Thursday, 29 February, 2024

---विज्ञापन---

आंध्रप्रदेश और तेलंगाना में PFI के कई स्थानों पर NIA की रेड, आतंकवाद और भारत विरोधी गतिविधियों में संलिप्त होने का है आरोप

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने रविवार को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के कई स्थानों पर तलाशी ली। आंध्र प्रदेश के कुरनूल, नेल्लोर, कडपा, गुंटूर और तेलंगाना के निजामाबाद में संदिग्धों के आवास और व्यावसायिक परिसरों पर छापेमारी की गई। विशेष टीमों ने निजामाबाद के एपीएचबी कॉलोनी इलाके […]

Edited By : Pulkit Bhardwaj | Updated: Feb 22, 2024 20:34
Share :
प्रतिकात्मक चित्र
प्रतिकात्मक चित्र

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने रविवार को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के कई स्थानों पर तलाशी ली। आंध्र प्रदेश के कुरनूल, नेल्लोर, कडपा, गुंटूर और तेलंगाना के निजामाबाद में संदिग्धों के आवास और व्यावसायिक परिसरों पर छापेमारी की गई।

विशेष टीमों ने निजामाबाद के एपीएचबी कॉलोनी इलाके में पहुंचकर शहीद चौश उर्फ ​​शाहिद के आवास पर छापेमारी की। साथ ही उन्हें 41 (ए) दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) के तहत नोटिस दिया गया है। पता चला है कि एजेंसी की जांच आतंकवाद के स्रोतों को स्थापित करने और खोजने पर आधारित है।

एनआईए की हैदराबाद शाखा ने 26 अगस्त को पीएफआई से जुड़ा एक मामला दर्ज किया था। निजामाबाद के ऑटोनगर निवासी 52 वर्षीय अब्दुल खादर, 26 लोगों के साथ एनआईए की पहली सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) में आरोपी थे, जिसमें उल्लेख किया गया था कि उन्होंने अन्य लोगों के साथ मिलकर भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए साजिश रची थी।

अभी पढ़ें मठों और मंदिरों को सरकारी नियंत्रण से मुक्त करने की क़ानूनी लड़ाई, सुप्रीम कोर्ट में आज अहम सुनवाई

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस संबंध में दर्ज प्राथमिकी में उल्लेख किया गया है कि “आपराधिक साजिश के अनुसरण में, उन्होंने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के सदस्यों की भर्ती की, आतंकवादी कृत्यों के लिए प्रशिक्षण देने के लिए शिविर आयोजित किए। उन्होंने एक गैरकानूनी सभा का गठन किया और धर्म के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा दिया और भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को बाधित करने वाली गतिविधियों में शामिल हुए।”

इससे पहले तेलंगाना के निजामाबाद पुलिस स्टेशन द्वारा भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं और गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की धारा 13 (1) (बी) के तहत अब्दुल खादर और 26 व्यक्तियों और अन्य के खिलाफ कुछ राष्ट्र-विरोध से संबंधित मामला दर्ज किया गया था।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आगे की पूछताछ के दौरान, घर के मालिक अब्दुल खादर ने स्वीकार किया कि पीएफआई से जुड़े कुछ आरोपी व्यक्तियों द्वारा 6 लाख रुपये की वित्तीय सहायता के एवज में, उसने अपने घर की छत पर एक हिस्से का निर्माण किया था और अनुमति दी थी। यह परिसर पीएफआई के कैडरों को प्रशिक्षण देने और संगठन की बैठक के लिए उपयोग किया जाता था।

कब हुई पीएफआई की शुरुआत

पीएफआई की शुरुआत 2006 में केरल में 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद तीन मुस्लिम संगठनों के विलय के बाद की गई थी। ये संगठन थे- केरल का राष्ट्रीय विकास मोर्चा, कर्नाटक फोरम फॉर डिग्निटी और तमिलनाडु की मनिथा नीति पासारी। बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद, दक्षिण भारत में कई फ्रिंज संगठन सामने आए थे और उनमें से कुछ को मिलाकर पीएफआई का गठन किया गया था।

अब पीएफआई का दावा है कि 22 राज्यों में उसकी इकाइयां हैं। छवि का सफल चित्रण पीएफआई को धन जुटाने में मदद करता है, खासकर समृद्ध मध्य-पूर्वी देशों से। पीएफआई का पहले का मुख्यालय कोझीकोड में था, लेकिन इसके आधार के विस्तार के बाद इसे दिल्ली में स्थानांतरित कर दिया गया था। पीएफआई के प्रदेश अध्यक्ष नसरुद्दीन एलमारोम संगठन के संस्थापक नेताओं में से एक हैं। और इसके अखिल भारतीय अध्यक्ष ई अबुबकर भी केरल से ही ताल्लुक रखते हैं।

अभी पढ़ें Weather Forecast: इन राज्यों में होगी आफत की बारिश, जानें मौसम विभाग की ताजा भविष्यवाणी

पीएफआई खुद को अल्पसंख्यक समुदायों, दलितों और समाज के अन्य कमजोर वर्गों के लोगों को सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध एक नव-सामाजिक आंदोलन के रूप में वर्णित करता है।

अभी पढ़ें   देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

(Alprazolam)

First published on: Sep 18, 2022 01:00 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें