Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

अमेरिका में गुरुपर्व समारोह के दौरान खालिस्तानी समर्थकों ने भारतीय राजदूत के साथ की धक्का-मुक्की

Khalistani supporters scuffle with Indian ambassador: न्यूयॉर्क स्थित गुरुद्वारे में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू पहुंचे थे। इस दौरान यहां खालिस्तानियों ने उनके साथ धक्का-मुक्की करने की कोशिश की।

Edited By : Shailendra Pandey | Updated: Nov 27, 2023 11:26
Share :
Indian ambassador Taranjit Singh Sandhu, Khalistani supporters, Taranjit Singh Sandhu, Indian ambassador, America

Khalistani supporters scuffle with Indian ambassador: अमेरिका में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू को न्यूयॉर्क के लॉन्ग आइलैंड में हिक्सविले गुरुद्वारे में एक कार्यक्रम के दौरान खालिस्तान समर्थकों के विरोध का सामना करना पड़ा। संधू स्थानीय संगत के साथ लॉन्ग आइलैंड के गुरु नानक दरबार में गुरुपर्व समारोह में भाग ले रहे थे। इस दौरान खालिस्तान समर्थकों ने खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की कथित हत्या में शामिल होने का आरोप लगाते हुए संधू के साथ धक्का-मुक्की करने का प्रयास किया। साथ ही गुरपतवंत पन्नू की हत्या की साजिश रचने का भी आरोप लगाया।

धक्का-मुक्की करने की कोशिश

मिली जानकारी के अनुसार, न्यूयॉर्क स्थित गुरुद्वारे में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू पहुंचे थे। लेकिन, यहां खालिस्तानियों ने उनके साथ धक्का-मुक्की करने की कोशिश की। इस दौरान खालिस्तानी समर्थकों ने कहा कि आपने हरदीप सिंह निज्जर का कत्ल किया और अब पन्नू को मारने की योजना बना रहे हैं। इसका एक वीडियो भी सामने आया है। इस कार्यक्रम के दौरान, राजदूत संधू ने गुरु नानक के एकता, एकजुटता और समानता के स्थाई संदेश पर प्रकाश डाला। इस दौरान उन्होंने लंगर में हिस्सा लिया और सभी उपस्थित लोगों के लिए आशीर्वाद मांगा।

यह भी पढ़ें- आयरिश लेखक पाॅल लिंच ने जीता 2023 का बुकर पुरस्कार, फाइनल में भारतीय मूल की लेखिका को किया परास्त

कनाडा पीएम ने लगाए थे आरोप

बता दें कि कि कुछ महीने पहले कनाडा के प्रधानमंत्री ने भारत पर निज्जर की हत्या का आरोप लगाया था, जिसके बाद भारत ने कड़ी लताड़ लगाते हुए कनाडा को राजनयिक वापस बुलाने की बात कही थी। इस बीच आरोपों के बाद, दोनों देशों ने एक-दूसरे के राजनयिकों को निष्कासित कर दिया था। वहीं, हाल ही में भारत ने कनाडा नागरिकों के लिए इलेक्ट्रॉनिक वीजा जारी करना फिर से शुरू किया। ये सेवा करीब 2 महीने तक बंद रही थी।

गौरतलब है कि खालिस्तानी संगठन किसी से छिपा नहीं है। वहीं, कनाडा में इसका काफी दबदबा है। लेकिन अब वे दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका में भी अपनी छाप छोड़ना चाहते है, जिसका असर भी देखने को मिल रहा है।

 

First published on: Nov 27, 2023 11:26 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें