Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

क्या आतंकी निज्जर की हत्या में पाकिस्तान की ISI का हाथ? बेटे ने भी किया बड़ा खुलासा

Is Pakistani ISI Behind Hardeep Singh Nijjar murder: कनाडा में मारे गए खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। CNN News 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, निज्जर की हत्या में आईएएसआई हाथ हो सकता है। भारत सरकार के सूत्रों के मुताबिक आईएसआई भारत को बैकफुट पर लाने के लिए […]

Edited By : Bhola Sharma | Updated: Sep 27, 2023 23:20
Share :
Pakistan ISI, Inter-Services Intelligence, Hardeep Singh Nijjar murder, India-Canada Row
Hardeep Singh Nijjar murder

Is Pakistani ISI Behind Hardeep Singh Nijjar murder: कनाडा में मारे गए खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। CNN News 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, निज्जर की हत्या में आईएएसआई हाथ हो सकता है। भारत सरकार के सूत्रों के मुताबिक आईएसआई भारत को बैकफुट पर लाने के लिए निज्जर को खत्म करना चाहती थी। दरअसल, निज्जर की जून में कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया में अज्ञात हमलावरों ने उस समय गोली मारकर हत्या कर दी, जब वह अपनी कार के अंदर था।

कनाडा में ISI के दो बड़े एजेंट

रिपोर्ट के मुताबिक, राहत राव और तारिक कियानी कनाडा में आईएसआई के दो एजेंट हैं और ये दोनों निज्जर की हत्या के काम में शामिल हो सकते हैं। निज्जर के करीब जाना उसके किसी परिचित के बिना असंभव था क्योंकि वह बहुत सतर्क और सतर्क रहता था।

राव और कियानी शायद निज्जर को खत्म करना चाहते थे ताकि वे ड्रग और इमीग्रेशन बिजनेस पर सीधे नियंत्रण कर सकें। सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि वधावा सिंह और रणजीत सिंह नीता जैसे पाकिस्तान स्थित समूह नेताओं के साथ निज्जर की निकटता भी आईएसआई के लिए एक समस्या थी क्योंकि ये लोग बड़े कार्यों को अंजाम देने में असमर्थ थे।

निज्जर के बेटे का दावा- कनाडाई खुफिया एजेंसी के संपर्क थे पिता

इस बीच निज्जर के बेटे बलराज सिंह ने दावा किया कि उनके पिता कनाडाई सुरक्षा खुफिया सेवा (सीएसआईएस) के नियमित संपर्क में थे और मारे जाने से छह दिन पहले उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात की थी। बलराज ने कहा कि निज्जर की हत्या के दो दिन बाद सीएसआईएस के कुछ अधिकारियों से मिलने की योजना थी।

बलराज ने कनाडा के नेशनल ऑब्जर्वर अखबार को बताया कि बैठकें फरवरी में शुरू हुईं और अगले तीन या चार महीनों में इनकी संख्या बढ़ गई। 21 वर्षीय ने यह भी कहा कि सुरक्षा खतरों के कारण उसके पिता को घर पर रहने की सलाह दी गई थी।

बलराम के दावे ने भारतीय एजेंसियों को यह सवाल करने पर मजबूर कर दिया है कि अगर कनाडा के पास भारतीय एजेंटों के खिलाफ विशेष खुफिया जानकारी थी तो निज्जर को सुरक्षा क्यों नहीं दी गई।

कनाडा और भारत के बिगड़े संबंध

कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो के निज्जर की हत्या में संभावित भारतीय संबंध के आरोप के बाद ओटावा और नई दिल्ली के बीच संबंध पिछले हफ्ते एक नए निचले स्तर पर पहुंच गए। भारत ने ट्रूडो के दावों पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्हें बेतुका और राजनीति से प्रेरित बताया। नई दिल्ली ने इस मामले में ओटावा द्वारा एक भारतीय अधिकारी को निष्कासित करने के बदले में एक वरिष्ठ कनाडाई राजनयिक को भी निष्कासित कर दिया।

हालांकि, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को कहा कि अगर कनाडा सिख अलगाववादी नेता की हत्या पर प्रासंगिक जानकारी प्रदान करता है तो भारत इस मामले को देखने को तैयार है।

जयशंकर बोले- सबूत दीजिए सहयोग करेंगे

जयशंकर ने कहा कि हमने कनाडाई लोगों से कहा कि यह भारत सरकार की नीति नहीं है। हमने कनाडाई लोगों से कहा कि देखिए यदि आपके पास कुछ विशिष्ट है, यदि आपके पास कुछ प्रासंगिक है, तो आप जानते हैं, हमें बताएं। हम इसके लिए तैयार हैं इसे देखते हुए। नई दिल्ली का दावा है कि कनाडा ने निज्जर की हत्या के दावे के समर्थन में अभी तक कोई सबूत नहीं दिया है।

यह भी पढ़ें: Audi से टक्कर के बाद बाइक से निकला आग का फव्वारा, VIDEO में देखें कैसे बची खिलाड़ी की जान

First published on: Sep 27, 2023 11:20 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें