Saturday, December 3, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

‘भारत-चीन को बातचीत के जरिए आपसी मुद्दों को सुलझाना चाहिए’, विदाई भाषण में बोले चीनी राजदूत

Sun Weidong: सुन ने कहा कि दोनों पक्षों को मतभेदों को प्रबंधित करने और हल करने का प्रयास करना चाहिए और बातचीत के माध्यम से एक उचित समाधान की तलाश करनी चाहिए।

नई दिल्ली: चीनी राजदूत सुन वेइदॉन्ग ने अपने विदाई भाषण में कहा है कि भारत और चीन को बातचीत के जरिए आपसी मुद्दों को सुलझाने पर बल देना चाहिए। चीनी राजदूत सुन वेइदॉन्ग ने ये भी कहा कि दोनों देशों को एक दूसरे के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने से बचना चाहिए।

अपने कार्यकाल को अविस्मरणीय’ बताते हुए सुन ने कहा कि मैंने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लंबे समय तक भारत-चीन के बीच गतिरोध को देखा और इस दौरान भारत में चीनी राजदूत के रूप में कार्य किया। दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण संबंधों का भी जिक्र किया।

अभी पढ़ें Ash Carter Dies: अमेरिका के पूर्व रक्षा सचिव ऐश कार्टर का निधन, विदेश मंत्री जयशंकर ने शोक व्यक्त किया

भारत-चीन के संबंधों को लेकर कही ये बात

यह संकेत देते हुए कि लंबित मुद्दों के लिए संकल्प और बातचीत का इस्तेमाल किया जाना चाहिए, निवर्तमान चीनी दूत ने कहा कि चीन और भारत के बीच कुछ मतभेद होना ‘स्वाभाविक’ था। उन्होंने कहा कि जरूरी ये है कि मतभेदों को कैसे संभाला जाए। हमें इस बात से अवगत होना चाहिए कि दोनों देशों के सामान्य हित मतभेदों से अधिक हैं।

सुन ने कहा कि दोनों पक्षों को मतभेदों को प्रबंधित करने और हल करने का प्रयास करना चाहिए और बातचीत के माध्यम से एक उचित समाधान की तलाश करनी चाहिए। उन्होंने गैर-हस्तक्षेप नीति की वकालत की और कहा कि दोनों पक्षों को गलत अनुमान और गलतफहमी से बचने के लिए आपसी समझ को गहरा करना चाहिए।

निवर्तमान राजदूत ने कहा कि चीन और भारत हजारों वर्षों से पड़ोसी रहे हैं और भविष्य में भी पड़ोसी बने रहेंगे। यदि भू-राजनीति के पश्चिमी सिद्धांत को चीन-भारत संबंधों पर लागू किया जाता है, तो हम जैसे प्रमुख पड़ोसी देश अनिवार्य रूप से प्रत्येक को अन्य खतरों और प्रतिद्वंद्वियों के रूप में देखेंगे।

रवींद्रनाथ टैगोर का भी किया जिक्र

उन्होंने कहा कि प्रसिद्ध भारतीय कवि रवींद्रनाथ-टैगोर ने कहा है कि हम पूर्वी न तो पश्चिम के दिमाग और न ही पश्चिम के स्वभाव को उधार ले सकते हैं। हमें जन्म लेने के अपने अधिकार की खोज करने की आवश्यकता है। मैं टैगोर की इस विचारधारा से पूरी तरह सहमत हूं।

अभी पढ़ें पीएम सुनक का स्पष्ट संदेश 2030 तक भारत से व्यापार होगा दोगुना

भारत-चीन संबंधों को मजबूत करने का संकेत देते हुए उन्होंने कहा, “अब तक, भारतीय छात्रों को 1800 से अधिक वीजा जारी किए गए हैं, और हमें उम्मीद है कि हमारे दोनों लोगों के बीच यात्राओं का अधिक से अधिक आदान-प्रदान होगा।”

अभी पढ़ें – दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -