Friday, 23 February, 2024

---विज्ञापन---

इस राज्य में टीचर्स से पढ़ाई के अलावा नहीं कराया जाएगा कोई काम, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान

चंडीगढ़: पंजाब के हजारों टीचर्स के लिए शिक्षक दिवस 2022 का दिन खुशियों की सौगात लेकर आया है। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इस खास दिन पर शिक्षकों के लिए बड़ा ऐलान किया है। सीएम मान ने कहा कि अब प्रदेश में अब शिक्षकों से पढ़ाई के अलावा कोई काम नहीं करवाया जाएगा। इसके […]

Edited By : Nirmal Pareek | Updated: Sep 7, 2022 17:56
Share :
Big announcement of CM Bhagwant Mann
Big announcement of CM Bhagwant Mann

चंडीगढ़: पंजाब के हजारों टीचर्स के लिए शिक्षक दिवस 2022 का दिन खुशियों की सौगात लेकर आया है। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इस खास दिन पर शिक्षकों के लिए बड़ा ऐलान किया है। सीएम मान ने कहा कि अब प्रदेश में अब शिक्षकों से पढ़ाई के अलावा कोई काम नहीं करवाया जाएगा।

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कई बड़े फैसले लेते हुए पहले चरण में 8736 अध्यापक पक्के करने की घोषणा कर दी है। सीएम मान ने शिक्षक दिवस के मौके पर एक सभा को संबोधित करते हुए यह घोषणाएं कीं हैं। इस मौके पर मुख्‍यमंत्री ने कहा कि शिक्षकों का काम केवल बच्‍चों को पढ़ाना होगा। उनका इस्तेमाल किसी अन्य गैर-शैक्षणिक यानी नॉन-टीचिंग काम के लिए नहीं किया जाएगा।

लड़कियों के लिए एक शटल बस सेवा होगी शुरू

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने बड़ा फैसला लेते हुए प्रदेश के सरकारी स्कूल की छात्राओं के लिए परिवहन सुविधा शुरू करने का एलान किया। विरासत-ए-खालसा में शिक्षक दिवस के अवसर पर आयोजित एक समारोह के दौरान उन्होंने 65 शिक्षकों और नौ प्रशासकों को उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए सम्मानित किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार स्कूल जाने वाली लड़कियों के लिए एक शटल बस सेवा (स्थानीय बीएस सेवा) शुरू करेगी ताकि छात्राओं के बीच ड्रॉप-आउट रेट की जांच की जा सके।

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर जोर

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना सरकार का प्राथमिक कर्तव्य है। उन्होंने कहा परिवहन सुविधाओं के अभाव में, लड़कियों के बीच स्कूल छोड़ने की दर बहुत अधिक है, इसलिए हमने इस समस्या का सख्ती से मुकाबला करने के लिए राज्य की प्रत्येक बालिका को यह सुविधा देने का फैसला किया है।

शिक्षा का मॉडल डिजिटल करना होगा

सीएम मान ने आगे कहा कि हमें पढ़ाई का तरीका डिजिटल करना होगा। कोरोना के वक्त यह हुआ लेकिन वह माहौल नहीं बना। यह स्कूलों में होना चाहिए। टीचर्स भी तभी पढ़ा पाएगा, जब पूरा इन्फ्रास्ट्रक्चर होगा।

First published on: Sep 07, 2022 05:56 PM
संबंधित खबरें