Saturday, 20 April, 2024

---विज्ञापन---

25 साल पहले के वो 8 दिन, जब गायब नहीं ‘हाईजैक’ हुआ था IC 814, क्या है Kandahar Hijack की कहानी?

IC 814: The Kandahar Hijack: भारत का एक विमान जो अपने देश आने के लिए उड़ान भरता है, लेकिन कुछ ही देर बाद गायब नहीं हाईजैक हो जाता है। आठ दिनों तक हर भारतीय का सुख-चैन छीनने वाली एक ऐसी घटना, जिसने पूरी देश में खलबली मचाई। जानें क्या है IC 814: The Kandahar Hijack की कहानी?

Edited By : Nancy Tomar | Updated: Mar 2, 2024 14:37
Share :
IC 814: The Kandahar Hijack
IC 814: The Kandahar Hijack, image credit- News24

नैन्सी तौमर, 

IC 814: The Kandahar Hijack: आज से 25 साल पहले भारत के विमान IC 814 ने काठमांडू से नई दिल्ली के लिए उड़ान भरी थी। इस फ्लाइट ने भारत आने के लिए उड़ान तो भरी, लेकिन ये इंडिया नहीं पहुंचा। भारतीय विमान आईसी 814 (IC 814: The Kandahar Hijack) के साथ एक ऐसी ही घटना 25 साल पहले हुई थी, जिसने पूरे देश की नींद छीन ली। इस सच्ची घटना पर आधारित IC 814: The Kandahar Hijack नाम की सीरीज नेटफ्लिक्स पर जल्द ही रिलीज की जाएगी। आइए आपको इस कहानी के बारे में बताते हैं कि आखिर 25 साल पहले क्या हुआ था?

पूरा देश हो गया था सन्न

24 दिसंबर 1999, भारत का IC 814 विमान अपने देश लौटने के लिए उड़ान भरता है, लेकिन कुछ ही देर बाद आई खबर ने ना सिर्फ विमान में सफर कर रहे यात्रियों, बल्कि पूरे देश को सन्न कर दिया। दरअसल, खबर आई कि काठमांडू के त्रिभुवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट से जिस विमान ने भारत आने के लिए शाम साढ़े चार बजे उड़ान भरी थी, वो पांच बजे तक गायब हो गया। जैसे ही ये खबर आई तो भारत के लोगों में दहशत छा गई और सबको अपने ‘वतन वालों’ की चिंता सताने लगी।

गायब नहीं हाईजैक हुआ भारतीय विमान

दरअसल, भारतीय विमान IC 814 कहीं गायब नहीं हुआ था बल्कि उसे हाईजैक किया गया और किडनैपर्स ने हथियारों के दम पर इस प्लेन को पाकिस्तान ले जाने का आदेश दिया। जैसे ही ये बात सामने आई, ये खबर पूरी दुनिया में फैल गई। भारतीय विमान के हाइजैक होने पर पूरे विश्व में खलबली मच गई। जैसे ही शाम के 6 बजे तो इस प्लेन को अमृतसर में लैंड कराया गया, लेकिन कुछ ही देर बाद इसे लाहौर के लिए उड़ान भरने के लिए कहा गया। हालांकि पाकिस्तान सरकार ने इस विमान की लैंडिंग की परमिशन नहीं दी और बिना इजाजत के ही भारतीय प्लेन आईसी 814 ने रात 8 बजकर 7 मिनट पर लैंडिंग की, लेकिन सुबह होते ही विमान ने फिर लाहौर से दुबई के लिए उड़ान भरी और करीबन साढ़े आठ बजे अफगानिस्‍तान के कंधार में फिर से भारतीय विमान की लैंडिंग हुई।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Netflix India (@netflix_in)

27 यात्रियों को किया रिहा

इस दौरान एक यात्री की मौत हुई और जब प्लेन में ईंधन भरने की बात आई तो एक समझौता किया गया और इस समझौते में दुबई में 27 यात्रियों को रिहा कर दिया गया। इसके एक दिन बाद एक डायबिटीज मरीज को भी छोड़ा गया और एक कैंसर मरीज को सिर्फ 90 मिनट के लिए प्लेन से बाहर जाने दिया गया, लेकिन इसके बावूजद भी पूरे देश में विमान हाईजैक को लेकर सनसनी मची हुई थी।

तालिबान के सख्त मिजाज के सामने मजबूर हुए किडनैपर्स 

इस खबर से जैसे दुनियाभर में तूफान मचा था वैसे ही ये भारत सरकार के लिए ये गले की फांस बन रहा था। कोई दुआ कर रहा था, तो कोई अपने परिवार के लिए प्रदर्शन और इस बीच आती है किडनैपर्स की डिमांड। जी हां, किडनैपर्स ने मांग की, कि उनके 36 आतंकी साथियों को रिहा किया जाए और 20 करोड़ अमेरिकी डॉलर बतौर फिरौती दिए जाएं। साथ ही एक कश्मीरी अलगाववादी की लाश भी उन्हें सौंपी जाए। अब इस मामले में तालिबान की एंट्री होती है और किडनैपर्स को पैसे और लाश की मांग मजबूरी में छोड़नी पड़ती है क्योंकि उस वक्त तालिबान सरकार ने सख्त रवैया दिखाया था। भारत के तत्‍कालीन गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने कहा था कि तालिबान ने साथ दिया है और कहा कि अगर कंधार में किसी भी तरह का खून-खराबा होता है, तो वो विमान को नहीं छोड़ेंगे और उस पर हमला कर दिया जाएगा। तालिबान के सख्त मिजाज को देखते हुए किडनैपर्स ने अपने कदम पीछे तो जरूर किए, लेकिन उन्होंने भारत में बंद आतंक‍ियों की रिहाई की मांग नहीं छोड़ी।

तीन आतंकियों को छोड़ने का फैसला और भारत सरकार की आलोचना

भारत के जिस विमान को हाईजैक किया गया, उसमें भारतीय यात्रियों के अलावा, ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, कनाडा, फ्रांस, इटली, जापान, स्पेन और अमेरिका के भी लोग थे। अब जब भारत सरकार के सामने कोई विकल्प नहीं बचा, तब तत्कालीन एनडीए सरकार ने तीन आतंकियों को छोड़ने का फैसला किया और कहा कि कंधार ले जाकर इन्हें रिहा कर दिया जाएगा और इसमें नाम आया मौलाना मसूद अजहर, अहमद जरगर और शेख अहमद उमर सईद का।

यह भी पढ़ें- Kareena Kapoor के बेहद करीब हैं सारा-इब्राहिम, Anant-Radhika की प्री-वेडिंग सेरेमनी में दिखा खास बॉन्ड

वतन वापस लौटे भारतीय, तो नम हुई आंखें

भारत का विमान आईसी 814: कंधार हाईजैक… इस घटना में अटल बिहारी बाजपेयी सरकार की खूब आलोचना हुई। लोगों ने सरकार को तरह-तरह की बातें सुनाईं, लेकिन सरकार के पास कोई रास्ता नहीं था और फिर 8 दिन बाद यानी 31 दिसंबर को भारतीय सरकार और किडनैपर्स के बीच समझौता हुआ, तब जाकर 155 बंधक यात्रियों को दक्षिणी अफगानिस्तान के कंधार एयरपोर्ट से रिहाई मिली और जब भारतवासी अपने वतन लौटे तो हर कोई बेहद भावुक था।

IC 814: The Kandahar Hijack पर आ रही सीरीज

आईसी 814: कंधार हाईजैक की ये घटना किसी बुरे सपने से कम नहीं थी। जब देश का हर एक इंसान अपने लोगों के लिए दुआ कर रहा था। अब इस खौफनाक घटना पर एक सीरीज आ रही है, जिसे जल्द ही रिलीज किया जाएगा। हाल ही में इसका टीजर भी जारी किया गया है, जो बेहद शानदार है। इस सीरीज में दिखाया जाएगा कि कैसे वो आठ दिन पूरे देश के लिए बैचेनी का सबब बन गए थे।

First published on: Mar 01, 2024 04:11 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें