Sunday, 25 February, 2024

---विज्ञापन---

साहस को सलाम: मेरा शरीर सुन्न पड़ रहा था, हिल भी नहीं पा रही थी; लकवे की शिकार 20 KM ड्राइव कर खुद पहुंची अस्पताल

Paralyzed brazilian woman story: ब्राजीलियाई महिला डोरालिस कार्नेइरो सोबरेरा गोज की कहानी काफी डरावनी है। जिन्होंने इसे टिकटॉक पर शेयर किया है। गोज ने बताया कि उन्होंने एक्सपायर्ड पेस्टो खा लिया था। जिसके बाद इलाज के लिए लगभग एक साल तक अस्पताल में रहना पड़ा था। महिला की उम्र 47 साल की है। जिन्होंने अपनी […]

Edited By : News24 हिंदी | Updated: Sep 28, 2023 11:38
Share :
Brazilian Woman, Expired Sauce

Paralyzed brazilian woman story: ब्राजीलियाई महिला डोरालिस कार्नेइरो सोबरेरा गोज की कहानी काफी डरावनी है। जिन्होंने इसे टिकटॉक पर शेयर किया है। गोज ने बताया कि उन्होंने एक्सपायर्ड पेस्टो खा लिया था। जिसके बाद इलाज के लिए लगभग एक साल तक अस्पताल में रहना पड़ा था। महिला की उम्र 47 साल की है। जिन्होंने अपनी कहानी बयां की है। बताया कि 31 दिसंबर 2021 को सॉस खरीदा था। जिसका सेवन कुछ हफ्ते बाद जनवरी 2022 में किया था। इस सॉस के ऊपर कोई एक्सपायरी डेट नहीं थी।

विक्रेता की ओर से भी सेवन को लेकर कोई निर्देश नहीं दिए गए थे। लेकिन इसका सेवन करते ही पैरालिसिस ने मुझे जकड़ लिया। अचानक हालत खराब हो रही थी। लग रहा था कि सांसें अटक रही हैं। जिसके बाद खुद गाड़ी चलाकर 20 किलोमीटर दूर अस्पताल में पहुंचीं। कार पार्क करने के बाद एकदम से शरीर ने काम करना बंद कर दिया था। गोज ने बताया कि लग रहा था कि शरीर पर कोई कंट्रोल नहीं रहा है। बॉडी से जैसे पूरा नियंत्रण को चुकी हूं। लेकिन किसी तरह से खुद को कार से बाहर फेंक दिया। संयोग से एक व्हीलचेयर लिए कर्मी को देख लिया। चिल्लाने पर वह दौड़कर आया और उसकी मदद की।

यह भी पढ़ें-20 रुपये के लिए ‘कातिल’ बना चाचा, 6 साल की बच्ची को पान मसाला की जगह चिप्स खरीदने पर दी मौत

भोजन को घर पर सही से ढककर रखें

तभी उल्टियां भी शुरू हो गईं। डॉक्टरों ने सांसों की दिक्कत के बीच ही सीटी स्कैन किया। लेकिन तब तक लकवा बढ़ चुका था। डॉक्टरों ने हिलने के लिए कहा, लेकिन मैं पैर की केवल दो अंगुलियां ही हिला पाईं। ये सब बोटुलिज्म के कारण हुआ था। जिससे बैक्टीरिया का जहर शरीर की नसों पर अटैक करता है। अकसर ये बैक्टीरिया बंद डिब्बे वाले फूड से ही जेनरेट होते हैं। जो हम घर में पकाते हैं, उसे ठीक से नहीं रखते, तो भी ये बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं।

12 से 36 घंटे में दिख सकते हैं लक्षण

इससे सांस लेने में दिक्कत, बोलने या निगलने में असक्षमता, चेहरे पर कमजोरी या दिखने में दिक्कत हो सकती है। हो सकता है कि उल्टी के साथ पेट में ऐंठन या पलके झपकने लगे। लेकिन कई बार लक्षण दिखते भी नहीं हैं। कई बार बैक्टीरिया के लक्षम 10 दिन तक नहीं दिखते। कई बार ये 12 से 36 घंटे में ही दिख जाते हैं। इसका इलाज दवा के माध्यम से संभव है। बोटुलिज्म के इलाज के लिए एंटीबायोटिक भी यूज कर सकते हैं।

First published on: Sep 28, 2023 11:03 AM
संबंधित खबरें