---विज्ञापन---

गुड्डू जमाली कौन हैं, जो ‘साइकिल’ पर हुए सवार; आजमगढ़ में सपा के लिए साबित होंगे ‘गेमचेंजर’?

Guddu Jamali Joins Samajwadi Party: लोकसभा चुनाव से पहले बसपा को बड़ा झटका लगा है। शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली आज सपा में शामिल हो गए। उन्हें 2022 को लोकसभा उपचुनाव में बसपा ने आजमगढ़ से प्रत्याशी बनाया था।

Edited By : Achyut Kumar | Updated: Feb 28, 2024 12:14
Share :
Guddu Jamali joins Samajwadi Party
Guddu Jamali ने Samajwadi Party का थामा दामन

Guddu Jamali Joins Samajwadi Party: लोकसभा चुनाव से पहले बहुजन समाज पार्टी को बड़ा झटका लगा है। बसपा नेता शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मौजूदगी में उन्होंने सपा की सदस्यता ग्रहण की।  उनके पार्टी में आने के बाद सपा को आजमगढ़ में मजबूती मिलेगी। आजमगढ़ में 2022 में हुए लोकसभा उपचुनाव में दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ ने धर्मेंद्र यादव को हरा दिया था। माना जाता है कि इसमें गुड्डू जमाली का बड़ा रोल था। उनके सपा में शामिल होने से अखिलेश यादव को बड़ी मजबूती मिलेगी।

आजमगढ़ में सपा को मिलेगी मजबूती

आजमगढ़ को समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाता है। इसके बावजूद उसे 2022 के उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा। इसमें गुड्डू जमाली ने बडडी भूमिका निभाई  थी। माना जा रहा है कि सपा में शामिल होने के बाद उन्हें विधान परिषद भेजा जा सकता है। जमाली के सपा में आने से बसपा प्रमुख मायावती को बड़ा झटका लगेगा।

कौन हैं गुड्डू जमाली?

गुड्डू जमाली आजमगढ़ के मुबारकपुर के रहने वाले हैं।  वे बिजनेसमैन हैं। उनका जन्म 1 जून 1973 को हुआ था। गुड्डू जमाली मुबारकपुर सीट से 2012 और 2017 में विधायक रह चुके हैं। वे पसमांदा मुस्लिम साज से आते हैं। कुछ समय पहले पसमांदा मुस्लिम समाज के अध्यक्ष अनीस मंजूरी ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव से अपने समाज के किसी सदस्य को विधान परिषद भेजने की मांग की थी।

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव: यूपी में क्या होगा BJP का हाल? ओपिनियन पोल में सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

आजमगढ़ में निभाएंगे बड़ी भूमिका

बसपा ने 2022 के उपचुनाव में आजमगढ़ से उन्हें प्रत्याशी बनाया था। माना जाता है कि उनकी वजह से धर्मेंद्र यादव को हार का सामना करना पड़ा। आजमगढ़ से 2019 में अखिलेश यादव सांसद चुने गए, लेकिन विधानसभा चुनाव के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया। इसके बाद यहां पर उपचुनाव हुआ, जिसमें निरहुआ ने  जीत दर्ज की। निरहुआ को 3 लाख 12 हजार 768 वोट मिले थे, जबकि धर्मेंद्र यादव को 3 लाख 4 हजार 89 और गुड्डू जमाली को 2 लाख 66 हजार 210 वोट मिले।

यह भी पढ़ें: देश के सबसे उम्रदराज सांसद का निधन, कौन थे Shafiqur Rahman Barq, जो 9 बार जीत चुके थे चुनाव

First published on: Feb 28, 2024 11:36 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें