Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

कूनो में नहीं रुक रहा चीतों की मौत का सिलसिला, एक और चीते ने तोड़ा दम, इतनी हुई संख्या

Kuno Cheetahs Died: कूनो नेशनल पार्क में दक्षिण अफ्रीका और नामीबिया से लाए गए चीतों की मौत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। अब एक और मादा चीते की मौत की खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि मादा चीता तब्लीशी पार्क में मृतक पाई गई है। 9 चीतों की […]

Edited By : Arpit Pandey | Updated: Aug 2, 2023 15:42
Share :
cheetah died
Kuno Park cheetah died

Kuno Cheetahs Died: कूनो नेशनल पार्क में दक्षिण अफ्रीका और नामीबिया से लाए गए चीतों की मौत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। अब एक और मादा चीते की मौत की खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि मादा चीता तब्लीशी पार्क में मृतक पाई गई है।

9 चीतों की हो चुकी है मौत

कूनो नेशनल पार्क में बीते 4 महीने में अब तक 6 चीतों और तीन शावकों समेत कुल 9 चीतों की मौत हो चुकी है। फिलहाल कूनो नेशनल पार्क में अब 14 चीते और एक शावक ही बचा है। जिससे इस प्रोजेक्ट को लेकर भी अब पार्क प्रबंधन की परेशानियां बढ़ गई हैं। फिलहाल मादा चीता की मौत को लेकर अब तक कोई स्पष्ट जानकारी सामने नहीं आई है।

बता दें कि पिछले दिनों लगातार होती चीतों की मौत को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव और अधिकारियों के साथ बैठक की थी। जिसमें चीतों को लेकर चर्चा हुई थी। फिलहाल दक्षिण अफ्रीका से आई एक टीम भी कूनो पार्क मे हैं, जो लगातार चीतों पर निगरानी रख रही है।

कॉलर आईडी से भी हुई थी परेशानी

चीतों के गले में लगी कॉलर आईडी से भी परेशानी हुई थी। बताया जा रहा था कि गले में पहनी कॉलर आईडी से चीतों को इन्फेंकशन हो रहा था। जिसके बाद उनके गले से कॉलर आईडी निकाल दी गई थी। जबकि सभी चीतों को खुले मैदान से वापस बड़े बाड़े में शिफ्ट भी कर दिया गया था।

बता दें कि अब तक कूनों में जिन चीतों की मौत हुई है। उनमें सबके अलग-अलग कारण रहे हैं। कुछ चीते आपसी झगड़े के बाद बुरी तरह से घायल हो गए थे। जबकि कुछ चीते डिहाइड्रेशन का शिकार हुए थे। इसके अलावा हाल ही में एक चीते की मौत की वजह गले में लगी कॉलर आईडी की वजह से हुआ इन्फेंशन भी था। ऐसे में अब कूनो पार्क में एक जांच दल भी जांच में जुटा है।

ये भी देखें: MP विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारी, आज से शुरू होगा मतदाता सूची का पुनरीक्षण कार्य

 

First published on: Aug 02, 2023 01:37 PM
संबंधित खबरें