Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

Joshimath Sinking: अब जोशीमठ से 5 किलोमीटर दूर इस गांव में आई दरारें, सामने आई यह वजह

Joshimath Sinking: जोशीमठ में आई दरारों के बाद अब उसके आसपास के गांवों में खतरा मंडरा रहा है। शनिवार को जोशीमठ से 5 किलोमीटर दूर सेलंग गांव में खेत और घरों में दरारें दिखाई पड़ी हैं। जिससे ग्रामीण दहशत में हैं। उन्होंने राज्य सरकार से मदद की गुहार लगाई है। हालांकि ग्रामीणों का आरोप है […]

Edited By : Amit Kasana | Updated: Jan 14, 2023 23:25
Share :
सेलंग गांव में दरारें

Joshimath Sinking: जोशीमठ में आई दरारों के बाद अब उसके आसपास के गांवों में खतरा मंडरा रहा है। शनिवार को जोशीमठ से 5 किलोमीटर दूर सेलंग गांव में खेत और घरों में दरारें दिखाई पड़ी हैं। जिससे ग्रामीण दहशत में हैं। उन्होंने राज्य सरकार से मदद की गुहार लगाई है। हालांकि ग्रामीणों का आरोप है कि वह इस बारे में काफी पहल से सरकार से शिकायत कर रहे हैं।

बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर है गांव

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार सेलंग में पिछले कुछ महीनों से खेतों और कई घरों में दरारें दिखाई दे रही हैं। बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग (NH-58) पर स्थित, सेलंग के निवासियों ने कहा कि वे डरे हुए हैं और जोशीमठ संकट ने उनके डर को और गहरा कर दिया है। ग्रामीण अपनी दुर्दशा के लिए एनटीपीसी की तपोवन-विष्णुगढ़ जल विद्युत परियोजना को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।

जुलाई 2021 में ढह गया था एक होटल

ग्रामीणों का आरोप है कि परियोजना की सुरंगें गांव के नीचे बनी हैं। सेलंग निवासी विजेंद्र लाल ने समाचार एजेंसी को बताया कि इन सुरंगों में से एक के मुहाने के पास एनएच के पास स्थित एक होटल जुलाई 2021 में ढह गया था और पास के पेट्रोल पंप को भी आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा था। उन्होंने कहा कि ढह गए होटल के पास स्थित घरों को भी खतरा है।

गांव के नीचे एनटीपीसी की 9 सुरंगें

ग्रामीणों के मुताबिक ”गांव के नीचे एनटीपीसी की नौ सुरंगें बनी हैं। सुरंगों के निर्माण में बहुत सारे विस्फोटकों का इस्तेमाल किया गया था, जिससे गांव की नींव को नुकसान पहुंचा है।” “गाँव में मुख्य बस्ती क्षेत्र से 100 मीटर नीचे एक जल निर्वहन प्रणाली भी बनाई जा रही है। इससे कुछ मीटर की दूरी पर गांव की ओर दरारें दिखाई देने लगी हैं,” उन्होंने कहा, लगभग 15 घरों में “दरारें विकसित” हुई हैं। सेलंग गांव के वन पंचायत के सरपंच शिशुपाल सिंह भंडारी ने कहा कि एनटीपीसी परियोजना के कारण निवासियों का जीवन दयनीय हो गया है। परियोजना की सुरंगें गांव के नीचे बनी हुई हैं।

 

First published on: Jan 14, 2023 11:25 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें