---विज्ञापन---

Nitish Kumar क्या सच में BJP में करेंगे वापसी? क्या कहते हैं जेडीयू के नेता

Nitish Kumar: जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लोकसभा चुनाव से पहले ‘इंडिया’ को छोड़कर एनडीए में फिर से शामिल हो सकते हैं।

Edited By : News24 हिंदी | Updated: Jan 23, 2024 20:55
Share :
nitish kumar news
नीतीश कुमार के एनडीए में शामिल होने की खबरें

Nitish Kumar: यह रिपोर्ट न तो अटकलें है और न ही अफवाह, बल्कि नीतीश कुमार के करीबी से मिली जानकारी पर आधारित है। जेडीयू के करीबी माने जाने वाले एक वरिष्ठ नेता ने शनिवार, 20 जनवरी, 2024 को दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए कहा कि “नीतीश कुमार ‘इंडिया’ गठबंधन को छोड़ बीजेपी के साथ जा सकते हैं।” उनका कहना है कि ”नीतीश कुमार 22 जनवरी के बाद किसी भी दिन पाला बदल सकते हैं।”

जेडीयू ने क्या कहा?

नीतीश कुमार के एनडीए में शामिल होने को लेकर जेडीयू ने कहा, “महागठबंधन के अंदर रस्साकशी है, कुछ भी हो सकता है. नीतीश कुमार और लालू यादव एक बार फिर अलग हो सकते हैं।” उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा, “हम नीतीश कुमार के एनडीए में वापस जाने से इनकार नहीं कर सकते।” आगे कहा गया कि “लेकिन स्थिति ‘इंडिया’ के पक्ष में भी सकती है। यह सब नीतीश कुमार की पर निर्भर करता है।”

नीतीश कुमार की कैबिनेट में फेरबदल, आलोक मेहता बने नए शिक्षा मंत्री, चंद्रशेखर का विभाग बदला

2013 में बीजेपी से हुए अलग

नीतीश कुमार ने 2013 में बीजेपी के साथ अपना 17 साल पुराना गठबंधन खत्म कर दिया था और 2015 में आरजेडी और कांग्रेस के साथ महागठबंधन में शामिल हो गए। इसके बाद, उन्होंने बिहार विधानसभा चुनाव जीता और सरकार बनाई।

शुक्रवार, 19 जनवरी, 2024 की सुबह, लालू और उनके छोटे बेटे, बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से उनके आधिकारिक आवास पर मुलाकात की जिसमें लगभग 45 मिनट चर्चा हुई। यह मुलाकात नीतीश कुमार के मकर संक्रांति पर दही-चूड़ा खाने के लिए लालू के आवास पर जाने के चार दिन बाद हुई है। यह पहली बार था कि 2024 में नीतीश कुमार और लालू की मुलाकात हुई थी।

BJP के साथ जा सकते हैं नीतीश कुमार? अटकलों के बीच JDU प्रमुख से मिले लालू यादव

आरजेडी सूत्रों के अनुसार, लालू-तेजस्वी ने नीतीश कुमार से उस रिपोर्ट के एक दिन बाद मुलाकात की, जिसमें कहा गया था कि बीजेपी ने नीतीश कुमार की एनडीए में संभावित वापसी के लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं। पूर्व बीजेपी अध्यक्ष और वरिष्ठ नेता अमित शाह ने नीतीश कुमार की ओर इशारा करते हुए कहा कि अगर एनडीए छोड़ने वालों की ओर से कोई प्रस्ताव आता है तो उनकी पार्टी इस पर विचार करेगी।

इसे भांपते हुए, लालू यादव ने शुक्रवार को नीतीश कुमार से मुलाकात की और इस बात को लेकर चर्चा की कि मुख्यमंत्री आरजेडी से क्यों नाराज़ हैं। एक जानकार राजनीतिक टिप्पणीकार ने इस संवाददाता को बताया, “लालू ने कथित तौर पर नीतीश कुमार को आश्वासन दिया कि सब कुछ उनकी शर्तों पर हल किया जाएगा।”

इसके साथ ही जेडीयू के वरिष्ठ नेता और बिहार के मंत्री विजय कुमार चौधरी ने शनिवार को कहा कि लालू-नीतीश की मुलाकात को लेकर गलत सूचना फैलाई जा रही है और कहा कि महागठबंधन में सब कुछ ठीक है।

2017 में, नीतीश ने महागठबंधन को छोड़ दिया और एनडीए में फिर से शामिल हो गए और 2019 का लोकसभा चुनाव और 2020 का विधानसभा चुनाव बीजेपी के साथ लड़ा। इसके बाद, फिर से 2022 में उन्होंने बीजेपी का साथ छोड़ दिया और आरजेडी से हाथ मिला लिया।

नीतीश कुमार ने क्यों ठुकरा दिया I.N.D.I.A. के संयोजक का पद? चुनावी समर्पण या बड़ी महत्वाकांक्षा?

”इससे खत्म होगी राजनीतिक विश्वसनीयता”

मुखर जेडीयू विधायक गोपाल मंडल ने शनिवार को सार्वजनिक रूप से नीतीश कुमार को चेतावनी दी कि वह वापस न आएं क्योंकि इससे जनता के बीच उनकी राजनीतिक विश्वसनीयता खत्म होI जाएगी। नीतीश के वफादार मंडल ने पहली बार अपने नेता से महागठबंधन को न छोड़ने का आग्रह किया। नीतीश कुमार के भविष्य के कदम पर अनिश्चितता के बीच, एक बात निश्चित है– जेडीयू अध्यक्ष और लालू यादव के बीच सब कुछ ठीक नहीं है।

ऐसा समझा जा रहा है कि जेडीयू के ज़्यादातर वरिष्ठ नेता और बिहार के मंत्री लोकसभा चुनाव से पहले एनडीए में वापसी के पक्ष में हैं। इन नेताओं ने कथित तौर पर नीतीश कुमार से कहा है कि बीजेपी जेडीयू की स्वाभाविक सहयोगी है जबकि पार्टी आरजेडी के साथ सहज नहीं है।

First published on: Jan 23, 2024 04:02 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें