Friday, 23 February, 2024

---विज्ञापन---

सिर्फ मीठा ही नहीं Room Heater भी बढ़ा सकता है डायबिटीज का खतरा!

3 reasons you should down your room heaters: आपके घर का तापमान 16 डिग्री तक होने से क्या टाइप 2 डायबिटीज का खतरा कम हो सकता है। यह इसके अलावा किन चीजों में फायदा मिलता है, जानें।

Edited By : Deepti Sharma | Updated: Jan 17, 2024 13:51
Share :
thermostat temperature down benefits
थर्मोस्टेट तापमान नीचे करने के लाभ Image Credit: Freepik

3 reasons you should down your room temperature: रूम का तापमान कई डिग्री तक नीचे करना किसी को पसंद नहीं है। क्योंकि हर कोई अपने घर को गर्म रखने के लिए हीटर का यूज करता है, लेकिन एक ठंडा घर टाइप 2 डायबिटीज और हार्ट डिजीज के जोखिम को कम करने के साथ-साथ बेहतर नींद में आपकी मदद कर सकता है। Netherlands के Maastricht University के Professor Hannah Pallubinsky के अनुसार, जो शरीर पर तापमान के प्रभाव का स्टडी करते हैं।

डायबिटीज का खतरा 

कमरे के हीटिंग को थोड़ा कम करने से टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है। स्टडी में दस दिनों तक प्रतिदिन छह घंटे के लिए 14 से 15 C एक ठंडे कमरे में वॉलंटियर्स शामिल थे। रिसर्चरों ने ठंड के संपर्क में आने से पहले और बाद में ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म का मेजरमेंट लिया गया है। परिणामों से पता चला कि प्रतिभागियों में ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म में सुधार देखा गया है। लोग अपने ब्लड शुगर के लेवल को कंट्रोल करने में 40% तक बेहतर थे। यह ग्लूकोज ट्रांसपोर्टर 4 नामक चीज की वजह से था। ठंड के अनुकूल होने के बाद मसल्स की सेल्स में इसे और ज्यादा देखा गया है।

यह एक प्रोटीन है, जो ब्लड फ्लो से ग्लूकोज को ज्यादा तेजी से हटा सकता है, जो एक पॉजिटिव रिजल्ट है। क्योंकि यह वाकई में ग्लूकोज में सुधार कर सकता है। हालांकि, एक्सपर्ट कहते हैं कि जो लोग सर्दियों में हेल्थ बेनिफिट्स लेना चाहते हैं, उन्हें लंबे समय तक कुछ घंटों के लिए थर्मोस्टेट का केवल कुछ डिग्री तक कम करना चाहिए।

बहुत ज्यादा ठंड होने से हाइपोथर्मिया हो सकता है, जिससे युवा और बुजुर्गों को विशेष रूप से असुरक्षित होते हैं। दिल की समस्याओं वाले लोगों को भी सावधान रहना चाहिए। क्योंकि ठंड में ब्लड वेसल्स सिकुड़ जाती हैं, जिससे ब्लड प्रेशर और हार्ट बीट बढ़ सकती है।

हार्ट डिजीज का खतरा कम होता है

कोल्ड क्लाइमेट में समय बिताने से दिल की बीमारियों का खतरा भी कम हो सकता है। ऐसा इसलिए हो सकता है, क्योंकि प्रोफेसर Hannah Pallu binsky की स्टडी के अनुसार, जब शरीर ठंड के अनुकूल होता है, तो ब्राउन फैट बढ़ सकता है। ऐसा माना जाता है कि ब्राउन फैट कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, मोटापे से लड़ता है और ब्लड प्रेशर को कम करता है, ये सभी हार्ट डिजीज के खतरे को बढ़ा सकते हैं। ‘ब्राउन फैट को ब्राउन फैट इसलिए कहा जाता है, क्योंकि जब आप इसे माइक्रोस्कोप से देखते हैं, तो इसमें माइटोकॉन्ड्रिया नामक बहुत सारी छोटी एनर्जी फैक्ट्रियां होती हैं, जिनका कलर ब्राउन सा होता है। ये सेल्स शरीर के 37 C (98.6 F) अंदर तापमान को बनाए रखती है।

ये भी पढ़ें- Glass में आइस क्‍यूब डालने से पहले दोबारा सोच लें! 

वाइट फैट के विपरीत, जो मिडरिफ, बॉटम्स और ठोड़ी के आसपास भरपूर मात्रा में देखा जाता है। खासकर कंधे के ब्लेड, रीढ़ और किडनी के आसपास ब्राउन कलर के प्रकार न दिखने वाले और अंदर गहराई तक फैले होते हैं।

अच्छी नींद में सुधार

एक ठंडा कमरा रात की नींद के लिए बेहतर हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह सोने के समय शरीर को नेचुरल तरीके से ठंडा करने में मदद कर सकता है और गहरी नींद में ले जा सकता है। कमरे का ठंडा तापमान सोने के लिए आसान बना सकता है, क्योंकि बॉडी के बायोलॉजिकल क्लॉक के साथ मिलकर काम करता है। रात के समय हमारे शरीर का तापमान कम हो जाता है और यह उस समय के आसपास होता है, जब हम बिस्तर पर जाना चाहते हैं। यह हमारे लिए सोने के लिए लगभग एक संकेत है।

इसलिए, जब शरीर का तापमान लगभग 1 C तक कम होने लगता है, तो शरीर आपको बताता है कि यही वह समय है, जब आपको सोना चाहिए। आप जिस कमरे में सोते हैं, उसे थर्मोस्टेट को डाउन करके खिड़की खोलकर रखना चाहिए। स्टडी में हेल्दी वॉलंटियर्स को 17 C (62.6 F) या 22 C (71.6 F) कमरे में सोते हुए देखा गया था। जो वॉलंटियर ठंडे कमरे में सोते थे, उन्होंने रात का ज्यादा प्रतिशत नींद की सबसे गहरी अवस्था में बिताया था। अच्छी नींद याददाश्त, दिमाग के स्वास्थ्य, टिश्यू की मरम्मत और इम्यूनिटी को मजबूत करने के लिए महत्वपूर्ण है।

Disclaimer: इसमें दी गई जानकारी पाठक खुद पर अमल करने से पहले डॉक्टर या हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह जरूर कर लें। News24 की ओर से कोई जानकारी का दावा नहीं किया जा रहा है।

First published on: Jan 17, 2024 01:51 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें