Saturday, 20 April, 2024

---विज्ञापन---

‘अगर आपके साथ ऐसा होता तो…,’ पीटी उषा के रुख पर पहलवान साक्षी मलिक रो पड़ीं, कहा- ‘हमारी सुनवाई हो जाती तो यहां न बैठते’

Delhi Wrestlers Protest: भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) की अध्यक्ष पीटी उषा के बयान से दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे पहलवानों को धक्का लगा है। गुरुवार की शाम पहलवान साक्षी मलिक मीडिया के सामने आईं। उनकी आंखों में आंसू थे, जो रुक नहीं रहे थे। उन्होंने कहा कि पीटी उषा ने जो कुछ कहा, उसे […]

Edited By : Bhola Sharma | Updated: Apr 28, 2023 12:38
Share :
Sakshi Malik, Wrestlers protest, Brij Bhushan, WFI Chief, chargesheet on Brij Bhushan

Delhi Wrestlers Protest: भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) की अध्यक्ष पीटी उषा के बयान से दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरने पर बैठे पहलवानों को धक्का लगा है। गुरुवार की शाम पहलवान साक्षी मलिक मीडिया के सामने आईं। उनकी आंखों में आंसू थे, जो रुक नहीं रहे थे। उन्होंने कहा कि पीटी उषा ने जो कुछ कहा, उसे सुनकर दुख हुआ है। वे खुद एक महिला हैं और बावजूद इसके महिला खिलाड़ियों की नहीं सुन रही हैं। अगर आपके साथ ऐसा होता तो भी चुप रहतीं?

साक्षी मलिक ने कहा कि हम बचपन से उनको फॉलो करते आए हैं। उनसे प्रेरित भी हुए हैं कि उन्होंने देश के लिए इतना अच्छा किया है। हमने कहां अनुशासनहीनता कर दी? हम तो शांति से यहां बैठे हैं। अगर हमारी सुनवाई हो जाती तो हम यहां बैठते भी नहीं। 3 महीने इंतजार करने के बाद हम यहां बैठे हैं।

यह भी पढ़ें: खेल के साथ हम कोई समझौता नहीं करेंगे, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने पहलवानों के धरने पर दिया बड़ा बयान

विनेश फोगाट का आरोप- उषा ने नहीं उठाया फोन

वहीं, पहलवान विनेश फोगाट ने कहा कि अगर हम सड़क पर बैठे हैं तो हमारी कुछ मजबूरी रही होगी। चाहे खेल मंत्रालय है या IOA किसी ने हमारी नहीं सुनी तब हम जनता के सामने आए हैं कि हमारी कोई नहीं सुन रहा है। पीटी उषा को हम खुद आइकन मानते थे। मैंने उनको फोन भी किया था कि मैं अपना दर्द साझा कर सकूं पर उन्होंने फोन नहीं उठाया। हम तीन महीने से इंतजार कर रहे हैं।

पीटी उषा ने कहा- खिलाड़ियों ने की अनुशासनहीनता

भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) की अध्यक्ष पीटी उषा ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष के खिलाफ धरने पर बैठे पहलवानों को अनुशासनहीन करार दिया है। गुरुवार को उन्होंने कहा कि पहलवानों का सड़क पर प्रदर्शन करना अनुशासनहीनता है। इससे भारत की छवि खराब हो रही है। अगर उन्हें कोई समस्या है तो उन्हें हमारे पास आना चाहिए था, हमसे बात करनी चाहिए थी। हमारे पास आने की बजाय वे सड़क पर उतर गए हैं, ये खेल के लिए अच्छा नहीं है।

पीटी उषा ने कहा कि पहलवानों को कम से कम समिति की रिपोर्ट का इंतजार करना चाहिए था। उन्होंने जो भी किया है, वह खेल और देश के लिए अच्छा नहीं है। यह एक नकरात्मक दृष्टिकोण है।

और पढ़िए – Anand Mohan Released: आनंद मोहन की रिहाई पर बिफरीं IAS अफसर की पत्नी, राष्ट्रपति और पीएम से की हस्तक्षेप की अपील

पहलवानों ने पीटी उषा को लिखा था लेटर

दिल्ली के जंतर-मंतर पर पहलवान विनेश फोगट, बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक, रवि दहिया और दीपक पुनिया समेत कई पहलवानों ने 23 अप्रैल से फिर से धरना प्रदर्शन शुरू किया है। इससे पहले जनवरी में पहलवानों ने प्रदर्शन किया था। आरोप है कि सात महिला पहलवानों ने भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ मध्य दिल्ली के कनॉट प्लेस पुलिस थाने में यौन उत्पीड़न की शिकायत की थी। लेकिन अभी तक केस दर्ज नहीं किया गया है। पहलवानों ने ओलंपिक संघ की अध्यक्ष पीटी उषा को मामले पर तत्काल कार्रवाई करने के लिए भी लिखा है।

और पढ़िए – देश से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहाँ पढ़ें 

First published on: Apr 27, 2023 08:12 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें