---विज्ञापन---

मिजोरम में बड़ा हादसा, आइजोल के पास निर्माणाधीन रेलवे पुल गिरने से 26 लोगों की मौत

Mizoram Railway Bridge Collapse: मिजोरम से बड़ी खबर आ रही है। राजधानी आइजोल से करीब 21 किलोमीटर दूर सैरांग इलाके के पास बुधवार सुबह करीब 10 बजे एक निर्माणाधीन रेलवे पुल ढह गया। हादसे में पहले 17 श्रमिकों की मौत की खबर आई, जो बढ़कर 26 हो गई। हादसे में कई अन्य के घायल होने और […]

Edited By : Om Pratap | Updated: Aug 23, 2023 14:25
Share :
Under construction railway over bridge at Sairang, near Aizawl collapsed today; atleast 17 workers died.

Mizoram Railway Bridge Collapse: मिजोरम से बड़ी खबर आ रही है। राजधानी आइजोल से करीब 21 किलोमीटर दूर सैरांग इलाके के पास बुधवार सुबह करीब 10 बजे एक निर्माणाधीन रेलवे पुल ढह गया। हादसे में पहले 17 श्रमिकों की मौत की खबर आई, जो बढ़कर 26 हो गई। हादसे में कई अन्य के घायल होने और मलबे में फंसे होने की आशंका है।

आइजोल तक रेलवे कनेक्टिविटी लाने के लिए बनाए जा रहे पुल पर हादसे के वक्त 40 निर्माण श्रमिक थे। न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि मलबे से अब तक करीब 17 श्रमिकों के शव बरामद किए जा चुके हैं, जबकि कई अन्य के लापता होने की खबर है। अधिकारियों के मुताबिक, अब तक 9 लोगों का रेस्क्यू किया गया है।

घटनास्थल पर राहत बचाव कार्य जारी

बताया जा रहा है कि यंग मिज़ो एसोसिएशन की सैरांग शाखा घटनास्थल पर बचाव अभियान चला रही है। पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (NFR) के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सब्यसाची डे ने घटना की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि फिलहाल हादसे के पीछे के कारणों के बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है।

उन्होंने कहा कि ये भी स्पष्ट नहीं है कि हादसे के वक्त पुल पर कितने लोग मौजूद थे। उन्होंने बताया कि जो पुल ढह गया, वो पूर्वोत्तर क्षेत्र के सभी राज्यों की राजधानियों को जोड़ने वाली भारतीय रेलवे परियोजना का हिस्सा था। यह पिछले कुछ वर्षों से निर्माणाधीन है।

मुख्यमंत्री जोरमथांगा बोले- राहत बचाव कार्य जारी

हादसे की जानकारी के बाद मिजोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरमथांगा ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म 15 श्रमिकों की मौत की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि घटनास्थल पर बचाव कार्य जारी है। उन्होंने ये भी कहा कि मैं हादसे से बहुत दुखी हूं। मैं सभी शोक संतप्त परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

हादसे के प्रत्यक्षदर्शियों ने क्या बताया?

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि उन्होंने काफी तेज आवाज सुनी, जिसके बाद वे घटनास्थल पर पहुंचे और पुल को ढहा देखा। एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि ये बहुत ही भयावह था। साइट पर 50 से अधिक कर्मचारी थे। उनमें से अधिकांश लापता हैं। कई अंदर फंसे हुए हैं।

रेलवे अधिकारियों का कहना है कि मामले की जांच के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है। वहीं, प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से एक सोशल मीडिया पोस्ट में कहा गया है कि पीएम मोदी मिजोरम में पुल दुर्घटना से दुखी हैं। उन लोगों के प्रति संवेदनाएं जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है। घायल जल्द ठीक हो जाएं। बचाव अभियान जारी है और हर संभव सहायता दी जा रही है।

पीएमओ की ओर से मृतकों और घायलों के लिए मुआवजे का ऐलान किया गया है। जानकारी के मुताबिक, प्रत्येक मृतक के निकटतम परिजन को पीएमएनआरएफ से 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी, जबकि घायलों को 50,000 रुपये दिए जाएंगे।

वहीं, केंद्रीय रेलवे मंत्री ने भी ट्वीट कर मुआवजे की राशि का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि मिजोरम में दुर्भाग्यपूर्ण घटना से दुखी हूं। एनडीआरएफ, राज्य प्रशासन और रेलवे अधिकारी घटनास्थल पर हैं। युद्ध स्तर पर बचाव अभियान जारी है। मुआवजा राशि के रूप में मृतकों के आश्रितों को 10 लाख रुपये, गंभीर चोटों के लिए 2 लाख रुपये और मामूली चोटों के लिए 50,000 रुपये दिए जाएंगे।

 

First published on: Aug 23, 2023 12:41 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें