Sunday, January 29, 2023
- विज्ञापन -

Latest Posts

Success Story: साइक्लोन में पिता को खोया तो कभी क्रिसमस नहीं मनाया, अब लंदन यूनिवर्सिटी से नीतू को मिला MBA का ऑफर, घर में खुशी का माहौल

Success Story: साल 2017 में आए साइक्लोन ओखी ने केरल और तमिलनाडु में तबाही मचा दी थी। जिसमें लाखों लोग बेघर हो गए थे इसके बीच केरल की रहने वाली नीतू ने भी अपने पिता को खो दिया था। उसके बाद से नीतू ने कोई भी क्रिसमस सेलिब्रेट नहीं किया लेकिन इस साल क्रिसमस पर उनके घर में खुशी का माहौल होगा क्योंकि वह अपनी MBA की पढ़ाई करने लंदन जा रही हैं।

अभी पढ़ें Symptoms Of Kidney Failure: कमर दर्द को साधारण समझने की भूल न करें, हो सकता है किडनी फेलियर का संकेत

लंदन की यूनिवर्सिटी से करेंगी MBA

नीतू दिसंबर में क्रिसमस के समय यूके के लिए रवाना होने वाली है और उसने मिडलसेक्स यूनिवर्सिटी में बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई के लिए यूके जाने के लिए अपनी फ्लाइट की है। नीतू के दो बड़े भाई-बहन हैं, नित्या और निधि, जो बीडीएस के अंतिम वर्ष के छात्र हैं, ने अपनी बहन को उसके सपनों को पूरा करने में मदद करने के लिए अपने हिस्से की राहत छोड़ दी।

तीनों भाई-बहन डॉक्टर बनने की ख्वाहिश रखते थे। जब जॉनसन के पास अपनी सबसे छोटी बेटी को मेडिकल स्कूल भेजने के लिए आवश्यक धन की कमी हो गई, तो नीतू ने उसके स्नातक स्तर की पढ़ाई के लिए वनस्पति विज्ञान का पढ़ाई करने का विकल्प चुना साथ ही नीतू ने अपनी पढ़ाई के लिए आंशिक रूप से धन देने और लंदन में रहने के लिए पार्ट टाइम जॉब करना तय किया है।

नीतू को मिडलसेक्स यूनिवर्सिटी से ऑफर लेटर मिलने के बाद राज्य सरकार ने हाल ही में वादा की गई राहत राशि जारी करने के लिए शर्तों में ढील देने का आदेश जारी किया था।

साल 2017 पिता को खोया

रिपोर्ट के मुताबिक, नीतू के पिता जॉनसन को मृत मान लिए जाने के हफ्तों बाद, भाई-बहनों की मां देवनेशा ने कहा, “मेरे पति मेरा सबसे मजबूत सहारा रहे हैं, अब मुझे उनके सपनों को साकार करने के लिए कुछ करना होगा। यह उनका सपना था। हमारे बच्चों के लिए एक अच्छी शिक्षा मिले और मुझे अपने बच्चों के लिए आगे बढ़ना है।”

साल 2017 में 30 नवंबर और 3 दिसंबर के बीच तमिलनाडु और केरल में कहर बरपाने ​​वाले चक्रवात ने लगभग 350 लोगों की जान ले ली थी या लापता हो गए थे। उस साल क्रिसमस था जिसे परिवार याद नहीं रखना चाहता।

शादी करने के लिए रिश्तेदारों का टॉर्चर

राज्य सरकार से मिले पैसों से उनकी बेटियों की शादी करने के लिए रिश्तेदारों द्वारा देवनेशा को लगातार उकसाया गया, लेकिन वह नहीं मानी। पूनथुरा में अपने नवनिर्मित घर में बैठी देवनेशा ने कहा, “मैं चाहती थी कि वे जितना चाहें उतना अध्ययन करें। उनके पिता यही चाहते थे। मुझे परवाह नहीं है कि वे कब शादी करना चाहते हैं।”

उन्होंने कहा कि, “मुझे अपने बच्चों पर गर्व है। उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत की है। जब तक मैं कर सकती हूं, मैं उनका समर्थन करूंगी।”

जानें आगे क्या है नीतू का सपना?

नीतू के लिए लंदन में मास्टर्स करना उनके सफर का पहला कदम है। पठानपुरम के सेंट स्टीफंस कॉलेज में अपने गाइड शिबू पी वर्गीस और वनस्पति विज्ञान विभाग के प्रमुख रॉय जॉन की मदद से, उसने अपने सपनों का पीछा करने के लिए आत्मविश्वास हासिल किया है।

अभी पढ़ें Health Update: दिल्ली के दमघोंटू वायु प्रदूषण से खुद को कैसे बचाएं…करेंगे ये काम तो नहीं होंगे बीमार

उन्होंने कहा कि, “मेरा रिसर्च पेपर पब्लिश होने के लिए तैयार है। मेरी योजना मिडलसेक्स विश्वविद्यालय, लंदन में पीएचडी करने के लिए एक गाइड खोजने की है, और व्यवसाय प्रबंधन में मास्टर्स पूरा करना पहला कदम है।”

अभी पढ़ें – शिक्षा से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -