Wednesday, 28 February, 2024

---विज्ञापन---

Delhi Air Pollution : दिल्ली में खतरनाक वायु प्रदूषण के बीच खुद का कैसे करें बचाव? एक्सपर्ट्स ने बताए 6 टिप्स

Six Tips To Protect Yourself From Pollution : दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के कारण लोगों ने आंखों में जलन, सांस लेने में परेशानी, सीने में जलन और चक्कर आने की शिकायत की। ऐसे में हम एक्सपर्ट्स से बात कर आपकों प्रदूषण से बचने के लिए कुछ टिप्स बता रहे हैं।

Edited By : Pankaj Soni | Updated: Nov 3, 2023 20:21
Share :
Delhi Air Pollution, Poor AQI, cpcb, Air Pollution, Delhi ncr news, health news
दिल्ली में खतरनाक स्तर पर पहुंचे AQI के बीच खुद का कैसे करें बचाव? एक्सपर्ट्स ने बताए 6 टिप्स।

How to protect your self to from Pollution : दिल्ली-एनसीआर में तीन नवंबर की सुबह लोगों की नींद खुली तो हवा में जहर खुला हुआ था। AQI 500 तक पहुंच गया, जो खतरनाक है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के अनुसार, आनंद विहार स्टेशन, पंजाबी बाग स्टेशन, मुंडका स्टेशन में AQI स्तर ‘गंभीर’ श्रेणी में दर्ज किया गया, जो AQI 500 से ऊपर है। इस स्थिति के कारण कल शाम राजधानी में गैर-जरूरी निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया गया और प्राथमिक विद्यालय बंद कर दिये गये। हालात को देखते हुए दिल्ली और उसके आसपास चलने वाले डीजल और पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

दिल्ली में लोगों ने आंखों में जलन और गले में खुजली, सीने में दर्ज और बच्चों ने उलटी होने और मन घबराने की शिकायत की। यह सबकुछ हवा में घुले जहर की वजह से हुआ। मौसम विभाग ने दिल्ली में 15 नवंबर तक प्रदूषण के और भी बढ़ने की आशंका व्यक्त की है। ऐसे में आप प्रदूषण के चलते बीमार न हों इसके लिए एक्सपर्टस की सलाह पर हम आपको कुछ टिप्स बता रहे हैं, जिनको अपनाकर आप सुरक्षित रह सकते हैं। इसके लिए आपको इन तराकों को अपनाना होगा।

1. मास्क पहनें
विशेषज्ञों का सुझाव है कि खराब AQI वाले दिनों में लोगों को अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्रों में अनावश्यक यात्रा करने से बचना चाहिए और N95/99 मास्क पहनना चाहिए। इसके अलावा, अत्यधिक स्मॉग के मामले में, तब तक चलने या जॉगिंग से बचना चाहिए जब तक कि स्मॉग शांत न हो जाए या शाम के समय में हट न जाए। अगर किसी के पास मास्क नहीं है, तो आपातकालीन उपाय के रूप में, व्यक्ति गीले रुमाल से अपना मुंह ढक सकता है। यह प्रदूषक तत्वों को फेफड़ों में प्रवेश करने से रोकेगा। सरकारी अस्पतालों के चिकित्सा विशेषज्ञों ने लोगों को सुबह-सुबह व्यायाम करने या टहलने के लिए बाहर न निकलने की चेतावनी दी है।

2.गंभीर बीमारी वाले सावधानी बरतें
चिकित्सा विशेषज्ञों ने कहा कि लोगों को अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) जैसी श्वसन संबंधी समस्याएं हैं, वे विशेष रूप से वायु प्रदूषण के नकारात्मक प्रभावों के प्रति संवेदनशील रहें। वायु प्रदूषण से अस्थमा और सीओपीडी अचानक हो सकता है, जिससे श्वसन समस्या हो सकती है।

यह भी पढ़ें : Poor Air Quality के कारण क्या दिल्ली-एनसीआर में स्कूल होंगे बंद? पढ़ें GRAP-3 के दिशा-निर्देश

3.बच्चों के स्वास्थ्य का ध्यान रखना जरूरी
छोटे बच्चे, मध्य आयु वर्ग के लोगों की तुलना में प्रदूषित हवा के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। प्रदूषण का स्तर अधिक होने पर 8 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को घर से बाहर जाने से रोकना चाहिए। चूंकि बच्चे वयस्कों की तुलना में तेजी से सांस लेते हैं, इसलिए वे अपने शरीर के वजन के सापेक्ष अधिक हवा लेते हैं। इसके अलावा, भारी वायु प्रदूषण कण जमीन के करीब जमा हो जाते हैं, जिससे छोटे बच्चों और छोटे बच्चों को प्रत्येक सांस के साथ पीएम 2.5 की प्रचुर मात्रा में सांस लेने का खतरा बढ़ जाता है। बच्चों, बुजुर्गों, बीमारियों से पीड़ित लोगों और गर्भवती महिलाओं के लिए कमरे के अंदर एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल करना चाहिए।

4.यातायात से स्वयं को सुरक्षित रखें
वाहन प्रदूषण के प्रमुख स्रोतों में से एक है, इसलिए सड़कों पर प्रदूषण के संपर्क में आना जोखिम भरा हो सकता है, खासकर भीड़भाड़ वाले इलाकों में या यातायात में। इसलिए, यात्री कार की खिड़कियां बंद करने, रीसर्क्युलेशन बटन का उपयोग करने और मोटरसाइकिल से बचने जैसे कदम उठाना चाहिए।

5.इनडोर पौधों का उपयोग
हम जिस हवा में सांस लेते हैं उसे शुद्ध करने में पेड़ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इनडोर स्थानों को प्रदूषण से साफ रखने के लिए, सिंधैप्सस, ग्रीन मनी प्लांट, पीस लिली, एरेका पाम, स्नेक प्लांट, रबर प्लांट आदि जैसे पौधों का उपयोग किया जा सकता है क्योंकि वे हवा की गुणवत्ता को शुद्ध करते हैं और आसपास के वातावरण में ऑक्सीजन को देते हैं। ये पौधे बेंजीन, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं और हवा से धूल, शोर और विषाक्त पदार्थों को कम करते हैं।

6.उत्सर्जन को नियंत्रित करना
उच्च प्रदूषण की स्थिति में सभी प्रकार के उत्सर्जन को कम किया जाना चाहिए। भट्ठी, तंदूर के लिए लकड़ी जलाने और कोयला जलाने से बचना चाहिए क्योंकि इससे बहुत अधिक प्रदूषण होता है। इसके अलावा, विशेषज्ञ विशेष रूप से इनडोर क्षेत्रों में धूम्रपान नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह धूम्रपान करने वाले के आसपास के लोगों को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

यह भी पढ़ें : AAP सांसद राघव चड्ढा का निलंबन जल्द हो सकता है रद्द, ‘सुप्रीम सुनवाई’ के बाद मिले संकेत

First published on: Nov 03, 2023 07:47 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें