Monday, September 26, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

30 सितंबर को मिग -21 स्क्वाड्रन होगा रिटायर, अभिनंदन ने इसी से किया था पाकिस्तान पर वार

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना अपने बेड़े से मिग-21 लड़ाकू विमानों को हटाने का फैसला लिया है। वायुसेना 30 सितंबर को पुराने मिग -21 लड़ाकू जेट के अपने चार शेष स्क्वाड्रनों में से एक को सेवानिवृत्त करने के लिए तैयार है। एक अधिकारी ने बताया कि एयरफोर्स 30 सितंबर को अपने मिग-21 फाइटर्स के चार शेष स्क्वाड्रनों में से एक को रिटायर करेगी। श्रीनगर स्थित 51 नंबर की इस स्क्वाड्रन को ‘स्वॉर्ड आर्म्स’ के रूप में भी जाना जाता है।

विंग कमांडर (अब ग्रुप कैप्टन) अभिनंदन वर्थमान, जिन्हें 27 फरवरी, 2019 को नियंत्रण रेखा पर डॉगफाइट के दौरान एक पाकिस्तानी F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने के लिए वीर चक्र से सम्मानित किया गया था, उस समय स्क्वाड्रन का हिस्सा थे।

भारतीय वायु सेना द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट में एक आतंकी बेस का सफाया करने के एक दिन बाद डॉगफाइट हुई, जब IAF के मिराज -2000 ने 26 फरवरी, 2019 को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में इस क्षेत्र पर बमबारी की। यह हमला कश्मीर में पुलवामा आत्मघाती हमले के प्रतिशोध में था। जिसमें 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 40 जवान शहीद हो गए थे।

अधिकारी ने कहा कि अन्य तीन मिग-21 स्क्वाड्रनों को 2025 तक चरणबद्ध तरीके से हटा दिया जाएगा। हाल के वर्षों में कई मिग -21 दुर्घटनाग्रस्त हो गए हैं। दुर्घटनाओं ने भारत के सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले लड़ाकू विमान, इसके सुरक्षा रिकॉर्ड और आने वाले वर्षों में पुराने जेट को नए मॉडल के साथ बदलने की भारतीय वायुसेना की योजनाओं पर ध्यान केंद्रित किया है।

वायु सेना को 1963 में अपना पहला सिंगल-इंजन मिग-21 मिला और इसने अपनी युद्ध क्षमता को बढ़ाने के लिए सोवियत मूल के सुपरसोनिक लड़ाकू विमानों के 874 वेरिएंट को शामिल किया। पिछले छह दशकों में 400 से अधिक मिग-21 दुर्घटनाग्रस्त हुए हैं। जिनमें लगभग 200 पायलट मारे गए हैं।

 

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -