Saturday, December 3, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

ये हैं दुनिया के सबसे छोटे पायलट, 17 साल की उम्र में अकेले 5 महीनों में की 52 देशों की यात्रा

मैक रदरफोर्ड ने अफ्रीका और खाड़ी क्षेत्र से होते हुए भारत, चीन, दक्षिण कोरिया और जापान के साथ-साथ उत्तरी प्रशांत क्षेत्र की यात्रा की।

नई दिल्ली: बेल्जियम के 17 साल के मैक रदरफोर्ड (Mack Rutherford) ने एक साथ दो वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ते हुए छोटे विमान (small aircraft) में 52 देशों की सैर कर ली। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मैक रैदरफोर्ड ने अकेले विमान उड़ाते हुए पांच महीनों में 52 देशों की यात्रा की और छोटे विमान में दुनिया भर में अकेले उड़ान भरने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति बन गए। पांच महीने की यात्रा के बाद 17 साल के रदरफोर्ड बुधवार को बुल्गारिया के सोफिया में उतरे।

अभी पढ़ें पाकिस्तान में बाढ़ के चलते नेशनल इमरजेंसी घोषित, 937 लोगों की मौत

 

रदरफोर्ड ने सोशल मीडिया पर अपनी उपलब्धि के संबंध में एक पोस्ट किया। उन्होंने लिखा कि आधिकारिक तौर पर मैंने 2 गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं।

1. दुनिया भर में अकेले उड़ान भरने वाला सबसे कम उम्र का व्यक्ति बन गया हूं। पिछला रिकॉर्ड ट्रैविस लुडलो के नाम था।
2. अल्ट्रा लाइट विमान में अकेले दुनिया भर में उड़ान भरने वाले सबसे कम उम्र का पायलट बन गया हूं। पिछड़ा रिकॉर्ड ज़ारा रदरफोर्ड के नाम था।

रदरफोर्ड ने कहा- युवा बदलाव ला सकते हैं

मैक रदरफोर्ड ने कहा कि मैं दुनिया भर में अपनी पांच महीने की यात्रा पूरी करके बहुत खुश हूं और मैं यहां सुरक्षित और सफलतापूर्वक वापस आ गया हूं। इसमें अपेक्षा से थोड़ा अधिक समय लगा लेकिन लैंडिंग पूरी तरह से ठीक थी। इस यात्रा से मैं यह दिखाने की कोशिश कर रहा हूं कि युवा बदलाव ला सकते हैं। विशेष रूप से 18 वर्ष से कम उम्र के लोग, बस वे अपने सपनों के पीछे रहे, कड़ी मेहनत करें।

अभी पढ़ें विदेशी महिला के साथ बिस्तर पर पति को देख भड़की पत्नी, हत्या कर काट डाले अंग, फिर हांडी में पका दी बिरयानी

जानकारी के अनुसार, मैक रदरफोर्ड ने अफ्रीका और खाड़ी क्षेत्र से होते हुए भारत, चीन, दक्षिण कोरिया और जापान के साथ-साथ उत्तरी प्रशांत क्षेत्र की यात्रा की। बाद में वे संयुक्त राज्य अमेरिका में अलास्का और मैक्सिको और फिर कनाडा, यूरोप के लिए रवाना हुए।

दो बार पार किया किया भू-मध्य रेखा

द गार्जियन की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें सूडान में रेतीले तूफान, दुबई में अत्यधिक गर्मी, भारत में मानसून की बारिश और तकनीकी समेत कई अन्य चुनौतियों का सामना किया। इस साल 23 मार्च को अपनी यात्रा शुरू करने वाले रदरफोर्ड ने भूमध्य रेखा को दो बार पार किया।

अभी पढ़ें Rishi Sunak: ऋषि सुनक ने लंदन में पत्नी के साथ की गौ पूजा, पत्नी अक्षता मूर्ति भी साथ दिखीं

बता दें कि मैक रदरफोर्ड का जन्म ब्रिटिश परिवार में हुआ है, लेकिन उनका पालन-पोषण बेल्जियम में हुआ है। रदरफोर्ड ने 2020 में पायलट के लाइसेंस लिया था। दिलचस्प बात यह है कि उनकी बहन जारा रदरफोर्ड ने 19 साल की उम्र में ये रिकॉर्ड अपने नाम किया था।

अभी पढ़ें  दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -