Wednesday, 17 April, 2024

---विज्ञापन---

सीएम अरविंद केजरीवाल ने ‘दिल्ली की योगशाला’ प्रोग्राम के योगा प्रशिक्षकों के साथ किया संवाद, डोनर्स ने दी सैलरी

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ को बंद नहीं होने देने का अपना वादा पूरा करके दिखा दिया। भाजपा की एलजी के माध्यम से ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ बंद करने की सारी साजिशों को नाकाम करते हुए दिल्लीवालों ने आज योगा टीचर्स को उनकी नवंबर महीने की सैलरी दी। इस दौरान सीएम […]

Edited By : Siddharth Sharma | Updated: Dec 2, 2022 16:54
Share :
Arvind Kejriwal
Arvind Kejriwal

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ को बंद नहीं होने देने का अपना वादा पूरा करके दिखा दिया। भाजपा की एलजी के माध्यम से ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ बंद करने की सारी साजिशों को नाकाम करते हुए दिल्लीवालों ने आज योगा टीचर्स को उनकी नवंबर महीने की सैलरी दी। इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल के इस जज्बे और पहल की दानदाताओं, योगा टीचर्स और योग कर रहे लोगों ने दिल खोलकर तारीफ की।

दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में सैलरी वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब एलजी साहब ने योगा क्लासेज़ पर रोक लगाई तो बहुत दुख हुआ, लेकिन हमने ठान लिया था कि योगा तो बंद नहीं होने देंगे। चाहे सरकार से पैसा आए या न आए। सभी योगा ट्रेनर्स को आज दिल्ली के लोगों ने ही सैलरी दी। दिल्ली के किसी काम को मैं रूकने नहीं दूंगा। उन्होंने कहा कि हम यह वोट के लिए नहीं कर रहे हैं, बल्कि दिल्लीवालों के लिए कर रहे हैं।

आप जिसको मर्जी वोट दें, आपकी हेल्थ की ज़िम्मेदारी मेरी है। हमारी सरकार है, तो मैं सबका मुख्यमंत्री हूं। अभी हम 17 हजार लोगों को योगा करवा रहे हैं। मेरा लक्ष्य दिल्ली के 20 से 25 लाख लोगों को योगा करवाना है। योगा टीचर्स और नए क्लासेज शुरू करें, पैसे की चिंता न करें। हमारे पास बहुत डोनर हैं, और डोनर आ जाएंगे। इस अवसर पर डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया भी मौजूद रहे।

उल्लेखनीय है कि एलजी ने दिल्ली सरकार द्वारा संचालित ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ को बंद करा दी है। दिल्ली सरकार हर सुबह दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में करीब 590 जगहों पर प्रशिक्षकों को भेजकर दिल्लीवालों को निःशुल्क योग करा रही थी, जिससे दिल्ली के 17 हजार से ज्यादा लोग लाभांवित हो रहे थे। इसमें काफी संख्या में लोग पोस्ट कोविड से प्रभावित थे। एलजी द्वारा इसे रोके जाने के बाद योग कर रहे लोग काफी निराश हो गए।

जिसके बाद, सीएम अरविंद केजरीवाल ने जनता के सहयोग से योगा क्लासेज को दोबारा शुरू करने का वीणा उठाया और दिल्लीवालों ने दिल खोल कर उनका साथ भी दिया। सीएम अरविंद केजरीवाल संभवतः देश के पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने जनहित के लिए जनता से चंदा इकट्ठा कर इस तरह की सराहनीय पहल की है, जो सफल हो रहा है और इसकी चारों तरफ खूब प्रशंसा हो रही है।

मुझे बेहद खुशी है कि हम लोग अपनी ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ को जारी रखने में कामयाब रहे- अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में आज आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुझे बेहद खुशी है कि हम लोग अपनी ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ को जारी रखने में कामयाब रहे। बचपन में एक कहानी पढ़ा करते थे कि सिद्धार्थ गौतम जब छोटे थे, तो वो बगीचे में घूम रहे थे। अचानक उन्होंने देखा कि एक हंस उनके सामने आकर गिरा। उसके पेट में तीर लगा था और वो छटपटा रहा था।

उन्होंने जाकर हंस के पेट से तीर निकाला, उसकी मरहम पट्टी की। इतने में उनका चचेरा भाई देवदत दौड़ा-दौड़ा आया और बोला कि यह हंस मेरा है, इसे मुझे दे दो। इसे तीर मैंने मारा था। इसका शिकार मैंने किया है। सिद्धार्थ गौतम ने कहा कि नहीं, इसकी जान मैंने बचाई है। इसको जिंदा मैंने किया है, तो हंस मेरा है। दोनों भाई लड़ते-लड़ते राजा के दरबार में गए। राजा ने कहा कि हंस को बीच में छोड़ दो और दोनों भाइयों को दूर खड़ा कर दो। हंस जिसके पास जाएगा, उसी का होगा। हंस को बीच में छोड़ दिया गया और दोनों भाई दूर खड़े हो गए। हंस धीरे-धीरे सिद्धार्थ गौतम के पास चला गया। तब से यह कहावत शुरू हो गई कि मारने वाले से बचाने वाला बड़ा है।

जब तब दिल्ली की योगशाला सरकारी सिस्टम के अंदर नहीं आती, तब तक हम इसी तरह डोनर्स के माध्यम से योगा टीचर्स को सैलरी देते रहेंगे- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इन्होंने जब योग क्लासेज बंद कि तब हम लोगों ने ठान लिया था कि योगा बंद नहीं होने देंगे, चाहे कुछ भी हो जाए। योगा बंद करना पाप है। जब एलजी साहब ने योग बंद किया, तो हम लोगों को बहुत दुख हुआ कि बाकी सारी राजनीति तो चलती रहती है, लेकिन योग बंद नहीं होना चाहिए। बहुत लोगों को बहुत पोस्ट कोविड कॉम्पलिकेशन भी है। फेफड़ों की भी कॉम्पलिकेशन है, जिसमें योगा टीचर उनकी बीमारी को दूर करने में बेहद मदद करते हैं।

ऐसे में योगा बंद करना बहुत गलत था। लेकिन दिल्ली का पॉवर स्ट्रक्चर ऐसा है कि एलजी साहब कुछ भी कर देते हैं। हम सभी लोगों ने तय किया कि योग नहीं बंद होने देंगे। चाहे सरकार से पैसा आए या न आए। दिल्ली की जनता इतनी भी गरीब नहीं है कि अपने लोगों को मिलकर योगा नहीं करा सकती। तब हमने ठाना था कि योगा टीचर्स को मिलने वाली सैलरी हम सभी मिलकर देंगे। मैं सभी डोनर्स का तहेदिल से शुक्रिया करना चाहता हूं। आप लोगों ने सामने से आकर योगदान दिया और आज योग क्लासेज चल रही हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि जल्द ही दिल्ली की योगशाला सरकारी सिस्टम के अंदर आ जानी चाहिए। लेकिन जब तब यह सरकारी सिस्टम के अंदर नहीं आती है, तब तक हम हर महीने इसी तरह से डोनर्स के माध्यम से योग टीचर्स को सैलरी देते रहेंगे।

मैं दिल्लीवालों का भाई और बेटा हूं, मैं हर एक के परिवार का हिस्सा हूं, चाहे वो किसी भी पार्टी का हो, मुझे इससे कोई लेनादेना नहीं- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं कल आरडब्ल्यूए बैठक में गया था। वहां एक महिला खड़ी हुई और उन्होंने कहा कि जब आपका बयान आया था कि मैं आपका भाई हूं। आपकी योगा क्लासेज किसी भी हालत में बंद नहीं होने दूंगा और अगले दिन योगा क्लासेज शुरू भी हो गई। उस महिला ने कहा कि मेरी आंखें नम हो गई कि इस तरह के काम भी सरकार में हो सकते है। इस तरह के काम भी राजनीति के अंदर हो सकते है।

कुछ लोगों को यह लगता है कि हमने योगा क्लासेज वोट के लिए किया है, पर हम यह वोट के लिए नहीं कर रहे है। हम योगा क्लासेज दिल्लीवालों के लिए कर रहे हैं। जब हमारी सरकार बन गई औऱ मैं मुख्यमंत्री बन गया, तो मैं सबका मुख्यमंत्री हूं। मैं बीजेपी वालों का भी मुख्यमंत्री हूं, आम आदमी पार्टी वालों और कांग्रेस वालों का भी मुख्यमंत्री हूं। अगर उनके घर में कोई बीमार होता है, तो उनकी भी जिम्मेदारी मेरी है। मैं बार-बार यह कहता हूं कि मैं दिल्ली वालों का भाई और बेटा हूं, तो मैं हर एक के परिवार का हिस्सा हूं। चाहे वो किसी भी पार्टी का हो, मुझे इससे कोई लेनादेना नहीं है।

कल सुबह जब योगा टीचर्स अपनी अपनी-अपनी क्लासेज में जाएं तो यह मैसेज दे देना कि अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि आपकी क्लासेज कभी भी किसी हालत में बंद नहीं होने देंगे। दूसरा मैसेज यह देना कि आप सभी लोग जिसे वोट डालने चाहें, उसे वोट डालें, हम आपको वोट डालने के लिए मजबूर नहीं कर रहे कि हमारी क्लासेज में आओगे, तो हमें ही वोट देना है। आप जिसको वोट डालना चाहें, वोट डालें। यह काम हम वोट के लिए नहीं कर रहे है, बल्कि यह काम हम पुण्य के लिए कर रहे है।

हमारी इच्छा है कि भगवान इसी तरह से हमसे अच्छे, पुण्य व सेवा के काम करवाता रहे और दिल्लीवालों का आशीर्वाद मिलता रहे- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज हमारे पास क्या है? हमारे पास तो कुछ भी नहीं है। हम बहुत मामूली लोग थे। ऊपरवाले ने न जाने क्या कारामात की कि हम सरकार में आ गए। ये हजारों- लाखों, करोड़ों लोगों की शुभकामनाएं-आशीर्वाद व पुण्य है कि आज हम लोगों को इन सभी काम के लिए निमित्त बनाया।

हमारी केवल इतनी इच्छा है कि भगवान इसी तरह से हमारे से अच्छे, पुण्य व सेवा के काम करवाता रहे। आप सभी दिल्ली के लोगों का आशीर्वाद मिलता रहे। अभी हम 17 हजार लोगों को योगा क्लासेज करा रहे हैं। मेरा टारगेट दिल्ली में रोजाना 20-25 लाख लोगों को योगा करवाने का है। आप लोग पैसे की चिंता मत करना। जितनी नई-नई क्लासेज आप शुरू कर सकते हैं, वो नई-नई क्लासेज शुरू करते जाइए। आप जितने ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सकते हैं, उतने ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचिए। जहां इवनिंग क्लासेज शुरू नहीं हुई है, वहां इवनिंग क्लासेज भी शुरू कराइए। खासकर महिलाओं को इवनिंग क्लासेज ज्यादा सूट करती हैं। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने की चिंता किजिए, पैसे की चिंता मत करना। हमारे पास इतने सारे डोनर्स हैं और भी कई सारे डोनर्स आ जाएंगे।

वैसे तो ये लोग योग-योग करते हैं, लेकिन जब जनता को योग कराने की बारी आती है, तो उसे रोकने की कोशिशें करते हैं- मनीष सिसोदिया

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि योग न कभी रूका है और रूकना भी नहीं चाहिए। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी ने कहा था कि इन लोगों की योग से इतनी दुश्मनी है कि वैसे तो ये योग-योग करते हैं, लेकिन वास्तव में जब जनता को योग कराने की बारी आती है, तो उसे रोकने की बहुत कोशिशें करते हैं।

मुख्यमंत्री अऱविंद केजरीवाल जी ने कहा था कि इन साजिशों के बावजूद योग क्लासेज रूकने नहीं देंगे। मुझे खुशी है कि पिछले एक महीने से योग क्लासेज रूकने नहीं दी है। इसमें आपका भी योगदान है। मुख्यमंत्री जी के आह्वान पर कई सारे साथी हमारे साथ आज मौजूद हैं। उन्होंने भी इसमें सहयोग दिया, ताकि यह पूरी प्रक्रिया चलती रहे।

हम चाहते हैं कि दिल्ली जैसा योगा मॉडल पंजाब में भी लागू किया जाए- अशोक मित्तल

इस अवसर पर पंजाब से राज्यसभा सदस्य अशोक मित्तल ने योगा प्रशिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि आप लोगों के बीच में आकर मेरा उत्साह बढ़ता जा रहा है। मेरा दिल कर रहा है कि मैं अभी योगा करना शुरू कर दूं। सरकारें अस्पताल आदि बनवाती हैं, लेकिन जो आप लोग कर रहे हैं, उससे आप अस्पतालों की जरूरत को कम कर रहे हैं। मानवता के लिए इससे ज्यादा योगदान कुछ हो ही नहीं सकता। आपके साथ अच्छा या बुरा वक्त आया, लेकिन आप उसमें भी दिल्ली सरकार के साथ खड़ा रहे और दिल्ली के लोगों के साथ खड़े रहे।

मैं मुख्यमंत्री जी से अनुरोध करना चाहता हूं कि हम यही मॉडल पंजाब में भी लागू करें। मेरी एक विनती रहेगी, जो वहां ट्रेनर होंगे, उनको आपके पास पहले ट्रेनिंग करने के लिए भेजेंगे। मैं उम्मीद करता हूं कि आप लोग पंजाब के लोगों का भी मार्ग दर्शन करेंगे। आप लोग वेतन के लिए काम नहीं कर रहे हैं, बल्कि आप लोग दिल से काम कर रहे हैं। जो काम दिल से होता है, उसका कभी कोई मोल नहीं होता है।

दानदाताओं ने योगा टीचर्स को दिया सैलरी का चेक

दिल्ली की योगशाला प्रोग्राम के प्रशिक्षकों की सैलरी की जिम्मेदारी लेने के लिए दिल्ली और पूरे देश से काफी दानदाता आगे आए हैं। इस प्रोग्राम में उनको भी निमंत्रित किया गया था, ताकि वो अपने हाथों से योगा टीचर्स को सैलरी का चेक दे सकें। कंस्ट्रक्शन मैनेजर विजय मलंगी, यशवंत मुथियाला, रूचि गुलाटी, विवेक पांडेय, प्रियंका देव, अल्पना गुप्ता, जूइल कलाचंद, राकेश कुमार, शाहिल सेठी, कार्तिक किलाचंद, हर्षित व डुग्गल, कल्पना गुप्ता, राहुल धानुका मिसेज डुग्गल व रविंद्र, रचना अग्रवाल, मृदुला गांगुली खन्ना, प्रकृति व मनस प्रतीक सहकार आदि दानदाताओं ने योगा टीचर्स को सैलरी का चेक दिया।

सब लोग डोनेट करें, जिससे सरकार की अच्छी नीतियां चल सकें- डॉ. कल्पना गुप्ता

डॉक्टर कल्पना गुप्ता ने कहा कि मैं और मेरी बहन अल्पना गुप्ता स्वतंत्रा सेनानी की बेटी हूं। आज हम देख रहे हैं कि जो राजनीति हो रही है, वो हमारी आजादी को खत्म करने की तरफ ही जा रहे हैं। मैं यह चाहती हूं कि यह सरकार अच्छी है। सब लोग डोनेट करें, जिससे की सरकार की अच्छी नीतियां चल सकें। मैने सीएम साहब से कहा है कि सीआर पार्क में जो हमारा घर है, उसको मैं डोनेट करना चाहती हूं।

मुख्यमंत्री से योगा क्लासेज बंद नहीं होने के मिले वादे ने योगा टीचर्स को किया उत्साहित

योगा टीचर्स ने बताया कि जब एलजी द्वारा योगा क्लासेज बंद कर दी गई थी, तो वे निराश हो गए थे। उनको लगने लगा था कि अब योगा दोबारा नहीं शुरू हो सकेगी, लेकिन जब सीएम अरविंद केजरीवाल जी ने किसी भी कीम पर योगा क्लासेज नहीं बंद होने देने का आश्वासन दिया और कहा कि चाहे लोगों से भीख मांग कर सैलरी देनी पड़े, तब भी हम देंगे, तो सभी योगा टीचर्स उत्साह से भर गए। योग लोगों को जोड़ने का काम करता है। हम लोग लोगों की मांग के अनुसार उनको योग करना सीखा रहे हैं।

अंधेरा रहते क्लास में पहुंच जा रहे योगा टीचर्स

योगा टीचर्स के जोश का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वो अंधेरा रहते ही अपनी क्लास में पहुंच जा रहे हैं। अंधेरे की वजह से कई लोग दुर्घटना के भी शिकार हो चुके हैं। योगा प्रशिक्षकों के पहुंचने के साथ ही लोग भी योगा क्लास लेने के लिए आ जा रहे हैं। योगा टीचर तसल्ली के साथ क्लास ले रहे हैं और एक-एक व्यक्ति पर ध्यान भी दे रहे हैं। जिनको योग करना नहीं आता है, उनको सीखाते है।

‘‘हमने खाई है कसम, योग नहीं रूकने देंगे’’

एक योगा टीचर्स ने कहा, ‘‘हमने खाई है कसम, योग नहीं रूकने देंगे, अपने टीचर का और आपका सिर नहीं झुकने देंगे। आपने यह सैलरी देकर सोने पर सुहागा कर दिया, वरना लोग कहते कि कुछ लोगों ने योग को बंद कर दिल्ली को अभागा कर दिया।’’

योगा टीचर्स ने साझा किए अपने अनुभव

मेरी योगा क्लासेज में अधिकतर भाजपा वाले आ रहे- देवेंद्र कुमार

योगा टीचर देवेंद्र कुमार ने बताया कि जब से योग दोबारा शुरू हुआ है, तब से पहले से ज्यादा लोग योग करने आ रहे हैं। लोग मुख्यमंत्री जी की खूब तारीफ कर रहे हैं कि वे अच्छा काम कर रहे हैं। योग बंद क्यों हो गया? मेरी योगा क्लासेज में अधिकतर भाजपा वाले आ रहे हैं।

योग से लोग मानसिक-शारीरिक के साथ सामाजिक रूप से भी बहुत खुश हैं- रूचिता

नजफगढ़ के एक गांव में योगा क्लासेज ले रही एक प्रशिक्षक रूचिता ने कहा कि योगा क्लासेज बंद होने से लोग बहुत मायूस हो गए थे। क्योंकि योग से उनको बहुत फायदा हो रहा था। काफी लोग दवाइयों से मुक्त हुए हैं। खासकर पोस्ट कोविड कॉम्प्लीकेशंस वाले लोगों को बहुत फायदा हो रहा है। वो लोग हमें खूब आशीर्वाद देते हैं और कहते हैं कि योगा नहीं रूकना चाहिए। वो लोग मानसिक और शारीरिक के साथ सामाजिक रूप से भी बहुत खुश हैं।

दोबारा योग शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री जी का लोग कर रहे धन्यवाद- याशिका

जीके वन में योगा क्लासेज दे रहीं याशिका ने बताया कि दोबारा योग शुरू होने से लोग बहुत खुश हैं और मुख्यमंत्री जी को बहुत धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने खुद पहल करके दोबारा योग की क्लासेज शुरू कराई। लोग बहुत का स्वास्थ्य भी पहले से अच्छा हो रहा है। हमारी क्लास में आने वाले लोग सीएम अरविंद केजरीवाल जी को धन्यवाद करना चाहते हैं और चाहते हैं कि योगा क्लासेज इसी तरह चलती रहे।

बुजुर्गों का है कहना, योगा क्लासेज को कभी न बंद करें, मदद के लिए हम हैं तैयार- रीना

यमुना विहार एरिया में योगा क्लासेज ले रही रीना ने बताया कि मेरी क्लास में अधिकतर महिलाएं आती हैं। क्लास बंद होने पर उनकी वे रोने लगी थीं। महिलाओं का कहना है कि आजादी के 75 साल तक किसी ने नहीं सोचा था, केवल दिल्ली सरकार ने सोचा। इसके लिए सभी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी को धन्यवाद करना चाहती हैं। जब उनको पता चला कि आज मैं इस कार्यक्रम में आ रही हूं तो सभी बुजुर्गों ने बोला कि मेरी तरह से मुख्यमंत्री और पूरी दिल्ली सरकार को धन्यवाद बोलना और कहना कि योगा क्लासेज इसी तरह चलती रहे, मदद के लिए हम तैयार हैं।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने जनता के सहयोग से दिल्लीवालों को योग कराने का लिया बड़ा फैसला

एलजी द्वारा ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ पर प्रतिबंध लगाए जाने से निराश दिल्लीवासियों को तब खुशी का ठिकाना नहीं रहा, जब सीएम अरविंद केजरीवाल ने खुद आगे बढ़कर जनता के सहयोग से योगा क्लासेज जारी रखने का बड़ा निर्णय लिया था। सीएम अरविंद केजरीवाल की अपील पर दिल्ली समेत देशभर से कई लोग आगे आए, जिन्होंने प्रशिक्षकों के वेतन का खर्चा उठाने का भरोसा दिया। इसके बाद दो नवंबर 2022 को सीएम अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा परिसर में सभी योगा प्रशिक्षकों के साथ संवाद कर उनमें जोश भरा। उन्होंने सभी योगा टीचर्स को अपनी-अपनी क्लास में जाने का आह्वान करते हुए हर महीने समय से सैलरी देने का आश्वासन दिया। सीएम अरविंद केजरीवाल के इस आश्वासन ने सभी योगा टीचर्स के साथ-साथ दिल्ली के लोगों में जोश भर दिया और अगले दिन से योगा क्लासेज पूरी दिल्ली में दोबारा शुरू हो गई।

डिप्टी सीएम की अपील के बावजूद एलजी साहब ने नहीं दी थी योगा क्लासेज की अनुमति

दिल्ली सरकार ने ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ प्रोग्राम को जारी रखने को लेकर अपनी तरफ से एलजी साहब को मनाने का काफी प्रयास किया। बीते 28 अक्टूबर को डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने खुद एलजी साहब से मुलाकात की और हाथ जोड़कर योगा क्लास को जारी रहने देने की अपील की। डिप्टी सीएम ने यह हवाला भी दिया कि योग कर रहे 17 हजार लोगों में से अधिकतर पोस्ट कोविड कॉम्प्लीकेशंस से प्रभावित हैं और उनको स्वस्थ रखना सरकार की जिम्मेदारी है। तब एलजी साहब ने आश्वासन अवश्व दिया था कि वे सारे पेपर को देखेंगे और कुछ भी गलत नहीं होने देंगे। इसके बावजूद उन्होंने योगशाला को बंद करा दी।

पिछले साल शुरू हुआ था ‘दिल्ली की योगशाला’ प्रोग्राम

दिल्ली सरकार ने दिल्ली के निवासियों को स्वस्थ्य रखने के उद्देश्य से पिछले साल ‘दिल्ली की योगशाला’ प्रोग्राम को शुरू किया था। इसके तहत दिल्ली के लोगों को निःशुल्क योग कराया जाता है। प्रशिक्षित टीचर लोगों को योग करना सिखाते हैं। दिल्ली सरकार योग और मेडिटेशन को एक जन आंदोलन में बदलकर दिल्ली में हर घर तक पहुंचाना चाहती है। यह पूरे देश में अपने किस्म का पहला कार्यक्रम है, जिसके तहत दिल्ली सरकार लोगों को फ्री में योग कराती है। आज भाग-दौड़ की जिंदगी में व्यक्ति का शरीर, मन और आत्मा स्वस्थ्य नहीं है। ऐसे में योग से उसको काफी फायदा हो सकता है।

पोस्ट कोविड बीमारियों से जूझ रहे हजारों लोगों को मिला लाभ

‘‘दिल्ली की योगशाला’’ प्रोग्राम से पोस्ट-कोविड बीमारियों से जूझ रहे करीब 11 हजार लोगों को विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं से उबरने में मदद मिली है। कोरोना काल में दिल्ली की योगशाला के तहत ऑनलाइन योगा क्लासेज का आयोजन किया गया। उस दौरान होम आइसोलेशन में रह रहे 4500 संक्रमितों को इससे फायदा हुआ। इनमें से 2,000 लोग तो ऐसे थे, जिन्हें बेहद गंभीर समस्याएं थी, लेकिन दिल्ली की योगशाला में क्लासेज लेने से इन लोगों को काफी फायदा हुआ। इन पर रिसर्च किया गया, जिसके नतीजे काफी उत्साह जनक रहे।

रिसर्च में शामिल ज्यादातर मरीज 30 से 70 साल के बीच थे। इसमें से 92.3 फीसद मरीजों ने माना कि योग करने से कोरोना के लक्षणों में सुधार हुआ। ज्यादातर मरीजों ने माना कि उन्हें संक्रमण के दौरान योग करने से सांस फूलने जैसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा। योग करने से अधिकांश मरीज 5 से 7 दिनों के भीतर कोरोना से ठीक हो गए। ज्यादातर संक्रमितों ने माना योग करने से उन्हें खांसी, सर्दी, शरीर में दर्द, नींद सांस फूलना आदि से जैसे लक्षण से राहत मिली।

दिल्ली में 590 से अधिक जगहों पर रोजाना लगती है योगा क्लासेज

दिल्ली सरकार के ‘‘दिल्ली की योगशाला’’ कार्यक्रम के तहत दिल्लीवालों से आह्वान किया गया है कि जो लोग रोजाना योग व ध्यान करना चाहते हैं, उनको सरकार निःशुल्क प्रशिक्षित योगा ट्रेनर उपलब्ध कराएगी। दिल्ली के लोगों द्वारा इस कार्यक्रम को लेकर सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली और दिल्ली भर में 590 से ज्यादा स्थानों पर 17 हजार से ज्यादा लोग इसका लाभ उठा रहे हैं। यह योगा क्लासेज दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में करीब 590 स्थानों पर रोजाना लगती है। यह कक्षाएं खुली जगहों पर होती हैं, जहां कोई भी आकर योग सीख सकता है। वहां पर अच्छे से प्रशिक्षित योगा ट्रेनर लोगों को योग व ध्यान का अभ्यास कराते हैं।

योग को जन आंदोलन में बदले का है दिल्ली सरकार का उद्देश्य

दिल्ली सरकार का उद्देश्य योग को एक जन आंदोलन में बदलना है। सरकार चाहती है कि योग घर-घर पहुंचाना चाहिए। इसका उद्देश्य लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए योग और ध्यान के महत्व को उजागर करना है। सेंटर फॉर मेडिटेशन एंड योग साइंसेज (सीएमवाईएस) की स्थापना दिल्ली फार्मास्युटिकल साइंसेज और रिसर्च यूनिवर्सिटी के सहयोग से की गई थी। सीएमवाईएस ने डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स शुरू किए और इसके लिए 650 से अधिक छात्रों को नामांकित किया। इन छात्रों को योग प्रशिक्षक बनने के लिए प्रशिक्षित और प्रमाणित किया गया है।

दिल्ली सरकार योग के जरिए लोगों में पैदा कर रही सकारात्मक सोच

योगा प्रोग्राम के तहत दिल्ली के लोग सार्वजनिक पार्कों, आरडब्ल्यूए, सामुदायिक भवनों आदि में योग कर रहे। इस पहल से लोगों के अंदर योग और ध्यान की मदद से सकारात्मक सोच पैदा हो रहा है, जिससे लोगों को शरीर और दिमाग से स्वस्थ व एक खुशहाल व्यक्ति बनने में मदद मिल रही है। दिल्ली सरकार इच्छुक लोगों के ग्रुप को योग कराने के लिए प्रशिक्षक उपलब्ध कराती है। प्रत्येक समूह में कम से कम 25 सदस्य होते हैं। योग प्रशिक्षक प्रत्येक ग्रुप के एक सदस्य के साथ समन्वय करता है, जिसे ग्रुप समन्वयक कहा जाता है। ग्रुप समन्वयक प्रशिक्षक के साथ संवाद कर योगा क्लासेज के लिए समय और स्थान तय करता है।

First published on: Dec 02, 2022 04:54 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें