Friday, 23 February, 2024

---विज्ञापन---

NDMC की आज विशेष बैठक, राजपथ का नाम बदलकर कर्तव्यपथ रखने को लग सकती है मुहर

नई दिल्ली: नई दिल्ली नगर परिषद (NDMC) की ने आज एक विशेष बैठक बुलाई है। एनडीएमसी की इस बैठक में राजपथ और सेंट्रल विस्टा लॉन का नाम बदलकर कर्तव्यपथ करने के प्रस्ताव पर चर्चा होने के आसार हैं। इस बैठक में राजपथ का नाम बदलकर कर्तव्य पथ किए जाने को लेकर प्रस्ताव पारित होने की […]

Edited By : Pankaj Mishra | Updated: Sep 7, 2022 14:19
Share :

नई दिल्ली: नई दिल्ली नगर परिषद (NDMC) की ने आज एक विशेष बैठक बुलाई है। एनडीएमसी की इस बैठक में राजपथ और सेंट्रल विस्टा लॉन का नाम बदलकर कर्तव्यपथ करने के प्रस्ताव पर चर्चा होने के आसार हैं। इस बैठक में राजपथ का नाम बदलकर कर्तव्य पथ किए जाने को लेकर प्रस्ताव पारित होने की संभावना है।

अभी पढ़ें Weather Update: आज यहां जमकर बरसेंगे बादल, जानें- IMD का अलर्ट

आपको बता दें कि इंडिया गेट पर नेताजी की प्रतिमा से लेकर राष्ट्रपति भवन तक की पूरी सड़क और क्षेत्र कार्तव्यपथ के नाम से जाना जाएगा। ब्रिटिश शासन के दौरान राजपथ को किंग्सवे के नाम से जाना जाता था। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी आठ सितंबर की शाम पूरे क्षेत्र का उद्धाटन कर सकते हैं।

दरअसल इंडिया गेट स्थित सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना के एक हिस्से का उद्घाटन जल्द होने वाला है। सूत्रों की मानें तो पीएम नरेंद्र मोदी इस हफ्ते 8 से 10 सितंबर के बीच इसका औपचारिक उद्घाटन कर सकते हैं। इससे पहले सोमवार को इसकी कुछ तस्वीरें मीडिया में सामने आई हैं। तस्वीरों में यहां तैयार किया फव्वारा, लॉन बेहद आकर्षक लग रहा है।

यह एवेन्यू राजपथ का 1.8 किमी लंबा हिस्सा है और इंडिया गेट तथा विजय चौक के बीच इसके किनारे लगे लॉन भी हैं।केंद्रीय आवास, शहरी मामलों और नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी ने बीते मंगलवार को इस निर्माणस्थल का दौरा किया था। उन्होंने अधिकारियों संग काम की प्रगति की समीक्षा की थी।

अभी पढ़ें Bharat Jodo Yatra: कांग्रेस का आज से भारत जोड़ो यात्रा, 5 महीने में 3570 किमी दूरी करेगी तय

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं कि सरकार स्थानों के नाम बदल रही है। इससे पहले भी कई जगहों के नाम सरकार ने बदल दिए हैं। मोदी सरकार के आते ही रेड कोर्स रोड का नाम बदल लोक कल्याण मार्ग कर दिया गया था। कई रेलवे स्टेशनों के नाम भी ऐसे ही बदले जा चुके हैं। सरकार का तर्क है कि आजादी के 75 साल बाद गुलामी का कोई भी प्रतीक नहीं रहना चाहिए। सबकुछ न्यू इंडिया वाले विजन को ताकतवर करने वाला साबित होना चाहिए।

अभी पढ़ें   देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

First published on: Sep 07, 2022 07:41 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें