Tuesday, 27 February, 2024

---विज्ञापन---

‘टीपू सुल्तान की विरासत को मिटा नहीं सकते’, ट्रेन के नाम बदलने पर ओवैसी की तीखी प्रतिक्रिया

Bengaluru And Mysuru Train: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि भाजपा कभी भी टीपू सुल्तान की विरासत को नहीं मिटा पाएगी। बता दें कि शुक्रवार को रेलने ने टीपू एक्सप्रेस ट्रेन का नाम बदलकर वोडयार एक्सप्रेस कर दिया था। अभी पढ़ें – PM Modi Gujarat Visit: आज से तीन दिनों […]

Edited By : Om Pratap | Updated: Oct 10, 2022 12:49
Share :

Bengaluru And Mysuru Train: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि भाजपा कभी भी टीपू सुल्तान की विरासत को नहीं मिटा पाएगी। बता दें कि शुक्रवार को रेलने ने टीपू एक्सप्रेस ट्रेन का नाम बदलकर वोडयार एक्सप्रेस कर दिया था।

अभी पढ़ें PM Modi Gujarat Visit: आज से तीन दिनों के लिए गुजरात दौरे पीएम मोदी, 14,500 करोड़ के प्रोजेक्ट की देंगे सौगात

ओवैसी ने ट्विटर पर लिखा कि भाजपा सरकार ने टीपू एक्सप्रेस का नाम बदलकर वोडेयार एक्सप्रेस कर दिया। भाजपा को इस बात से चिढ़ है कि टीपू ने उनके ब्रिटिश आकाओं के खिलाफ 3 युद्ध छेड़े थे। बीजेपी कभी टीपू की विरासत को नहीं मिटा पाएगी। उन्होंने जिंदा रहते हुए अंग्रेजों को डरा दिया और अब भी ब्रिटिश गुलामों को डराते हैं।

एआईएमआईएम चीफ की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा आईटी सेल के प्रभारी अमित मालवीय ने ट्विटर पर लिखा, भाजपा टीपू की विरासत को मिटाना नहीं चाहती है।

उन्होंने यह भी लिखा, इसके विपरीत हम चाहते हैं कि उनकी असली विरासत लोगों को पता चले। टीपू एक बर्बर व्यक्ति था, जिसने कुर्ग में कोडवाओं, मैंगलोर में सीरियाई ईसाइयों, कैथोलिकों, कोंकणी, मालाबार के नायरों को अनकही पीड़ाएं पहुंचाईं।

बता दें कि टीपू एक्सप्रेस के नाम को बदलने जाने की घोषणा के बाद मैसूर के सांसद प्रताप सिम्हा ने एक ट्वीट किया था। सांसद ने इस साल जुलाई में केंद्रीय रेल मंत्री को लिखे एक पत्र को भी शेयर किया।

 

अभी पढ़ें Maharashtra: उद्धव गुट ने पार्टी के नाम और निशान की लिस्ट चुनाव आयोग को सौंपी, ये है पहली पसंद

वोडेयार एक्सप्रेस (टीपू एक्सप्रेस पहले) का नाम मैसूर शाही परिवार के नाम पर रखा गया है। बेंगलुरु से मैसूर तक यह ट्रेन ढाई घंटे में पहुंचती है। मांड्या और केंगेरी में इस ट्रेन का स्टॉपेज है। टीपू एक्सप्रेस को पहली बार 1980 में बेंगलुरु और मैसूर को जोड़ने वाली सुपरफास्ट ट्रेन के रूप में पेश किया गया था।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

First published on: Oct 09, 2022 03:32 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें