Monday, November 28, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

बैन के कुछ घंटे बाद PFI ने भंग किया संगठन, अब्दुल सत्तार बोले- सरकार का फैसला स्वीकार

एनआईए के नेतृत्व में पिछले हफ्ते देश भर के 15 राज्यों में 93 स्थानों पर छापे मारे गए थे और देश में आतंकवादी गतिविधियों का कथित रूप से समर्थन करने के लिए 100 से अधिक पीएफआई नेताओं को गिरफ्तार किया था।

नई दिल्ली: केंद्र सरकार की ओर से बैन किए जाने के बाद इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के नेता अब्दुल सत्तार ने कहा कि संगठन ने केंद्र सरकार के फैसले को स्वीकार कर लिया है। उन्होंने कहा कि इस संगठन को पांच साल के लिए प्रतिबंधित करने की गृह मंत्रालय की अधिसूचना के मद्देनजर भंग किया जा रहा है।

अभी पढ़ें PFI Ban: कांग्रेस के बाद लालू यादव ने की RSS पर बैन की मांग, कहा- ये तो PFI से भी बदतर

केरल में संगठन की इकाई के महासचिव सत्तार ने कहा कि सभी पीएफआई सदस्यों और जनता को सूचित किया जाता है कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) को भंग कर दिया गया है। एमएचए ने पीएफआई पर प्रतिबंध लगाने की अधिसूचना जारी की है। कानून का पालन करने वाले नागरिकों के रूप में हम निर्णय को स्वीकार करते हैं।

पीटीआई की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि सत्तार को संगठन के फेसबुक पेज पर संदेश पोस्ट करने के कुछ घंटों बाद राज्य के अलाप्पुझा से गिरफ्तार किया गया था। सत्तार संगठन के कार्यालयों पर देशव्यापी छापेमारी और उसके नेताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ 23 सितंबर को राज्यव्यापी हड़ताल बुलाकर कथित रूप से फरार था। गिरफ्तारी के बाद सत्तार को एनआईए को सौंपे जाने की संभावना है।

100 से अधिक नेताओं को किया गया था गिरफ्तार

23 सितंबर की हड़ताल के दौरान पीएफआई के कार्यकर्ता कथित तौर पर व्यापक हिंसा में लिप्त थे। पीएफआई के कार्यकर्ताओं ने छापेमारी के खिलाफ बसों, सार्वजनिक संपत्ति और यहां तक ​​कि आम जनता पर हमले किए थे। बता दें कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए के नेतृत्व में पिछले हफ्ते देश भर के 15 राज्यों में 93 स्थानों पर छापे मारे गए थे और देश में आतंकवादी गतिविधियों का कथित रूप से समर्थन करने के लिए 100 से अधिक पीएफआई नेताओं को गिरफ्तार किया था।

अभी पढ़ें PFI बैन को लेकर ओवैसी की प्रतिक्रिया, बोले- कोई मुसलमान अब अपनी बात रखेगा, तो आप…

केरल में सबसे अधिक 22 गिरफ्तारियां हुईं थीं। पीएफआई के नेताओं और कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए), प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और संबंधित राज्यों के पुलिस बलों द्वारा की गई थी।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -