Monday, 26 February, 2024

---विज्ञापन---

Iran Hijab Row: ईरान में नहीं थम रहा सरकार का विरोध, सुरक्षाबलों ने दो और प्रदर्शनकारियों को गोली मारी

Iran Hijab Row: ईरान में सरकार के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शनों के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई में दो और लोगों की मौत हो गई है। ईरानी मानवाधिकार समूह हेंगॉ के अनुसार सानंदाज में, सुरक्षा बलों ने उनकी कार में एक ड्राइवर की गोली मारकर हत्या कर दी, जबकि एक अन्य प्रदर्शनकारी को आईआरजीसी सुरक्षा बलों […]

Edited By : Pulkit Bhardwaj | Updated: Oct 10, 2022 13:18
Share :
Iran hijab row
Iran hijab row

Iran Hijab Row: ईरान में सरकार के खिलाफ जारी विरोध प्रदर्शनों के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई में दो और लोगों की मौत हो गई है। ईरानी मानवाधिकार समूह हेंगॉ के अनुसार सानंदाज में, सुरक्षा बलों ने उनकी कार में एक ड्राइवर की गोली मारकर हत्या कर दी, जबकि एक अन्य प्रदर्शनकारी को आईआरजीसी सुरक्षा बलों ने पेट में गोली मार दी और उसकी मौत हो गई। वहीं, सक़्ज़ के एक स्कूल में, दो शिक्षकों को घायल कर दिया।

अभी पढ़ें चल रही थी संसद, महिला सांसद ने ईरान में हिजाब विरोध के समर्थन में काटे अपने बाल

हेंगॉ के अज़हिन शेखी ने सीएनएन को बताया, “सनंदाज और सक़क़ेज़ के स्कूलों में छात्रों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। फिर, सरकारी बलों ने सक़्ज़ के एक स्कूल पर हमला शुरू कर दिया।” ईरान के सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाई और सानंदाज और साक़ेज़ के कुर्द शहरों में आंसू गैस का इस्तेमाल किया।

बता दें कि तीन सप्ताह पहले हिजाब विवाद के चलते एक ईरानी कुर्द महिला महसा अमिनी की पुलिस हिरासत में मौत के बाद ईरान में विरोध प्रदर्शन तेज हो गए हैं। खासतौर पर अमिनी के गृहनगर साकेज में विरोध प्रदर्शनों का व्यापक प्रभाव देखा जा रहा है। वहीं, हेंगॉ ने कहा कि साकेज़, दिवांडारेह, महाबाद और सनंदाज में मानवाधिकारों पर व्यापक हमले हो रहे हैं।

इस बीच, तेहरान, कारज, एस्फहान, शिराज, करमन, मशहद, तबरेज़ और रश्त सहित देश भर के अन्य स्थानों पर भी विरोध प्रदर्शन जारी रहा। तेहरान में एक ऑल-गर्ल्स संस्थान, अलज़हरा विश्वविद्यालय में बोलते हुए, ईरानी राष्ट्रपति अब्राहिम रायसी ने देश भर में नवीनतम दंगों पर टिप्पणी की।

उनके कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, “दुश्मन ने सोचा कि वे विश्वविद्यालय के अंदर अपनी इच्छाओं का पालन कर सकते हैं, इस बात से अनजान हैं कि हमारे छात्र और प्रोफेसर सचेत हैं और दुश्मन के झूठे सपनों को सच नहीं होने देंगे।” लेकिन सोशल मीडिया में कुछ वीडियो सामने आए हैं, जहां महिलाओं को उसी विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन करते दिखाया गया है। इस दौरान इन महिलाओं की मांग थी कि “उत्पीड़क को मौत, चाहे वह शाह हो या सर्वोच्च नेता।”

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, यह स्पष्ट नहीं है कि यह विरोध राष्ट्रपति के विश्वविद्यालय में रहने के दौरान हुआ था या नहीं।यूएस-वित्त पोषित रेडियो फरदा को प्रदान किए गए वीडियो में दंगा पुलिस को तेहरान में एक युवती की पिटाई करते हुए भी दिखाया गया है।

अभी पढ़ें Anti Hijab Protest: हिजाब विरोधी प्रदर्शन के दौरान सिर पर बिना दुपट्टे के दिखी ईरानी महिला, गोली मारकर हत्या

ईरान में विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद से मरने वालों की कुल संख्या को लेकर सरकार, विपक्षी समूहों, अंतरराष्ट्रीय अधिकार संगठनों और स्थानीय पत्रकारों ने अलग-अलग आंकड़े जारी किए हैं। नॉर्वे, ईरानएचआर में स्थित एक ईरान-केंद्रित मानवाधिकार समूह ने पूरे ईरान में विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद से 154 मौतों की संख्या की गणना की। ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा कि 31 सितंबर तक, ईरानी राज्य-संबद्ध मीडिया ने मौतों की संख्या 60 दर्शाई।

अभी पढ़ें  दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

First published on: Oct 09, 2022 11:31 AM
संबंधित खबरें