---विज्ञापन---

क्‍या गर्मी की वजह से बढ़ रहे मर्डर? 4 ड‍िग्री बढ़ने पर द‍िख सकते हैं ये खतरनाक असर

Heat in Summer Is Harmful For Health : बढ़ती गर्मी हेल्थ के लिए काफी हानिकारक है। इससे दिमाग को काफी नुकसान पहुंचता है। एक्सपर्ट के मुताबिक गर्मी के कारण लोगों की सोचने और समझने की क्षमता कम हो जाती है। यही नहीं, इंसान चिड़चिड़ा और गुस्सैल भी हो जाता है। वैसे इस समय मर्डर के मामले भी बढ़ जाते हैं। लेकिन क्या इसके लिए गर्मी जिम्मेदार है? जानें, क्या कहते हैं एक्सपर्ट:

Edited By : Rajesh Bharti | Updated: Jun 21, 2024 12:41
Share :
heatwave
बढ़ती गर्मी सेहत के लिए हानिकारक है।

Heat in Summer Is Harmful For Mind : जब भी हमारे यहां किसी का लड़ाई-झगड़ा होता है तो अक्सर एक बात कही जाती है- ठंड रख या दिमाग ठंडा रख। अंग्रेजी में कहते हैं- कूल डाउन। अब यह जो ‘ठंड’ यानी ‘कूल’ है, इंसान के दिमाग को कंट्रोल रखने के लिए जरूरी है। एक्सपर्ट्स ने भी इस पर मुहर लगा दी है। इन दिनों दुनियाभर में पड़ रही गर्मी इंसान के दिमाग को ‘खराब’ कर रही है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक बढ़ती गर्मी के कारण न केवल याददाश्त कम हो रही है बल्कि सोचने और समझने की क्षमता पर भी असर पड़ रहा है। स्थिति यह है कि बढ़ती गर्मी के कारण मर्डर के मामले भी बढ़ जाते हैं।

सोचने-समझने की क्षमता हो जाती है कम

एक्सपर्ट बताते हैं कि तापमान 4 डिग्री बढ़ने से ही इसका दिमाग पर असर दिखाई देने लगता है। इतना तापमान बढ़ने पर सोचने-समझने की क्षमता 10 फीसदी तक कम हो जाती है। यही नहीं, बढ़ती गर्मी के कारण लोगों के डिसिजन लेने की क्षमता कम हो जाती है। वे लोग जो दिल और दिमाग से जुड़ी किसी पुरानी बीमारी से पीड़ित हैं, उनकी गर्मी से ब्रेन स्ट्रोक के कारण मौत भी हो सकती है।

Heatwave

बढ़ती गर्मी का असर बच्चों की पढ़ाई पर भी पड़ता है।

बढ़ जाते हैं मर्डर और अटैक के मामले

दैनिक भास्कर में छपी खबर के मुताबिक गर्मी बढ़ने से इंसान चिड़चिड़ा, गुस्सैल और आक्रामक हो जाता है। साथ ही गर्मी के कारण मर्डर, अटैक और घरेलू हिंसा के भी मामले बढ़ जाते हैं। एक्सपर्ट बताते हैं कि हमारे सोचने, समझने, प्रतिक्रिया देने, निर्णय लेने आदि में तापमान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जब तापमान बढ़ता है कि इन सारी चीजों पर असर पड़ता है।

बच्चों की पढ़ाई पर असर

गर्मी का असर बच्चों की पढ़ाई पर भी पड़ता है। एक स्टडी के मुताबिक बढ़ती गर्मी की वजह से स्टूडेंट सही से पढ़ाई नहीं कर पाए। बात चाहे स्कूल की हो या घर की, ज्यादा गर्मी ने दोनों जगह स्टूडेंट को परेशान किया जिससे स्टूडेंट को पढ़ाई पर फोकस करने में परेशानी हुई। इस वजह से स्टूडेंट का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा।

ब्रेन स्ट्रोक से हो सकती है मौत

बढ़ती गर्मी के कारण हीट स्ट्रोक और ब्रेन स्ट्रोक के मामले भी बढ़ रहे हैं। इनसे लोगों के मरने की आंशका भी बढ़ रही है। हीट स्ट्रोक यानी लू लगने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। दरअसल, यह सब शरीर में पानी की कमी की वजह से होता है। बढ़ती गर्मी के कारण शरीर में पानी की काफी कमी हो जाती है। इसका काफी लोग ध्यान नहीं देते। बाद में वह अचानक चक्कर खाकर गिर जाते हैं। पानी की कमी से दिमाग में खून के थक्के बनने लगते हैं। अगर समय पर उपचार न मिले तो मौत भी हो सकती है।

यह भी पढ़ें : गर्मी में बुखार क्यों? भूलकर भी घर पर न करें ये काम, डॉक्टर की पहली और आखिरी बात जरूर सुनें

First published on: Jun 21, 2024 12:13 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें