Sunday, December 4, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

महबूबा मुफ्ती के ‘ऋषि सुनक’ वाले ट्वीट पर भड़की भाजपा, रविशंकर प्रसाद ने पूछा ये सवाल

महबूबा ने कहा था कि UK ने एक अल्पसंख्यक को PM के रूप में स्वीकार किया है, हम NRC-CAA जैसे विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण कानूनों से बंधे हैं।

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के ट्वीट को लेकर भाजपा ने पलटवार किया है। दरअसल, महबूबा मुफ्ती ने ऋषि सुनक को ब्रिटेन का प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद एक ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन ने एक अल्पसंख्यक को अपने पीएम के रूप में स्वीकार किया है और हम एनआरसी और सीएए जैसे विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण कानूनों से बंधे हैं। इस ट्वीट को लेकर भाजपा ने महबूबा पर पलटवार किया।

अभी पढ़ें वडोदरा में पटाखा जलाने को लेकर दो गुटों के बीच बवाल, उपद्रवियों ने पुलिस पर पेट्रोल बम फेंका; 17 गिरफ्तार

भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) प्रमुख पर पलटवार करते हुए पूछा कि क्या वह जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री के रूप में अल्पसंख्यक को स्वीकार करेंगी। प्रसाद ने महबूबा मुफ्ती को राष्ट्रपति के पद पर एपीजे अब्दुल कलाम और प्रधानमंत्री के रूप में मनमोहन सिंह के 10 वर्षों के शासन की भी याद दिलाई।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ब्रिटेन के पीएम के रूप में ऋषि सुनक के चुनाव के बाद कुछ नेता बहुसंख्यकवाद के खिलाफ अति सक्रिय हो गए हैं। इन लोगों को याद दिलाया जाए कि राष्ट्रपति के रूप में एपीजे अब्दुल कलाम और प्रधानमंत्री के रूप में डॉक्टर मनमोहन सिंह 10 साल तक पद पर रह चुके हैं। उन्होंने ये भी कहा कि अब एक आदिवासी महिला हमारे देश की राष्ट्रपति हैं।

प्रसाद ने आगे लिखा कि भारतीय मूल के एक सक्षम नेता ऋषि सनक यूके के प्रधानमंत्री बन रहे हैं। हम सभी को उनकी इस असाधारण सफलता पर बधाई देने की जरूरत है। यह दुखद है कि कुछ भारतीय राजनेता दुर्भाग्य से इस अवसर पर एक राजनीतिक ब्राउनी पॉइंट बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

अभी पढ़ें PM Modi Diwali 2022: कारगिल में पीएम मोदी, जवानों के साथ मना रहे हैं दिवाली

 

महबूबा मुफ्ती ने किया था ये ट्वीट

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया था कि गर्व का क्षण है कि यूके में पहला भारतीय मूल का पीएम होगा. पूरा भारत सही मायने में जश्न मना रहा है, यह याद रखना हमारे लिए अच्छा होगा कि यूके ने एक अल्पसंख्यक को अपने प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार कर लिया है, फिर भी हम एनआरसी और सीएए जैसे विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण कानूनों से बंधे हैं।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -