Wednesday, 24 April, 2024

---विज्ञापन---

‘मराठाओं पर दर्ज FIR होंगी वापस’; CM शिंदे ने मनोज जरांगे के मराठा आरक्षण आंदोलन को सराहा

CM Eknath Sinde Speech Highlights: मनोज जरांगे का अनशन तुड़वाने के बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने उनकी तारीफों के पुल बांधे और मराठाओं के प्रति अपनी अपना संकल्प भी दोहराया।

Edited By : Khushbu Goyal | Updated: Jan 27, 2024 12:55
Share :
Manoj Jarange With Maharashtra CM Eknath Shinde
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने मराठों को आरक्षण देने की तैयारी शुरू कर दी है।

Maharashtra CM Eknath Sinde Speech Highlights (इंद्रजीत, मुंबई): आखिरकार महाराष्ट्र में पिछले 10 साल से चल रहा मराठा आरक्षण आंदोलन खत्म हो ही गया। लाखों मराठाओं ने जब सड़क पर उतरकर अपनी ताकत दिखाई तो महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे सरकार सरकार हिल गई।

आंदोलन खत्म करने की अपील करने पर जरांगे नहीं माने। बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी आंदोलन का समर्थन किया तो शिंदे सरकार को झुकना पड़ा। सरकार को मनोज जरांगे की सभी मांगें माननी पड़ीं। जूस पिलाकर जरांगे की भूख हड़ताल भी खत्म कराई। इस मौके पर मुख्यमंत्री शिंदे ने जरांगे के आंदोलन को भी सराहा।

 

सुप्रीम कोर्ट के फैसले तक OBC जैसी सुविधाएं मिलेंगी

मराठाओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि यह ऐतिहासिक पल हैं। हमारी सरकार लोगों की सरकार है। वोटों के लिए नहीं, जनता की भलाई के लिए फैसला लिया है।

शिंदे समिति का कार्यकाल बढ़ाता हूं। ऐलान करता हूं कि सुप्रीम कोर्ट से जब तक मराठा समाज को आरक्षण नहीं मिल जाता, तब तक मराठा समाज के लोगों को OBC समाज के जैसी सुविधाएं दी जाएंगी।

आरक्षण आंदोलन के दौरान मराठा समुदाय के लोगों पर जो FIR दर्ज की गई थी, उन्हें वापस लिया जाएगा। आरक्षण दोने का वादा किया था और अब वादा दिल से निभाऊंगा।

 

एकनाथ शिंदे ने जरांगे से की नवी मुंबई में मुलाकात

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे खुद अपने मंत्रियों के साथ मनोज जरांगे से मिलने नवी मुंबई आए। उन्होंने कहा कि मनोज जरांगे पाटिल मैं आपको बतौर मुख्यमंत्री बताना चाहता हूं कि सभी का ध्यान आपके आंदोलन पर ही था। आप लोगों ने अनुशासन का पालन करते हुए आंदोलन किया। किसी को भी तकलीफ नहीं होने दी। आपका आंदोलन यशस्वी रहा।

मैं भी किसान का बेटा हूं। मैंने भी सार्वजनिक तौर पर शपथ ली थी और आज उस शपथ का भरोसा हमने निभाया। आज मेरे गुरु आनंद दिघे की जयंती भी है। मैं यहां आए सभी लोगों का स्वागत और अभिनदंन करता हूं। अब तक मुख्यमंत्री कुनबी के रिकॉर्ड मराठवाड़ा में नहीं मिलते थे, लेकिन अब मिलने लगे हैं, क्योंकि हमारी सरकार की मानसिकता देने की है।

 

कुनबी प्रमाण पत्र जारी करने की थी प्रमुख मांग

मुख्यमंत्री शिंदे ने कहा कि आज का दिन उत्सव मनाने का है। मराठाओं की जीत हुई है। मराठवाड़ा में कुनबी पंजीकरण नहीं मिल रहा था। हमारी सरकार ने मराठवाड़ा में मराठाओं को कुनबी जाति का प्रमाण पत्र देने का काम किया है। मुझे गर्व महसूस हो रहा है कि महाराष्ट्र के इतने सारे लोगों ने एकजुटता दिखाई और संघर्ष किया। अब हमारी कोशिश रहेगी कि मराठाओं और OBC के बीच मतभेद न हों।

आंदोलन शांतिपूर्ण चला, इसके लिए बधाई देता हूं। किसान का बेटा हूं, समस्याएं, परेशानियां और कष्ट समझता हूं। बता दें कि कुनबी खेती किसानी करने वालों का समुदाय है, जो अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) कैटेगरी में आता है। जरांगे मराठा समुदाय के सभी लोगों को कुनबी प्रमाण पत्र जारी करने की मांग पर अड़े थे, जिसे एकनाथ शिंदे सरकार ने मान लिया।

First published on: Jan 27, 2024 12:21 PM
संबंधित खबरें