---विज्ञापन---

Mainpuri By-Election: सपा ने इटावा के DM-SSP को हटाने के लिए चुनाव आयोग को लिखा पत्र, ये है बड़ी वजह

Mainpuri By-Election: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की ओर से प्रशासनिक अधिकारियों पर मैनपुरी उपचुनाव में लोगों पर अनुचित दबाव बनाकर भाजपा के पक्ष में मतदान कराने का आरोप लगाया गया है। सपा की ओर से चुनाव आयोग को इसके लिए पत्र लिखा गया गया। साथ ही […]

Edited By : Naresh Chaudhary | Updated: Nov 27, 2022 17:44
Share :

Mainpuri By-Election: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के इटावा (Etawah) जिले में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की ओर से प्रशासनिक अधिकारियों पर मैनपुरी उपचुनाव में लोगों पर अनुचित दबाव बनाकर भाजपा के पक्ष में मतदान कराने का आरोप लगाया गया है। सपा की ओर से चुनाव आयोग को इसके लिए पत्र लिखा गया गया। साथ ही इटावा जिले के जिलाधिकारी (DM) और एसएसपी (SSP) को हटाने की मांग की गई है।

इन्होंने लिखा खुला पत्र

जानकारी के मुताबिक समाजवादी पार्टी के नेता माता प्रसाद पांडेय, नरेश उत्तर पटेल, राजेंद्र चौधरी, रविदास मेहरोत्रा और केके श्रीवास्तव की ओर से सामूहिक रूप से चुनाव आयोग को एक पत्र लिखा गया है। इसमें मैनपुरी उपचुनाव के दौरान प्रशासनिक अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं।

पत्र में समाजवादी पार्टी ने लिखा ये

समाजवादी पार्टी की ओर से पत्र में लिखा है, ‘भारत निर्वाचन आयोग से समाजवादी पार्टी मांग करती है कि जनपद इटावा जिलाधिकारी अविनाश कुमार राय और इटावा एसएसपी जय प्रकाश सिंह की ओर से 199- जसवंतनगर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्यों, ब्लॉक प्रमुखों और ग्राम प्रधानों समेत अन्य सदस्यों पर भाजपा के पक्ष में मतदान करने के लिए अनुचित रूप से प्रशासनिक दबाव बनाने की कार्यवाही पर अंकुश लगाने के लिए निर्वाचन कार्यों से तत्काल प्रभाव से इन्हें हटाया जाए। ताकि स्वतंत्र, निष्पक्ष, निर्भीक और भय मुक्त चुनाव संभव हो सके।’

सपा ने पहले भी लगाए थे गंभीर आरोप

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के दौरान भी समाजवादी पार्टी की ओर से उनके खास मतदातों के वोटर लिस्ट से नाम काटे जाने का आरोप लगाया गया था। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने उस दौरान कई बार खुले मंचों से चुनाव आयोग के अधिकारियों की शिकायत की थी। इसके बाद कुछ समय पहले चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी से इस बारे में साक्ष्य पेश करने के लिए भी कहा था, जिस पर सपा ने कथित तौर पर साक्ष्य पेश करते हुए कई पन्नों की चिट्ठी भी लिखी थी।

First published on: Nov 27, 2022 05:12 PM
संबंधित खबरें