Tuesday, September 27, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

Health Tips: दिल के लिए रामबाण है यह तेल, इस्तेमाल से नहीं आता अटैक, कैंसर भी भागता है दूर

Health Tips: देश में तेजी से दिल के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। व्यस्त जीवन शैली के कारण अनियमित आहार, जंक फूड खाना, या अधिक मसालेदार भोजन दिल की बीमारी का मुख्य कारण है।

Health Tips: हमारे शरीर का दिल यानी हार्ट (Heart) मुख्य अंग है। यह बिना रूके-थके लगातार 24 घंटे काम करता रहा है। और जैसे ही यह काम करना बंद करता है इंसान की मौत हो जाती है। यह एक दिन में तकरीबन 1 लाख बार धड़कता है।

हमारा दिल छाती के बाईं ओर होता है, जो कि 24 घंटों में पूरे शरीर में 5000 गैलन रक्त पंप करता है। हृदय का मुख्य कार्य हमारे टिश्यू को ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की आपूर्ति करना है। अगर यह अंग अपने काम को पूरा करने में विफल रहता है, तो इसका परिणाम जीवन के लिए खतरा भी साबित हो सकता है।

अभी पढ़ें – बेवजह लगने लगे थकान तो तत्काल हो जाएं सावधान, इस बीमारी ने दे दी है दस्तक!

ऐसे में हमें अपने दिल का खास ख्याल रखना चाहिए। डॉक्टरों के मुताबिक हम अपने खानपान के जरिए सेहत और दिल का ख्याल रख सकते हैं। जानकारों के मुताबिक खाने में सरसों के तेल (Mustard Oil) के इस्तेमाल से हम दिल की बिमारी से दूर रह सकते हैं।

सरसों के तेल के फायदे ( Benefits of Mustard Oil)

  • सरसों के तेल (Mustard Oil) में भरपूर मात्रा में मोनोअनसैचुरेटिड फैट और पॉलीअनसैचुरेटिड फैट पाया जाता है, जो खराब कोलेस्ट्रॉल को घटाने में मदद करते हैं और अच्छे एचडीएल कोलेस्ट्रॉल (Celastrol) बढ़ाते हैं, ताकि कोलेस्ट्रॉल का बैलेंस बना रहे। इससे दिल हेल्‍दी बना रहता है और सही तरीके से काम करता है।
  • सरसों का तेल एक जीवाणुरोधी, वायरसरोधी और फंफूद रोधी एजेंट के रूप में भी अच्छी तरह काम करता है और पाचन तंत्र में बैक्टीरिया के संक्रमण से लड़ने में मदद करता है।
  • इसमें ओमेगा-3 और ओमेगा-6 वसा अम्ल के सर्वोत्तम अनुपात और संतृप्त वसा की कम मात्रा के कारण अन्य तेलों से यह बेहतर है। इसमें करीब 60 फीसदी मोनोसैचुरेटिड वसा (एमयूएफए), साथ ही पॉलीअनसैचुरेटिड वसा और संतृप्त वसा होती है। ये वसा अम्ल ‘उपयुक्त वसा’ माने जाते हैं।

अभी पढ़ें – Benefits of Dhanurasana: कई बीमारियों का इलाज है धनुरासन, रोज अभ्यास करने से मिलेंगे ये जबदस्त फायदे

  • इसमें ओमेगा-3 और ओमेगा-6 वसा के साथ-साथ एमयूएफए और पीयूएफए के अम्ल होते हैं। ये उपयुक्त वसा हृदय रोगों के विकास के जोखिम को कम करते हैं और यह एक बेहद शक्तिशाली प्राकृतिक उत्तेजक है, जो पाचन में सुधार करता है और पाचन रसों को तैयार करने में मदद कर भूख बढ़ाता है।
  • इसमें कैंसर (Cancer) से लड़ने वाले तत्व काफी अधिक होते हैं और इसमें भारी मात्रा में लिनोलिनिक एसिड होता है, जो ओमेगा-3 वसा अम्ल में परिवर्तित हो जाता है और कैंसर को रोकने में मदद करता है।

अभी पढ़ें – हेल्थ से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें 

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -