Sunday, November 27, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

सजा-ए-मौत से पहले गुर्दे में संक्रमण से मरा मुनीर, 2016 में NIA अधिकारी और पत्नी की हत्या का था दोषी

Uttar Pradesh News in Hindi: बिजनौर अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने 20 मई को मुनीर और सहयोगी रैय्यान को दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी।

Uttar Pradesh News in Hindi: बिजनौर। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बिजनौर (Bijnor) जिले में वर्ष 2016 में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के अधिकारी तंजील अहमद और उनकी पत्नी की हत्या के दोषी मोहम्मद मुनीर की मौत हो गई है। बता दें कि मुनीर को हत्याकांड के बाद गिरफ्तार करके सोनभद्र जेल भेजा गया था। जहां गुर्दे में संक्रमण के कारण उसकी मौत होना बताया गया है।

इसी साल मई में कोर्ट ने सुनाई थी सजा

जानकारी के मुताबिक बिजनौर के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विजय कुमार ने इसी साल 20 मई को मोहम्मद मुनीर और उसके सहयोगी मोहम्मद रैय्यान (28) को दोषी ठहराया था। दोनों पर वर्ष 2016 में एनआईए के डीएसपी तंजील अहमद और उनकी पत्नी की गोली मारकर हत्या करने का आरोप था। 21 मई को सजा सुनाते हुए न्यायाधीश ने कहा था अपराध ‘दुर्लभ’ था और न्यायपालिका में लोगों के विश्वास को मजबूत करने के लिए उदाहरण पेश किया जाना चाहिए। लिहाजा कोर्ट ने मुनीर और रैय्यान को मौत की सजा दी गई थी।

107 सुनवाई और 19 गवाह पेश हुए

बिजनौर जिले के सरकारी वकील (डीजीसी) वरुण राजपूत ने कहा कि कोर्ट ने छह साल में 107 सुनवाई और 19 गवाहों के बयान दर्ज करने के बाद यह फैसला सुनाया था। बिजनौर शहर के एसपी प्रवीण कुमार रंजन ने बताया कि मुनीर जेल में बंद था। उसने स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं की शिकायत की थी, जिसके बाद उसे बनारस हिंदू विश्वविद्यालय अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां गुर्दे के संक्रमण के कारण उसकी मौत हो गई।

शादी में शामिल होकर परिवार के साथ लौट रहे थे तंजील

बता दें कि इंडियन मुजाहिदीन से जुड़े कई आतंकी मामलों की जांच कर रहे एनआईए अधिकारी तंजील अहमद 2 अप्रैल वर्ष 2016 की रात अपने घर दिल्ली लौट रहे थे। तभी बाइक सवार दो लोगों ने उनकी कार रोकी और ताबड़तोड़ गोली मारकर हत्या कर दी गई। कार में उनके दो बच्चे भी मौजूद थे। जांच के बाद बता चला था कि उनकी पत्नी को तीन गोलियां लगी थीं।

पुलिस ने उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया था, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया था। इसके हत्याकांड में मोहम्मद मुनीर का नाम सामने आया था। फरार होने पर पुलिस ने उसके सिर 2 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। इसके बाद मुनीर को 28 जून 2016 को नोएडा-गाजियाबाद बॉर्डर से गिरफ्तार किया गया था।

एक ही गांव के रहने वाले थे तंजील और मुनीर

पुलिस ने बताया कि उसके खिलाफ बिजनौर, अलीगढ़ और अन्य कई शहरों में लूट व हत्या के 33 मुकदमे दर्ज थे। सामने आया था कि तंजील अहमद और आरोपी मुनीर मूलरूप से बिजनौर के सिओहारा थाना क्षेत्र के रहने वाले थे। तंजील अपने परिवार के साथ एक शादी समारोह में शामिल होने के लिए पैतृक गांव सहसपुर पहुंचे थे। जांच में सामने आया था कि तंजील और मुनीर में कोई पारिवारिक विवाद था।

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -