---विज्ञापन---

पराए मर्द या स्त्री से संबंध बनाने की सजा क्या? प्रेमानंद महाराज ने गरुड़ पुराण के हवाले से की व्याख्या

Premanand Ji Maharaj: मृत्यु जीवन का एक कटु सत्य है। एक न एक दिन प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का अंत होना निश्चित है। जीवनभर अगर व्यक्ति अच्छे कर्म करता है, तो मरने के बाद उसकी आत्मा स्वर्ग जाती है। वहीं जो लोग बुरे कर्म करते हैं, उन्हें नरक में दंड भोगना पड़ता है। चलिए प्रेमानंद महाराज से जानते हैं जो व्यक्ति पराए मर्द या स्त्री संग संबंध बनाते हैं, मरने के बाद उनके साथ क्या होता है।

Edited By : Nidhi Jain | Updated: Jun 14, 2024 10:48
Share :
Premanand Ji Maharaj

Premanand Ji Maharaj: सोशल मीडिया पर आए दिन प्रेमानंद जी महाराज के प्रवचन के वीडियो वायरल होते रहते हैं। बाबा के भजन और सत्संग को सुनने के लिए लोग दूर-दूर से वृंदावन आते हैं। प्रेमानंद महाराज की प्रसिद्धि देश ही नहीं बल्कि विदेश तक में फैली हुई है। वह अपने प्रवचन के माध्यम से लोगों को धार्मिक ग्रंथों में लिखित जरूरी बातों के बारे में बताते हैं। उन्होंने प्रवचन के दौरान बताया है कि अगर कोई व्यक्ति पराए मर्द या स्त्री से संबंध बनाता है, तो उसके साथ क्या होता है।

पराई स्त्री या मर्द से संबंध रखने वालों के साथ क्या होता है?

गरुड़ पुराण के अनुसार, मरने के बाद व्यक्ति की आत्मा स्वर्ग जाएगी या नर्क, ये उसके द्वारा किए गए कर्मों पर निर्भर होता है। जहां स्वर्ग में देवी-देवताओं का वास है। वहीं नरक में यमदूत होते हैं, जो व्यक्ति को उसके कर्मों के हिसाब से दंड देते हैं।

बाबा प्रेमानंद महाराज के अनुसार, अगर कोई व्यक्ति अपने जीवनसाथी को छोड़ किसी और औरत या आदमी से संबंध यानी संभोग करता है, तो वो मरने के बाद रौरव नरक में जाता है। जहां यमदूत उसे गर्म लोहे की स्त्री व आदमी से आलिंगन (गले लगाना) करवाते हैं। जोकि कुछ देर का नहीं बल्कि लंबे समय के लिए होता है।

ये भी पढ़ें- पति को कंगाल बना सकती हैं उसकी ये 5 आदतें, प्रेमानंद महाराज ने कहा तुरंत छोड़ें

रौरव नरक क्या होता है?

गरुड़ पुराण के अनुसार, जीवनभर जो व्यक्ति बुरे कर्म करता है, उसे मरने के बाद नरक जाना पड़ता है। वहीं जो अच्छे कर्म करते हैं, उन्हें मृत्यु पश्चात स्वर्ग का सुख मिलता है। गरुड़ पुराण में कुल 36 तरह के नरक का उल्लेख है, जिसमें व्यक्ति के कर्मों के हिसाब से उसे दंड दिया जाता है। रौरव नरक भी नरक का एक प्रकार है। जहां वो लोग जाते हैं, जो झूठ बोलते हैं।

प्रेमानंद महाराज कौन हैं?

प्रेमानंद महाराज एक श्री कृष्ण मार्गी संत हैं, जो राधा रानी के परम भक्त भी हैं। बाब वृंदावन में मौजूद अपने आश्रम से प्रवचन के जरिए लोगों को सनातन धर्म से जुड़ी मुख्य बातों के बारे में बताते हैं। साथ ही व्यक्ति को सामाजिक बुराइयों और उनके परिणामों के बारे में बताते हैं।

ये भी पढ़ें- माता-पिता की सेवा करने से मना करती है पत्नी? ऐसे में याद रखें प्रेमानंद महाराज की ये बात

डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी धार्मिक मान्यता पर आधारित है तथा केवल सूचना के लिए दी जा रही है। News24 इसकी पुष्टि नहीं करता है। 

First published on: Jun 14, 2024 10:48 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें