिसे राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने स्वीकार कर लिया। उनके इस्तीफा देने की वजह अभी तक सामने नहीं आई हैं। हालांकि, उनके अचानक इस्तीफा देने से मोदी सरकार पर सवाल जरूर खड़े हो गए हैं।

Edited By : Achyut Kumar | Updated: Mar 10, 2024 08:27
Share :
arun goyel resigns lok sabha election 2024 modi government
अरुण गोयल के चुनाव आयुक्त के पद से अचानक इस्तीफा देने से केंद्र की मोदी सरकार पर उठे सवाल

Arun Goyel Resigns: लोकसभा चुनाव की तारीखों का कुछ ही दिन में ऐलान होने वाला है, लेकिन उससे पहले चुनाव आयुक्त अरुण गोयल ने 9 मार्च को अचानक अपने पद से इस्तीफा देकर सबको चौंका दिया। गोयल के इस्तीफा देने के बाद अब चुनाव आयोग में केवल मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ही शेष बचे हैं। अरुण गोयल का कार्यकाल दिसंबर 2027 तक था। वे अगले साल मुख्य चुनाव आयुक्त बनते।  उन्होंने इस्तीफा क्यों दिया, अभी इसकी वजह सामने नहीं आई है।  वहीं, गोयल के इस्तीफा देने पर कांग्रेस ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर सवाल उठाए हैं।

‘अरुण गोयल के इस्तीफे से पूरा देश चिंतिंत है’

कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने अरुण गोयल के इस्तीफे पर कहा कि यह काफी चौंकाने वाली बात है। लोकसभा चुनाव की घोषणा से ठीक पहले चुनाव आयुक्त ने इस्तीफा दे दिया। अब, केवल एक चुनाव आयुक्त हैं। उन्होंने सवाल किया कि ये चुनाव आयोग में हो क्या रहा है? पूरा देश इससे चिंतित है।

‘स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव नहीं चाहती मोदी सरकार’

केसी वेणुगोपाल ने कहा कि मोदी सरकार स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव नहीं चाहती है। इससे पहले उन्होंने भारत के मुख्य न्यायाधीश को चुनाव आयोग और चुनाव आयुक्त की चयन संस्था से हटा दिया था। सीजेआई के स्थान पर उन्होंने एक कैबिनेट मंत्री को शामिल किया। अब यह एक सरकारी मामला बन गया है। इस प्रक्रिया में पारदर्शिता खो गई है।

यह भी पढ़ें: कार्यकाल 2027 तक था तो फिर चुनाव आयुक्त अरुण गोयल ने क्यों दिया इस्तीफा?

अरुण गोयल कब बने चुनाव आयुक्त?

बता दें कि अरुण गोयल ने 21 नवंबर 2022 को चुनाव आयुक्त के रूप में कार्यभार संभाला था। इससे पहले, वे संस्कृति मंत्रालय के सचव, दिल्ली विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष, श्रम और रोजगार मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव और वित्तीय सलाहकार और राजस्व विभाग व वित्त मंत्रालय के संयुक्त सचिव भी रह चुके हैं। देश में अप्रैल-मई में लोकसभा चुनाव होने हैं। उससे पहले चुनाव आयुक्त के इस्तीफा देने से मोदी सरकार पर सवाल उठ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: क्या सच में सामने आई लोकसभा चुनाव और मतगणना की तारीख? जानें वायरल लेटर की सच्चाई

First published on: Mar 10, 2024 08:18 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें