---विज्ञापन---

BMI Vs Body Fat Percentage: आपका बॉडी फैट बताएगा आप कितने हेल्दी?

Body fat percentage: शरीर में फैट परसेंटेज केवल पेट के बारे में नहीं है, बल्कि यह हेल्थ के लिए एक संकेत हो सकता है। इसलिए पुरुष और महिलाओं को अपना वजन कम करने से पहले शरीर के फैट % के बारे में जानना चाहिेए।

Edited By : Deepti Sharma | Updated: Jan 20, 2024 13:02
Share :
BMI Vs Body Fat Percentage

BMI Vs Body Fat Percentage for Men and Women: जब आप अपना वेट कम करने या बढ़े हुए वेट को कंट्रोल को करने की कोशिश करते हैं, तो वजन कम करना और शरीर के मेजरमेंट पर नज़र रखना जरूरी है। बॉडी में फैट को मापने के लिए दो तरीके हैं, एक फैट परसेंटेज और बॉडी मास इंडेक्स हैं। ये आंकड़े आपकी हेल्थ के बारे में भी कई चीजें बता देते हैं।

हेल्दी बॉडी में फैट प्रतिशत का कॉन्सेप्ट माइक्रो है, क्योंकि उम्र, लिंग और पर्सनल हेल्थ गोल्स जैसे फैक्टर के आधार पर अलग-अलग लेवल के होते हैं। आपकी फिटनेस (Fitness) में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बिंदु है शरीर में फैट परसेंटेज के बारे में जानना चाहिए।

हमारे शरीर में दो अलग-अलग तरह के फैट होता है। हमारी स्किन के नीचे की चर्बी है, जिसे आसानी से देखा जा सकता है और दूसरी आंत की चर्बी है, जो काफी गहराई में स्थित होती है और शरीर के अंदर के अंगों में और उसके आसपास भी मौजूद होती है। यह इंटेस्टाइन का फैट है, जिसका हेल्थ पर साइड इफेक्ट पड़ता है।

शरीर में फैट का हाई परसेंटेज लोगों की लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियों के जोखिम में डाल सकता है। तो एक स्वस्थ शरीर में फैट परसेंटेज क्या होता है?पुरुषों के लिए शरीर में फैट (Fat) प्रतिशत 15 या उससे कम ही होता है, जबकि महिलाओं के लिए शरीर में फैट प्रतिशत 25 या उससे कम होता है।

शरीर में फैट प्रतिशत को मेजरमेंट करने का तरीका 

  1. ऑनलाइन कैलकुलेटर (Online Calculator)
  2. स्किनफोल्ड कैलीपर्स (Skinfold Calipers)
  3. DEXA या BCA

ये भी पढ़ें- Herbal Ginger Tea: महंगी हर्बल टी से भी ज्यादा फायदेमंद है किफायती अदरक की चाय

जबकि कई वजन कम करने में मदद करने का दावा करते हैं, लेकिन यह जानना जरूरी है कि इस वजन की एक महत्वपूर्ण मात्रा में पानी और मांसपेशियां शामिल हो सकती हैं। मसल्स को खोना हानिकारक हो सकता है, क्योंकि मांसपेशियां आपके ओवरऑल हेल्थ का एक महत्वपूर्ण भाग है और मांसपेशियां ताकत बरकरार रखने में मदद करती हैं।

Nutritionist Amita Gadre के अनुसार,  कोई अपने शरीर में फैट परसेंटेज के लेवल को कम कर देता है, जो लोगों के लिए हानिकारक हो सकता है।Nutritionist Nupur Patil के मुताबिक, सोशल नॉर्म से ध्यान हटाकर व्यक्तिगत दृष्टिकोण पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। पोषक तत्वों से भरपूर बैलेंस्ड डाइट के साथ शरीर को पोषण देना और रोजाना फिजिकल एक्टिविटी को शामिल करने से शरीर के स्ट्रकचर के साथ एक हेल्दी रिलेशन को बढ़ावा मिलता है। फिजिकल और मेंटल हेल्थ दोनों का समर्थन करती हैं।

ये भी पढ़ें- White Hair Problems: उम्र से पहले हो गए हैं सफेद बाल? 

बीएमआई क्या है?

बीएमआई आपके वेट को Kilogram में आपकी हाइट Square meter से अलग करने पर मिलती है। यह आपको एक अंक देती है, जो आपके बीएमआई और आपके वजन कैटेगरी को बताता है। आप आसानी से अपनी बीएआई के बारे में जान सकते हैं, जैसे कि किसी की हाइट और वजन का बॉडी मास इंडेक्स है।

बीएमआई वेट कैटेगरी

  • कम वजन- 18.5 से नीचे
  • हेल्दी वेट- 18.5-24.9
  • ज्यादा वजन- 25-29.9
  • मोटापा- 30 और उससे ज्यादा

बीएमआई और बॉडी फैट परसेंटेज में अंतर

बीएमआई का इस्तेमाल आमतौर पर यह निर्धारित करने के लिए होता है कि आपका वजन नॉर्मल है, ज्यादा वजन है या मोटापे से पीड़ित हैं। दूसरी ओर, शरीर में फैट परसेंटेज का यूज शरीर में फैट की मात्रा के बारे में जानने के लिए किया जाता है।

ज्यादा बॉडी फैट कम होने पर होती हैं ये बीमारियां

  1. एंटीऑक्सीडेंट्स और विटामिन की कमी (Deficiency of Antioxidants and Vitamins)
  2. मेंटल पॉब्लम (Mental Problem)
  3. दिमाग के विकास में दिक्कत (Problem in Brain Development)
  4. मेटाबॉलिक सिंड्रोम (Metabolic Syndrome)
  5. इंसुलिन प्रतिरोध (Insulin Resistance)

First published on: Jan 20, 2024 01:02 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें