Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

कौन थे कोठारी बंधु, जिनकी बहन को भेजा गया राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का निमंत्रण

Ram mandir Inauguration Kothari Brother: राम मंदिर आंदोलन के इतिहास में कोठारी बंधुओं के बलिदान को नहीं भुलाया जा सकता। 2 नवंबर 1990 को उन्हें सीआरपीएफ के इंस्पेक्टर ने गोली मार दी थीं।

Edited By : Rakesh Choudhary | Updated: Dec 30, 2023 13:24
Share :
Ram mandir Inauguration Kothari Brother
Ram mandir Inauguration Kothari Brother

Ram mandir Inauguration Kothari Brother: 22 जनवरी 2024 को पूरे देश में रामभक्तों के लिए बड़ी खुशी का दिन होगा जब अयोध्या में राम मंदिर का उद्घाटन किया जाएगा। अयोध्या में इसे लेकर जोर-शोर से तैयारियां चल रही है। जब राम मंदिर आंदोलन की बात आती है तो कोलकाता के कोठारी बंधुओं की भी चर्चा होती है। प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए ट्रस्ट ने कोठारी बंधुओं की बहन पूर्णिमा को भी बुलावा भेजा हैं।

हालांकि बहन पूर्णिमा ने निमंत्रण पत्र प्राप्त होने पर कहा कि वह नहीं चाहती कि इस कार्यक्रम के लिए सपा के किसी नेता को आमंत्रित किया जाए। क्योंकि उनकी सरकार में ही उनके दोनों भाई पुलिस की गोली से मारे गए थे। आइये जानते हैं कोठारी बंधुओं का इतिहास।

योद्धा साधु' से कोठारी बंधु तक- अयोध्या राम मंदिर आंदोलन के 10 गुमनाम नायक

कोलकाता के रहने वाले शरदकुमार और रामकुमार दोनों सगे भाई थे। एक की उम्र 20 साल और दूसरे की 22 साल थी। दोनों साथ-साथ आरएसएस की शाखाओं में जाया करते थे। दोनों द्वितीय वर्ष प्रशिक्षित थे। जब राम मंदिर के लिए विहिप ने आंदोलन का ऐलान किया तो लाखों स्वयंसेवकों की तरह उन्होंने भी तय तारीख को अयोध्या पहुंचने का निर्णय किया। दोनों भाई 20 अक्टूबर 1990 को घर से निकले। हालांकि उनके इस निर्णय उनके पिता हीरालाल खुश नहीं थे लेकिन दोनों भाइयों की जिद के आगे उन्हें झुकना पड़ा।

यह भी पढ़ेंः वो मुस्‍ल‍िम प्रोफेसर, जो रामलला के दर्शन करने को हैं बेताब, Ram Mandir न‍िर्माण के लिए द‍िए थे एक लाख

300 किमी. पैदल चलकर पहुंचे अयोध्या

पिता के मना करने की वजह उनकी बहन पूर्णिमा कोठारी की शादी थी जो उसी साल दिसंबर के महीने में होनी थी। हालांकि दोनों भाइयों ने शादी में शामिल होने का वचन दिया। रामकुमार और शरद कुमार ने 22 अक्टूबर की रात कोलकाता से अयोध्या की ट्रेन पकड़ी। हालांकि दोनों भाई बनारस से आगे नहीं जा सकें क्योंकि सरकार ने आंदोलन को देखते हुए ट्रेनें बंद कर दी थीं। इसके बाद दोनों भाइयों ने पैदल ही अयोध्या पहुंचने का निश्चय किया।

1 February 1986 Day is a milestone in Ayodhya case know what happened on  that day - अयोध्यानामा : अयोध्या मामले में 1 फरवरी 1986 का दिन मील का पत्थर  है, जानें क्यों, उत्तर प्रदेश ...

दोनों करीब 300 किलोमीटर पैदल चलकर 30 अक्टूबर को अयोध्या पहुंचे। 30 अक्टूबर को शरद विवादित ढांचे के गुंबद पर चढ़ने वाले पहले शख्स थे। वहां उन्होनें भगवा पताका फहराई। हालांकि वहां तैनात सीआरपीएफ के जवानों ने उन्हें नीचे उतार दिया।

यह भी पढ़ेंः Ram Mandir Inauguration: तीन शहरों से अयोध्या के लिए मिलेगी डायरेक्ट फ्लाइट, Air India का बड़ा ऐलान

इंस्पेक्टर ने घर से बाहर लाकर मारी गोली

इसके बाद दोनों भाई वर्तमान भाजपा सांसद विनय कटियार के नेतृत्व में आगे बढ़ रहे थे। इस दौरान सुरक्षा बलों ने भीड़ को देखकर गोली चला दी। फायरिंग होती देख दोनों भाई एक घर में छिप गए। इसके बाद एक इंस्पेक्टर ने शरद को घर से बाहर निकाला और सिर में गोली मार दी। इसके बाद रामकुमार छोटे भाई शरद कुमार को बचाने सड़क पर आए तो इंस्पेक्टर उनको भी गोलियों से भून दिया। दोनों ने मौके पर दम तोड़ दिया। दोनों के नाम पर अयोध्या में एक सड़क का नामकरण भी किया गया है।

बाबरी मस्जिद विध्वंस: 25 साल पूरे होने पर कार्यक्रम करेगी VHP, साधु-संत भी  हो सकते हैं शामिल - vhp programs on 25 year of babri masjid demolish ram  mandir ayodhya - AajTak

First published on: Dec 30, 2023 01:24 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें