Wednesday, 24 April, 2024

---विज्ञापन---

सफेद या ब्राउन…हेल्थ के लिए कौन सा चावल खाना बेहतर? जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट

Brown Rice vs White Rice: चावल हमारे खाने का एक बहुत महत्वपूर्ण भाग है। चावल की कितनी ही सारी डिशेज हम नॉर्मली बनाते और खाते हैं। कई लोग इसी के चलते सफेद की तुलना में ब्राउन राइस को ज्यादा बेहतर ऑप्शन मानते हैं, लेकिन क्लिनिकल डाइटिशियन कुछ पोषक तत्वों को रिप्लेस करने के लिए सफेद चावल को अच्छा मानते हैं।

Edited By : Deepti Sharma | Updated: Apr 1, 2024 10:49
Share :
brown rice vs white rice
भूरा चावल बनाम सफेद चावल Image Credit: Freepik

Brown Rice vs White Rice: दुनिया भर में सफेद चावल सबसे ज्यादा खाया जाता है और यह कार्बोहाइड्रेट, फोलेट और विटामिन बी1 जैसे जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर होता है, लेकिन कुछ समय पहले तक सफेद चावल उतने हेल्दी नहीं माने जाते थे, जितना अब माने जा रहे हैं। इसलिए ज्यादातर सफेद चावल की बजाय ब्राउन राइस को अपनी डाइट में शामिल करने लगे हैं।

कई लोगों का मानना ​​था कि ब्राउन चावल वास्तव में सफेद चावल की तुलना में ज्यादा हेल्दी है, लेकिन हाल ही में एक इंस्टाग्राम पर पोस्ट पर लेखक और ‘बुलेटप्रूफ’ डाइट के वकील, डेव एस्प्रे ने कहा की कि सिर्फ भूरे चावल में ज्यादा फाइबर होता है और यह जरूरी नहीं कि इसे सफेद चावल की तुलना में ज्यादा हेल्दी बनाता है। ब्राउन राइस में लेक्टिन का एक पूरा सोर्स होता है और इसमें सफेद चावल की तुलना में 80 गुना ज्यादा आर्सेनिक (Arsenic एक तरह का केमिकल तत्व) होता है।

वहीं, क्लिनिकल डाइटिशियन और सर्टिफाइड डायबिटीज एजुकेटर कनिक्का मल्होत्रा कहती हैं कि यह सच है कि ब्राउन राइस की तुलना में सफेद चावल का प्रोसेसिंग इसपर प्रभाव डालता है। प्रोसेसिंग के दौरान, सफेद चावल अनाज के सबसे पौष्टिक हिस्सों, यानी की रेशेदार चोकर और पौष्टिकता को खो देता है, जिससे इसमें कम जरूरी पोषक तत्व रह जाते हैं। हालांकि, निर्माता कुछ पोषक तत्वों को बदलने के लिए सफेद चावल को समृद्ध करते हैं, फिर भी यह ब्राउन राइस में पाए जाने वाले पोषण स्तर से कम है।

ब्राउन राइस बनाम सफेद चावल के हेल्थ बेनिफिट्स और कमी 

दोनों ही चावल के कुछ फायदे और नुकसान हैं और कोई भी व्यक्ति अपनी पर्सनल चॉइस के आधार पर चुन सकता है कि किस प्रकार का चावल खाया जाए।

ब्राउन राइस के लाभ 

फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन और खनिजों से भरपूर, ब्राउन चावल ब्लड शुगर को कंट्रोल करने, दिल की बीमारी के जोखिम को कम करने, वजन मैनेज करने में सहायता और ओवरऑल हेल्थ में मदद करता है।

कमियां

इसमें फाइटिक एसिड और आर्सेनिक का हाई लेवल पाया जाता है, जो मिनरल्स पर असर कर सकता है और गर्भवती महिलाओं के लिए चिंता पैदा कर सकता है। ब्राउन राइस में हाई फाइबर होने की वजह से पाचन के लिए फायदेमंद होते हुए भी, सूजन और गैस जैसी पाचन से जुड़ी समस्याओं का कारण बन सकती है।

ब्राउन राइस में मौजूद जरूरी तेल इसे सफेद चावल के मुकाबले तेजी से खराब कर सकते हैं। अगर ठीक से स्टोर न किया जाए तो भोजन बर्बाद हो सकता है।

सफेद चावल के लाभ

सफेद चावल विटामिन बी और आयरन जैसे जरूरी पोषक तत्व प्रदान करता है, जिससे यह एनर्जी का एक अच्छा स्रोत बन जाता है।

कमियां

ब्राउन राइस में फाइबर और कुछ पोषक तत्वों की कमी होती है, जिससे संभावित रूप से तेजी से पाचन होता है और ब्लड शुगर के लेवल में उतार-चढ़ाव होता है।

क्या ब्राउन राइस की जगह सफेद चावल चुनना चाहिए?

किसी व्यक्ति की फिटनेस और पोषण के आधार पर दोनों प्रकार के चावल का सेवन किया जा सकता है। हालांकि, इन कारणों से ब्राउन चावल के सेवन का समर्थन डाइटिशियन करती है-

ब्लड शुगर का लेवल

ब्राउन राइस की फाइबर सामग्री सफेद चावल के मुकाबले ब्लड शुगर के लेवल को ज्यादा प्रभावी ढंग से कंट्रोल करने में मददगार है, जिससे यह डायबिटीज या प्रीडायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए बेहतर ऑप्शन बन जाता है।

वजन को मैनज करें

ब्राउन राइस की फाइबर सामग्री तृप्ति को बढ़ावा देती है और लोगों को लंबे समय तक भरा हुआ रखकर वजन मैनेज में सहायता कर सकती है।

ओवर ऑल हेल्थ

ब्राउन राइस को बैलेंस डाइट में शामिल करने से सफेद चावल की तुलना में ज्यादा पोषक तत्व और स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं, जिससे कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ, वजन कंट्रोल और ऑवर हेल्थ में मदद मिलती है।

ये भी पढ़ें- Summer Skin Care: गर्मी के मौसम में पाना चाहते हैं ग्लोइंग स्किन? अपनाएं 3 घरेलू नुस्खे

First published on: Apr 01, 2024 10:48 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें