Thursday, 18 April, 2024

---विज्ञापन---

Honour Killing: ऊंची जाति की युवती से विवाह करने पर दलित को मौत के घाट उतारा, 13 दिन पहले हुई थी शादी

नई दिल्ली: उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में ऑनर किलिंग का मामला सामने आया है। यहां एक दलित युवक ने 13 दिन पहले ऊंची जाति की युवती से शादी की थी। शादी के बाद युवती के परिजन ने पहले युवक का अपहरण किया, फिर उसे मौत के घाट उतार दिया। एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी […]

Edited By : Om Pratap | Updated: Sep 3, 2022 12:35
Share :
delhi crime news

नई दिल्ली: उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में ऑनर किलिंग का मामला सामने आया है। यहां एक दलित युवक ने 13 दिन पहले ऊंची जाति की युवती से शादी की थी। शादी के बाद युवती के परिजन ने पहले युवक का अपहरण किया, फिर उसे मौत के घाट उतार दिया।

एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। नमक उपमंडल की तहसीलदार निशा रानी ने बताया कि पनुआधोखान गांव के दलित राजनीतिक कार्यकर्ता जगदीश चंद्रा (39) शुक्रवार को भिकियासैंण कस्बे में एक कार में मृत पाए गए।

अभी पढ़ें ममेरी बहन की फुफेरे भाई से करा दी शादी, तीन घंटे बाद ही दुल्हन की हो गई मौत

मृतक के शरीर पर थे चोट के 25 निशान

निशा रानी ने बताया कि उसके शरीर पर 25 घाव थे। उन्होंने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि डंडों से पिटाई करके उसकी हत्या की गई है। रानी ने कहा कि जगदीश चंद्रा की पत्नी की मां, उसके सौतेले पिता और उसके सौतेले भाई को कार में शव को ठिकाने लगाने के लिए ले जाते समय पकड़ा गया। इसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

दो बार लड़ा था चुनाव, मिली थी हार

रानी ने कहा कि दंपति की 21 अगस्त को शादी हुई थी। चंद्रा को उसके ससुराल वालों ने गुरुवार को शिलापानी ब्रिज से कथित तौर पर अगवा कर लिया था। चंद्रा ने 2021 में उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के उम्मीदवार के रूप में साल्ट विधानसभा सीट पर उपचुनाव लड़ा था लेकिन वे चुनाव हार गए थे। उन्होंने इस साल फरवरी में हुए राज्य विधानसभा चुनाव भी लड़ा था लेकिन हार गए थे।

अभी पढ़ें भारतीय नौसेना को मिला नया ध्वज, PM मोदी बोले- भारत ने गुलामी के बोझ को सीने से उतारा

दंपति ने जान का खतरा बताते हुए मांगी थी सुरक्षा

उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के नेता पीसी तिवारी ने कहा कि 27 अगस्त को दंपति ने अपनी जान को खतरा बताते हुए प्रशासन को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की थी। उन्होंने कहा कि अगर प्रशासन ने दंपति की शिकायत पर कार्रवाई की होती तो चंद्रा को बचाया जा सकता था। उन्होंने हत्या को उत्तराखंड के लिए शर्म की बात बताते हुए पीड़िता की पत्नी को एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने की मांग की।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

First published on: Sep 03, 2022 09:07 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें