Thursday, 18 April, 2024

---विज्ञापन---

क्या है जेमिनी AI, जिसे लेकर विवाद में फंसी Google, CEO सुंदर पिचाई ने मांगी माफी

Sundar Pichai Apologizes For Gemini AI Controversy : जेमिनी AI को लेकर गूगल बुरी तरह फंस गई है। जेमिनी AI की विफलता को लेकर गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने माफी मांगते हुए कहा कि यह अस्वीकार्य और गलत है। हमारी टीम जेमिनी एआई में हुई गलतियों को सुधारने में जुटी हुई है।

Edited By : Deepak Pandey | Updated: Feb 28, 2024 18:48
Share :
Sundar Pichai
जेमिनी AI की असफलता पर गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने मांगी माफी।

Sundar Pichai Apologizes For Gemini AI Controversy : गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। जेमिनी एआई की असफलता के बाद यह कहा जा रहा है कि वे यह तो अपने पद से खुद इस्तीफा दे देंगे या फिर कंपनी उन्हें निकाल देगी। इस बीच सुंदर पिचाई ने एआई चैटबॉट जेमिनी को लेकर हुए विवाद पर एक पत्र जारी किया है।

सुंदर पिचाई ने Semafor को लिखे पत्र में कहा कि मैं जेमिनी एआई में हुई गलती के लिए माफी मांगता हूं। उन्होंने कहा कि मैं जेमिनी एआई को लेकर बात करना चाहता हूं। कुछ गलत इमेज और टेक्सट रिस्पॉन्सेज से यूजर्स नाराज हैं। इसका रिस्पॉन्स एकतरफा रहा, जिसे कंपनी गलत मान रही है। जो हुआ वो गलत था, इसलिए हमारी टीम इस एप में सुधार करने के लिए लगातार कार्य कर रही है।

यह भी पढ़ें : मुकेश अंबानी बने दुनिया के दूसरे सबसे ताकतवर CEO, इलोन मस्क और सुंदर पिचाई को भी छोड़ा पीछे

ChatGPT के मुकाबले में गूगल ने लॉन्च किया था जेमिनी एआई

विश्वभर में इस वक्त आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस यानी एआई टेक्नोलॉजी की डिमांड बढ़ गई है। इसी क्रम में यूएस कंपनी OpenAI ने चैटजीपीटी (ChatGPT) लॉन्च किया। चैटजीपीटी आते ही गूगल की भी टेंशन बढ़ गई। इस पर गूगल ने आनन-फानन में चैटजीपीटी के मुकाबले में चैटबॉट सर्विस बार्ड (Bard) को लॉन्च कर दिया।

क्या है पूरा मामला

साल 2023 के फरवरी महीने में गूगल ने चैट बॉट बार्ड लॉन्च किया था। कुछ ही महीनों के बाद इसे रीब्रांड किया गया, जिसका नाम जेमिनी एआई रखा गया। इसे लेकर सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा था कि मानवों की तरह व्यवहार करने के लिए एआई टूल को डिजाइन किया गया। यह सर्विस में 230 से ज्यादा देशों की 40 से ज्यादा भाषाएं शामिल हैं, लेकिन लॉन्चिंग के साथ ही जेमिनी एआई विवादों में घिर गया।

यह भी पढ़ें : चोरी-छ‍िपे जासूसी कर रहे Google को देना पड़ सकता है 41,000 करोड़ का जुर्माना

विवाद बढ़ता देख गूगल ने अस्थायी रूप से किया बंद

23 फरवरी को गूगल ने एआई इमेज जनरेटर के गलत रोलआउट को लेकर माफी मांगी। पिछले दिनों जेमिनी एआई ने कुछ ऐतिहासिक तस्वीरों को गलत तरीके से डिजाइन किया था। साथ ही इस एप में पोप को महिला और अश्वेत लोगों पर गलत टिप्पणी की गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फासीवादी बताया था। इसके बाद कंपनी ने माना कि उनका जेमिनी एआई ठीक से कार्य नहीं कर रहा है। विवाद बढ़ता देख गूगल ने इसे अस्थायी रूप से बंद करने का फैसला लिया।

First published on: Feb 28, 2024 06:48 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें