Saturday, 20 April, 2024

---विज्ञापन---

नासा के मून मिशन Artemis-1 में तकनीकी गड़बड़ी, ईंधन रिसाव के चलते दूसरी बार टली लॉन्चिंग

नई दिल्ली: नासा आज अपने मून मिशन Artemis 1 को लॉन्च करने वाला था। रात के 12 बजे के करीब इसे लॉन्च किया जाना था। लेकिन एक बार फिर से ईंधन का रिसाव और दरार के चलते लॉन्चिंग को रोक दिया गया था। दूसरी बार, लॉन्च टीम ने 322-फुट (98-मीटर) रॉकेट में लगभग 1 मिलियन […]

Edited By : Gyanendra Sharma | Updated: Sep 12, 2022 14:43
Share :

नई दिल्ली: नासा आज अपने मून मिशन Artemis 1 को लॉन्च करने वाला था। रात के 12 बजे के करीब इसे लॉन्च किया जाना था। लेकिन एक बार फिर से ईंधन का रिसाव और दरार के चलते लॉन्चिंग को रोक दिया गया था। दूसरी बार, लॉन्च टीम ने 322-फुट (98-मीटर) रॉकेट में लगभग 1 मिलियन गैलन ईंधन लोड करना शुरू किया लेकिन फिर से रिसाव शुरू हो गया। पहले खराब इंजन सेंसर और लीक होने वाले ईंधन के कारण सोमवार के प्रयास को रोक दिया गया था। अगली बार ये कब होगी इसके लिए नासा ने फिलहाल कोई बयान जारी नहीं किया है।

अभी पढ़ें हमले में बाल-बाल बचीं अर्जेंटीना की उपराष्‍ट्रपति क्रिस्‍टीना फर्नांडीज, आरोपी गिरफ्तार

लॉन्चिंग से पहले हुआ रिसाव
“लॉन्च नियंत्रकों ने इंजन खंड में एक त्वरित डिस्कनेक्ट को गर्म करने के बाद कोर चरण में तरल हाइड्रोजन के प्रवाह को फिर से शुरू कर दिया है जहां त्वरित डिस्कनेक्ट की जमीन और उड़ान पक्ष प्लेटों के बीच गुहा में हाइड्रोजन रिसाव का पता चला था। नासा ने अपने ब्लॉग पोस्ट में कहा, टीमों ने इसे फिर से स्थापित करने और उचित मुहर लगाने का प्रयास करने के लिए त्वरित डिस्कनेक्ट को गर्म कर दिया।

नासा के लॉन्च कंट्रोल ने बताया कि जैसे ही सूरज निकला, एक अति-दबाव अलार्म बज गया और टैंकिंग ऑपरेशन को कुछ समय के लिए रोक दिया गया, लेकिन कोई नुकसान नहीं हुआ और प्रयास फिर से शुरू हो गया। लेकिन कुछ मिनट बाद रॉकेट के निचले हिस्से में इंजन सेक्शन से हाइड्रोजन ईंधन का रिसाव होने लगा। नासा ने ऑपरेशन रोक दिया जबकि इंजीनियरों ने सील के चारों ओर एक गैप को भरना शुरू किया।

अभी पढ़ें अमेरिका में 30 से अधिक बच्चे मंकीपॉक्स पॉजिटिव, अकेले टेक्सास में 9 मामले सामने आए

क्यों अहम है ये मिशन?

नासा चंद्रमा के चारों ओर रॉकेट के ऊपर क्रू कैप्सूल भेजना चाहता है, इसे अंतरिक्ष यात्रियों के अगली उड़ान पर पहुंचने से पहले सीमा तक धकेलना चाहता है। यदि परीक्षण डमी के साथ पांच सप्ताह का डेमो सफल होता है तो अंतरिक्ष यात्री 2024 में चंद्रमा के चारों ओर उड़ सकते हैं और 2025 में उस पर उतर सकते हैं। लोग आखिरी बार 50 साल पहले चंद्रमा पर चले थे। 53 साल बाद अमेरिका अपने मून मिशन आर्टेमिस के जरिए इंसानों को चांद पर एक बार फिर से भेजने की तैयारी कर रहा है। आर्टेमिस-1 इसी दिशा में पहला कदम है। इस मिशन में किसी अंतरिक्ष यात्री को नहीं भेजा जाएगा। इस फ्लाइट के साथ नासा का लक्ष्य यह जानना है कि अंतरिक्ष यात्रियों के लिए चांद के आसपास सही हालात हैं या नहीं। इसके साथ ये भी जानने की कोशिश की जाएगी कि एस्ट्रोनॉट्स चांद पर जाने के बाद पृथ्वी पर सुरक्षित लौट सकेंगे या नहीं।

अभी पढ़ें  दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

First published on: Sep 03, 2022 06:32 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें