Monday, February 6, 2023
- विज्ञापन -

Latest Posts

Bihar Politics Crisis LIVE: नीतीश कुमार ने राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा, नई सरकार बनाने का दावा भी पेश किया

बिहार में बीजेपी और जेडीयू में टूट के पीछे कई कारण बताए जा रहे हैं। ये भी कहा जा रहा है कि जेडीयू की ओर से भाजपा से कई मांग की गई थी लेकिन इन मांगों पर जब भाजपा ने गौर नहीं किया तो जेडीयू ने एनडीए फोल्डर से बाहर निकलने का फैसला किया।

पटना: नीतीश कुमार ने राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंप दिया जिसे राज्यपाल ने स्वीकार कर लिया। इसके बाद उन्होंने नई सरकार बनाने का भी दावा पेश कर दिया। बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार के पास 156 विधायकों का समर्थन प्राप्त है जिसे वे राज्यपाल को सौंपेंगे। फिलहाल वे महागठबंधन के नेताओं से मुलाकात करेंगे। इससे पहले जनता दल यूनाइडेट के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने साफ किया था कि जदयू और भाजपा की राहें एक बार फिर पांच साल बाद अलग-अलग हो गईं हैं।

Updates…

  • नीतीश कुमार ने इस्तीफा देने के बाद राजभवन के बाहर मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैंने इस्तीफा दे दिया है जिसे राज्यपाल ने स्वीकार कर लिया है। सभी लोगों की इच्छी थी कि हमलोग एनडीए से अलग हो जाएं। हालांकि भाजपा की ओर से क्या परेशानी है, इस सवाल के जवाब में उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि बता देंगे।
  • राजद के 15 साल के शासन ने राज्य को पीछे ले लिया, सीएम नीतीश कुमार ने भी कई बार ऐसा कहा। वह राजद के साथ गठबंधन में जाने को कैसे जायज ठहराएंगे, जिसे उन्होंने भ्रष्ट बताया है? यह सब सत्ता के लिए राजनीति है, कोई नैतिकता नहीं है, उन्हें शर्म आनी चाहिए: केंद्रीय मंत्री आरके सिंह
  • नीतीश कुमार की साख आज शून्य है. हम चाहते हैं कि बिहार में राष्ट्रपति शासन लागू हो और राज्य को नए सिरे से जनादेश देना चाहिए। आपकी (नीतीश कुमार) कोई विचारधारा है या नहीं? अगले चुनाव में जदयू को मिलेगी 0 सीटें: चिराग पासवान, लोजपा नेता (रामविलास गुट)

  • पहले भी राजद और जदयू के बीच एक प्रयोग किया गया था लेकिन वे लंबे समय तक एक साथ नहीं रह सकते। एक बार फिर ऐसा गठबंधन आ रहा है, यह बिहार के विकास के लिए अच्छा संकेत नहीं है. आरएलजेपी अध्यक्ष पशुपति पारस ने एनडीए का हिस्सा बने रहने का फैसला किया है: केंद्रीय मंत्री और आरएलजेपी अध्यक्ष पशुपति पारस
  • सूत्रों के मुताबिक, राजद और जेडीयू के बीच विभागों के आवंटन पर कोई मतभेद नहीं होगा। तेजस्वी यादव ने कहा कि उनके पास 160 की ताकत है। अगर भाजपा अस्थिरता पैदा करने की कोशिश करती है या राष्ट्रपति शासन के लिए दबाव बनाने की कोशिश करती है, तो हम उन्हें करारा जवाब देंगे।
  • बिहार में जारी राजनीतिक बवाल पर केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर का बयान आया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा है कि भाजपा चाहती है कि नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री बने रहें।
  • दिल्ली में मौजूद बिहार भाजपा के नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि हम अपनी पार्टी को मजबूत करते हैं, हम किसी अन्य पार्टी को कमजोर नहीं करते हैं। पटना जा रहा हूं। उन्होंने कहा कि बिहार के ताजा राजनीतिक हालत पर पार्टी नेतृत्व आधिकारिक बयान देगा, पार्टी टिप्पणी करेगी, मैं नहीं करूंगा। हमने बिहार के लोगों के व्यापार और रोजगार के लिए ईमानदारी से काम किया है।
  • जद (यू) राष्ट्रीय संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने ट्वीट किया, “नए रूप में नए गठबंधन का नेतृत्व करने के लिए नीतीश कुमार को बधाई…।”
  • सूत्रों के मुताबिक, जदयू के विधायक दल की मीटिंग में पार्टी के विधायकों, एमएलसी ने नीतीश कुमार से कहा कि भाजपा 2020 से जेडीयू को कमजोर करने की कोशिश कर रहा है। साथ ही कहा कि अभी सतर्क नहीं हुए तो पार्टी के लिए अच्छा नहीं होगा।
  • बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राबड़ी देवी से मुलाकात करने उनके आवास पर जा रहे हैं।

  • बिहार  के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद के आवास पर भाजपा की बैठक खत्म हो गई है। डिप्टी सीएम के आवास से भीखुभाई दलसानिया, रेणु देवी, मंगल पांडे, नितिन नवीन, अमरेंद्र प्रताप सिंह और सम्राट चौधरी बाहर निकल चुके हैं। खबर है कि थोड़ी देर बाद भाजपा की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस की जा सकती है।
  • लालू यादव की बेटी और तेजस्वी यादव की बहन रोहिणी आचार्य ने ट्वीट किया है कि राजतिलक की करो तैयारी आ रहे हैं , लालटेन धारी। वहीं, तेजस्वी की ओर और बहन चंदा यादव ने ट्वीट कर लिखा, ‘तेजस्वी भव: बिहार।’

  • लालू प्रसाद यादव भी हर हरकत पर करीब से नजर रख रहे हैं लेकिन सब कुछ तेजस्वी यादव कर रहे हैं: राजद सूत्र
  • आज महागठबंधन की बैठक में राजद विधायकों, एमएलसी और राज्यसभा सांसदों ने पार्टी नेता तेजस्वी यादव को फैसला लेने के लिए अधिकृत किया और कहा कि वे उनके साथ हैं. कांग्रेस और वाम दलों के विधायक पहले ही कह चुके हैं कि वे तेजस्वी यादव के साथ हैं: सूत्र
  • बिहार-जदयू गठबंधन आधिकारिक तौर पर टूटा- JDU नेता ललन सिंह
  • बिहार के भाजपा से संबंधित एक मंत्री ने बताया कि हम नीतीश कुमार की ओर से किसी भी तरह के कदम उठाने का इंतजार कर रहे हैं, इसके बाद फिर हम आगे की रणनीति का खुलासा करेंगे।
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्यपाल फागू चौहान से मिलने के लिए दोपहर 12:30 का समय मांगा है। सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान तेजस्वी यादव भी नीतीश कुमार के साथ राजभवन जाएंगे।
  • बिहार में ताजा राजनीतिक घटनाक्रम पर बिहार भाजपा करीब 1:30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी।
  • बिहार भाजपा के लिए दिल्ली हाईकमान से आदेश आया है। सूत्रों की मानें तो दिल्ली आलाकमान ने कहा है कि भाजपा का कोई मंत्री इस्तीफा नहीं देगा, BJP चाहती है कि नीतीश कुमार खुद भाजपा के मंत्रियों को बर्खास्त करें।
  • बिहार महागठबंधन में शामिल राजद, कांग्रेस, वाम दल के नेता समर्थन पत्र लेकर नीतीश कुमार के पास जाएंगे।
  • सूत्रों की मानें तो जेडीयू ने बिहार के राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात का समय मांगा है।

कांग्रेस ने विधायकों के समर्थन की चिट्ठी जेडीयू को सौंपी

उधर, कांग्रेस ने अपने विधायकों के समर्थन की चिट्ठी जेडीयू को भेज दी है। कांग्रेस नेता शकील अहमद ने कहा है कि बिहार में भाजपा का जाना तय है, हम नीतीश कुमार को समर्थन देने के लिए तैयार हैं।

सूत्रों की मानें तो ये भी कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा नहीं देंगे, सिर्फ भाजपा के मंत्रियों को बर्खास्त करेंगे। इस खबर की जानकारी के बाद अब भाजपा खेमे से खबर आ रही है कि नीतीश कुमार की ओर से बर्खास्त करने से पहले ही भाजपा के सभी मंत्री इस्तीफा दे देंगे।

इससे पहले जनता दल यूनाइटेड और राष्ट्रीय जनता दल के विधायक दल की अलग-अलग बैठक हुई। जेडीयू की बैठक से पहले पार्टी के सांसद, एमएलए और एमएलसी नीतीश कुमार के आवास पर पहुंचे। बैठक में पहुंची जदयू के एमएलसी कुमुद वर्मा से बैठक का उद्देश्य पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमारी बैठक जनगणना के मुद्दे पर है। जब उनसे पूछा गया कि क्या जदयू राज्य में भाजपा के साथ गठबंधन में खुश नहीं है तो कुमुद वर्मा ने कहा कि एनडीए में सब कुछ ठीक है, हम खुश हैं।

JDU की तरफ से BJP से चार डिमांड की गई थी: सूत्र

बिहार में बीजेपी और जेडीयू में टूट के पीछे कई कारण बताए जा रहे हैं, लेकिन हमारे सूत्रों की मानें तो जेडीयू की ओर से भाजपा से कई मांग की गई थी लेकिन इन मांगों पर जब भाजपा ने गौर नहीं किया तो जेडीयू ने एनडीए फोल्डर से खुद को बाहर निकालने का फैसला किया।

जेडीयू की क्या थी बीजेपी से मांग

– बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा को हटाया जाये
– बिहार BJP के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल को भी बदला जाये
– डिप्टी CM तारकिशोर प्रसाद पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे उन्हें भी बदला जाए
– केंद्र में दो कैबिनेट और दो राज्यमंत्री दिए जाए

जेडीयू के कुछ विधायकों को 6 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर

उधर, सूत्रों की मानें तो जेडीयू के कुछ विधायकों को छह करोड़ रुपए और मंत्री पद का ऑफर दिया गया है। जेडीयू विधायकों का दावा है कि उनके पास फोन कॉल की ऑडियो रिकार्डिंग मौजूद है। जदयू विधायक दल की आज हुई बैठक में कुछ जेडीयू के विधायकों ने इस संबंध में खुलासा किया।

पहले भी नीतीश ने छोड़ा था एनडीए

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है, जब नीतीश कुमार एनडीए छोड़कर महागठबंधन के साथ सरकार बनाने जा रहे हैं।2014 लोकसभा चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी को एनडीए का पीएम उम्मीदवार घोषित किए जाने के विरोध में नीतीश कुमार ने बीजेपी से नाता तोड़ लिया था, हालांकि 2 साल बाद ही 2017 में वे महागठबंधन से अलग होकर एनडीए में लौट आए थे और 2020 में विधानसभा चुनाव भाजपा के साथ लड़ा था।

बिहार विधानसभा में सीटों की स्थिति

विधानसभा की कुल सीटें – 243 (अनंत सिंह की सदस्यता खत्म होने के बाद अभी कुल – 242)

  • भाजपा : 77
  • राजद : 79
  • जदयू : 45
  • कांग्रेस : 19
  • वामदल : 16
  • HAM : चार
  • AIMIM : एक
  • निर्दलीय : एक

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -