Monday, December 5, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

‘अंतरराष्ट्रीय और सीमा पार आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा’, कंबोडिया में ASEAN बैठक में बोले राजनाथ सिंह

Cambodia ASEAN Meet: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आतंकवाद और कोरोना के बीच ऊर्जा और खाद्य सुरक्षा की चुनौतियों ने भी दुनिया का ध्यान खींचा है।

Cambodia ASEAN Meet: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को अंतरराष्ट्रीय और सीमा पार आतंकवाद को सबसे गंभीर खतरा बताया। उन्होंने कहा कि इन खतरों का सामना पूरी दुनिया कर रही है। राजनाथ सिंह ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से तत्काल हस्तक्षेप का आह्वान किया। बता दें कि राजनाथ सिंह ने 9वीं आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक में ये बातें कही।

आसियान मंत्रियों को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सबसे बड़ा खतरा अंतराष्ट्रीय और सीमा पार वाला आतंकवाद है और इसमें अंतरराष्ट्रीय समुदाय को तत्काल हस्तक्षेप करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि अब उदासीनता प्रतिक्रिया नहीं हो सकती है, क्योंकि आतंकवाद ने विश्व स्तर पर कई देशों को नुकसान पहुंचाया है।

और पढ़िए –  Pakistan: इमरान खान का बड़ा ऐलान, पीटीआई के सदस्य सभी विधानसभाओं से देंगे इस्तीफा

राजनाथ सिंह ने ये भी कहा कि कैसे आतंकवादी समूहों ने मनी ट्रांसफर और आतंकियों की भर्ती के लिए नई टेक्नोलॉजी का यूज किया है, इस पर भी ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि साइबर अपराध इस ओर इशारा भी करता है। राजनाथ सिंह ने जब आतंकवाद एक बड़ा खतरा बना हुआ है, ऐसे में कोरोना महामारी से होने वाली परेशानियों को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

राजनाथ बोले- उर्जा और खाद्य चुनौतियों ने भी ध्यान खींचा

रक्षा मंत्री ने कहा कि आतंकवाद और कोरोना के बीच ऊर्जा और खाद्य सुरक्षा की चुनौतियों ने भी दुनिया का ध्यान खींचा है। समुद्री मुद्दों पर चीन की बढ़ती हठधर्मिता के बीच रक्षा मंत्री ने कहा, “भारत सभी देशों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के सम्मान, बातचीत के माध्यम से विवादों के शांतिपूर्ण समाधान और अंतरराष्ट्रीय नियमों और कानूनों के पालन के आधार पर हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी आदेश की मांग करता है।”

और पढ़िए –  FIFA World Cup 2022: कतर में फैन विलेज के पास लगी भीषण आग, मशक्कत के बाद पाया काबू

राजनाथ सिंह ने कहा कि आसियान के रक्षा मंत्री उस समय बैठक कर रहे हैं जब दुनिया विघटनकारी राजनीति से बढ़ते संघर्ष को देख रही है। उन्होंने कहा, “आसियान के केंद्र में एक शांतिपूर्ण हिंद-प्रशांत दुनिया की सुरक्षा और समृद्धि के लिए पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो गया है।”

उन्होने कहा कि आसियान के 10 देशों और 8 प्रमुख प्लस देशों की भागीदारी के साथ, एडीएमएम प्लस न केवल क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए बल्कि विश्व शांति के लिए एक चालक के रूप में खुद को स्थापित कर सकता है।

और पढ़िए –  दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -