Saturday, December 3, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

Google Meet का नया अपडेट, ऑटोमैटिक फ्रेमिंग और स्पीच ट्रांसक्रिप्शन, यहां जानें सब कुछ

यह फीचर 2 नवंबर से यूजर्स के लिए उपलब्ध होने लगेंगे।

Google Meet: गूगल लगातार अपनी सेवाओं में अपडेट करता रहता है। उपभोक्ताओं की जरूरत और नई तकनीक के साथ वह अपने एप व अन्य प्रोडक्टस में नए फीचर्स जोड़ता रहता है। गूगल के पास अपने दो वीडियो-कॉलिंग प्लेटफॉर्म हैं। जो हैं Google Meet और Google Duo.

आपको यह लाभ होगा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गूगल मीट में जल्द ही नया अपडेट आने वाला है। यह अपडेट होगा ऑटोमैटिक फ्रेमिंग और स्पीच ट्रांसक्रिप्शन। अब आपको सरल भाषा में बतातें हैं कि यह दोनों होते क्या हैं और अगर आप गूगल मीट का इस्तेमाल करते हैं तो इससे आपको क्या लाभ मिलने वाला है।

अभी पढ़ें  Motorola Moto E22s की हुई भारत में एंट्री, जानें कीमत से लेकर सबकुछ

ऑटोमैटिक फ़्रेमिंग क्या है

पहले बात करते हैं ऑटोमैटिक फ़्रेमिंग फीचर की। इस फीचर में गूगल मीट पर वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के दौरान फ्रेम रेट अपने अनुसार सेट हो जाएगा। यानि जब आप लोगों से बात कर रहे होंगे तो अन्य सभी लोग फ्रेम में समान रूप से दिखाई देंगे। इसके साथ यह नया फीचर यूजर्स के फ्रेम में चेहरे पर ज़ूम इन करने की भी सुविधा देगा।

ऐसे काम करेगा

जानकारी के मुताबिक यह फीचर केवल एक बार वीडियो कॉल की शुरुआत में ही काम करेगा ताकि मीट के दौरान कोई मोशन डिस्ट्रैक्शन न हो। वैसे इसके बाद भी आपके पास सेटिंग में जाकर किसी भी समय वीडियो को मैन्युअल रूप से रीफ्रेम करने का विकल्प होगा। यह फीचर डिफ़ॉल्ट रूप से बंद हो जाएगा। हालांकि इसे मीटिंग के बीच में यूजर्स इनेबल कर सकता है।

अभी पढ़ें Diwali पर सस्ते दामों में मिलेगी फ्लाइट की टिकट, बस करना होगा ये छोटा-सा काम

2 नवंबर से उपलब्ध

यह फीचर 2 नवंबर से यूजर्स के लिए उपलब्ध होने लगेगा। कंपनी के मुताबिक मीटिंग होस्ट गृगल मीट हार्डवेयर डिवाइस का उपयोग करते हुए ब्रेकआउट रूम के लिए कॉन्फ़्रेंस रूम असाइन करने में सक्षम होंगे। इसके ज़रिए, मीटिंग में शामिल सभी लोग चाहे वे ऑफिस के बाहर हो या ऑफिस से हों कोलैबोरेटिव वर्किंग सेशन में इंगेज हो सकेंगे।

स्पीच ट्रांसक्रिप्शन फीचर क्या है

इस सब के अलावा कॉल के दौरान स्पीच ट्रांसक्रिप्शन फीचर भी उपलब्ध होगा। इसमें मीट के दौरान वीडियो मीटिंग को गृगल डॉक फ़ाइल में ट्रांसक्रिप्ट कर देगा। कंपनी ने अपने ब्लॉग पोस्ट में बताया कि ट्रांसक्राइब की गई फाइल को फिर गूगल ड्राइव में होस्ट ‘मीट रिकॉर्डिंग्स’ फोल्डर में सेव हो जाएगी। फिलहाल, ट्रांसक्रिप्शन केवल अंग्रेजी में उपलब्ध होगा।

अभी पढ़ें – गैजेट्स से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -