Monday, 26 February, 2024

---विज्ञापन---

शरिया के अनुसार पुरुष और महिलाएं समान नहीं…पढ़ें तालिबान के शिक्षा मंत्री का विवादित बयान

Taliban said According to Sharia men and women are not equal: अफगानिस्तान में तालिबान के उच्च शिक्षा कार्यवाहक मंत्री निदा मोहम्मद नदीम ने बघलान विश्वविद्यालय में एक बैठक के दौरान कहा कि शरिया के आधार पर पुरुष और महिलाएं समान नहीं हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि महिलाओं से जुड़ी चिंताओं के बहाने मौजूदा व्यवस्था […]

Edited By : News24 हिंदी | Updated: Oct 1, 2023 16:26
Share :
शरिया के अनुसार पुरुष और महिलाएं समान नहीं...पढ़ें तालिबान के शिक्षा मंत्री का विवादित बयान

Taliban said According to Sharia men and women are not equal: अफगानिस्तान में तालिबान के उच्च शिक्षा कार्यवाहक मंत्री निदा मोहम्मद नदीम ने बघलान विश्वविद्यालय में एक बैठक के दौरान कहा कि शरिया के आधार पर पुरुष और महिलाएं समान नहीं हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि महिलाओं से जुड़ी चिंताओं के बहाने मौजूदा व्यवस्था को ध्वस्त करने की कोशिश की जा रही है। पश्चिमी देश यह प्रदर्शित करने की कोशिश कर रहे हैं कि पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार हैं। हालांकि, उन्होंने इस बात जोर दिया कि महिलाएं और पुरुष “समान नहीं हैं”।

पुरुष और महिलाएं समान नहीं

अफगानिस्तान की टोलो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, निदा मोहम्मद नदीम ने इस बात पर जोर दिया कि शरिया के अनुसार पुरुष और महिलाएं समान नहीं हैं। उन्होंने ये बात बघलान विश्वविद्यालय में एक बैठक के दौरान कही थी। उन्होंने आगे कहा कि सर्वशक्तिमान अल्लाह ने पुरुषों और महिलाओं के बीच अंतर किया है। एक पुरुष शासक है, उसके पास अधिकार है और उसकी आज्ञा का पालन किया जाना चाहिए। महिला को उसकी दुनिया को स्वीकार करना चाहिए। एक महिला एक पुरुष के बराबर नहीं है।

उपयुक्त शैक्षणिक माहौल बनाने पर जोर

टोलो न्यूज के अनुसार, उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार का कर्तव्य लोगों के प्रति अच्छा व्यवहार करना और सुरक्षा और न्याय प्रदान करना है। वहीं, बघलान विश्वविद्यालय के कुछ प्रोफेसरों और छात्रों ने कार्यवाहक उच्च शिक्षा मंत्रालय से विश्वविद्यालयों, विशेषकर बघलान विश्वविद्यालय में एक उपयुक्त शैक्षणिक माहौल बनाने के लिए कहा है। बघलान विश्वविद्यालय के एक लेक्चरर सैयद सती ने कहा, “सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकताएं और शर्तें जो किसी विश्वविद्यालय को विज्ञान और अनुसंधान के मामले में आगे बढ़ा सकती हैं, वह हैं सुविधाओं और उपकरणों का प्रावधान।”

2021 से ही महिलाओं को चुनौतियों का करना पड़ रहा सामना

आपको बता दें कि 2021 में तालिबान के सत्ता में लौटने के बाद से अफगानिस्तान की महिलाओं को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। युद्धग्रस्त देश में लड़कियों और महिलाओं की शिक्षा, रोजगार और सार्वजनिक स्थानों तक पहुंच नहीं है। खामा प्रेस के अनुसार, केयर इंटरनेशनल की एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि स्कूल जाने वाली उम्र की 80 प्रतिशत अफगान लड़कियों और युवा महिलाओं को वर्तमान में अफगानिस्तान में तालिबान शासन के तहत शिक्षा तक पहुंच से वंचित कर दिया गया है।

First published on: Oct 01, 2023 04:26 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें