Wednesday, 28 February, 2024

---विज्ञापन---

Viral Video: जब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सब्जी खरीदने पहुंचीं बाजार, वायरल हो रहा वीडियो

Nirmala Sitharaman: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शनिवार को चेन्नई में सब्जी खरीदने मार्केट पहुंच गईं। इस दौरान उन्होंने सब्जी विक्रेता के दुकान से सब्जियों को चुनते देखा गया। स्थानीय विक्रेताओं के साथ वित्त मंत्री को बातचीत करते भी देखा गया। समाचार एजेंसी ANI द्वारा ट्वीट किए गए एक वीडियो में सीतारमण को चेन्नई के […]

Edited By : Om Pratap | Updated: Oct 10, 2022 12:50
Share :

Nirmala Sitharaman: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शनिवार को चेन्नई में सब्जी खरीदने मार्केट पहुंच गईं। इस दौरान उन्होंने सब्जी विक्रेता के दुकान से सब्जियों को चुनते देखा गया। स्थानीय विक्रेताओं के साथ वित्त मंत्री को बातचीत करते भी देखा गया।

समाचार एजेंसी ANI द्वारा ट्वीट किए गए एक वीडियो में सीतारमण को चेन्नई के मायलापुर इलाके में दिखाया गया है, जहां वे सब्जी की टोकरी से अपने लिए कुछ शकरकंद उठाती नजर आ रही हैं। वे वहां मौजूद स्थानीय लोगों का अभिवादन भी करती हैं और उनसे बात भी करती हैं।

अभी पढ़ें Maharashtra: शिंदे गुट के केसरकर बोले- हमारे पास सारे दस्तावेज और बहुमत है, हमें न्याय और चिन्ह भी मिलेगा

उनके कार्यालय के एक ट्वीट में कहा गया है, “चेन्नई की अपनी दिन भर की यात्रा के बाद निर्मला सीतारमण मायलापुर बाजार पहुंची जहां उन्होंने सब्जी विक्रेताओं और स्थानीय निवासियों के साथ बातचीत की और सब्जियां भी खरीदीं।

वीडियो पर टिप्पणी करते हुए एक ट्विटर यूजर ने व्यंग्यात्मक रूप से कहा कि हो सकता है कि वह खुदरा सब्जी की दुकानों को जीएसटी के तहत लाने के लिए देख रही हो… सावधान लोगों।

एक अन्य यूजर उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित था। बलरामन श्रीराम नाम के यूजर ने लिखा कि अच्छा है, लेकिन सुरक्षा के लिहाज से ये ठीक नहीं है। केंद्रीय मंत्री को सावधान रहना चाहिए।

अभी पढ़ें PM Modi Gujarat Visit: आज से तीन दिनों के लिए गुजरात दौरे पीएम मोदी, 14,500 करोड़ के प्रोजेक्ट की देंगे सौगात

इससे पहले दिन में सीतारमण ने शहर के आनंद करुणा विद्यालय पहुंचीं थी। आनंदम लर्निंग सेंटर 2018 में ऑटिज्म, डिस्लेक्सिया और धीमी गति से सीखने की अक्षमता वाले बच्चों के लिए शुरू किया गया था और विशेष रूप से उन परिवारों को ध्यान में रखकर इसे शुरू किया गया था जो इस तरह के बच्चों की देखभाल का खर्च नहीं उठा सकते।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

First published on: Oct 09, 2022 03:15 PM
संबंधित खबरें