---विज्ञापन---

बालकनाथ के साथ महारानी ने कर दिया खेला! अनुभवहीनता या कुछ और, समझें रेस से कैसे हुए बाहर?

Baba Balaknath Yogi Rajasthan CM Candidate: राजस्थान में सीएम केंडिडेट तय होने से पहले बाबा बालकनाथ के ट्वीट से अफवाहों का बाजार गर्म कर दिया है। उन्होंने अपने ट्वीट में सीएम बनने की अटकलों को लेकर विराम लगाया है।

Edited By : Rakesh Choudhary | Updated: Dec 9, 2023 13:11
Share :
Baba Balaknath Yogi Rajasthan CM Candidate
Baba Balaknath Yogi Rajasthan CM Candidate

Baba Balaknath Yogi Rajasthan CM Candidate: राजस्थान के सीएम पद की दावेदारी को लेकर कई नेताओं के नाम मीडिया की सुर्खियां बने हुए हैं। उनमें से एक हैं बाबा बालकनाथ। इस बीच आलाकमान ने राजस्थान में सीएम का नाम तय करने के लिए तीन पर्यवेक्षकों को नियुक्त किया है। कल यानी रविवार को पर्यवेक्षकों की मौजूदगी में विधायक दल की बैठक होगी जिसमें आलाकमान की राय से विधायकों को अवगत कराया जाएगा।

इस बीच चुनाव जीतने के बाद से ही सीएम की रेस में शामिल बालकनाथ के एक ट्वीट ने अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश की है। बाबा ने ट्वीट कर लिखा कि पार्टी व पीएम मोदी के नेतृत्व में जनता ने पहली बार सांसद व विधायक बनाया और देश सेवा का मौका दिया। उन्होंने कहा कि परिणाम आने के बाद से ही मीडिया और सोशल मीडिया की चर्चाओं को नजरअंदाज करें। मुझे अभी भी पीएम के मार्गदर्शन में काफी कुछ सीखना है।

यह भी पढ़ेंः कौन बनेगा राजस्थान का सीएम? वसुंधरा या कोई और… कयासों के बीच विधायक दल की बैठक कल

एक कारण यह भी

जानकारों की माने तो बाबा बालकनाथ के इस ट्वीट से यह साफ हो गया है कि वे सीएम नहीं बनने जा रहे हैं। पार्टी ने उनकी अनुभवहीनता को ध्यान में रखकर यह फैसला लिया होगा। भाजपा के जीते हुए प्रदेशों जैसे उत्तराखंड और कर्नाटक में पहले भी इस प्रकार के मामले सामने आ चुके हैं। जहां ऐसा सीएम बना दिया गया जो 5 साल तक अफसरों के भंवरजाल में फंसा रहा। ऐसे में पार्टी 2024 के आम चुनावों को ध्यान में रखकर किसी ऐसे चेहरे पर दांव लगाना चाहती है जो उन्हें आम चुनाव जीत दिला सकें।

यह भी पढ़ेंः क्या फिर राजस्थान की सीएम बनने जा रही हैं वसुंधरा राजे? समझे नड्डा से मुलाकात के सियासी मायने

अनुभवहीनता बनी बाधा

हालांकि बालकनाथ पार्टी की हिंदुत्व की धार को तेज रखते लेकिन अन्य सभी मापदंडों पर फिट नहीं बैठते। ऐसे में पार्टी किसी अनुभवी चेहरे को इस पद पर बैठाएगी। बता दें कि बाबा बालकनाथ 2019 में भाजपा के टिकट पर अलवर संसदीय क्षेत्र से जीतकर सांसद बने थे। इसके बाद अब पार्टी ने उन्हें विधानसभा चुनाव में उतारा था। यहां तिजारा सीट से उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी इमरान खान को मात दी।

इसलिए किया ट्वीट

हालांकि चुनाव परिणाम के बाद पार्टी के अन्य 3 सांसदों ने तो इस्तीफा दे दिया था लेकिन बाबा ने 1 दिन बाद इस्तीफा दिया। ऐेसे में कयास तो उस समय से ही लगाए जा रहे हैं कि पार्टी बाबा को बागडोर नहीं सौपेंगी। अब जब यह तय हो गया कि वे सीएम नहीं बनेंगे तो ऐसे में मीडिया और सोशल मीडिया पर चल रही चर्चाओं को विराम देने के लिए उन्होंने ऐसा ट्वीट किया है।

First published on: Dec 09, 2023 01:03 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें