Wednesday, 24 April, 2024

---विज्ञापन---

इसरो बनाएगा रिवर्सिबल रॉकेट, लॉन्चिंग की लागत में आएगी भारी कमी

नई दिल्ली: भारत की स्पेश एजेंसी इसरो कुछ बड़ा करने जा रही है। भारत के पास वैश्विक बाजार के लिए एक नया पुन: प्रयोज्य रॉकेट डिजाइन और निर्माण करने की योजना है जो उपग्रहों को लॉन्च करने की लागत में काफी कटौती करेगा। एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने सोमवार को इसकी जानकारी दी है। उपग्रहों […]

Edited By : Gyanendra Sharma | Updated: Sep 6, 2022 13:02
Share :

नई दिल्ली: भारत की स्पेश एजेंसी इसरो कुछ बड़ा करने जा रही है। भारत के पास वैश्विक बाजार के लिए एक नया पुन: प्रयोज्य रॉकेट डिजाइन और निर्माण करने की योजना है जो उपग्रहों को लॉन्च करने की लागत में काफी कटौती करेगा। एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने सोमवार को इसकी जानकारी दी है।

उपग्रहों को लॉन्च करने की लागत में कटौती करने के लिए एजेंसी वैश्विक बाजारों के लिए नए पुन: प्रयोज्य रॉकेटों का डिजाइन और निर्माण करेगी। अंतरिक्ष विभाग के सचिव और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने कहा, “हम सभी चाहते हैं कि प्रक्षेपण आज की तुलना में बहुत सस्ता हो।

अभी पढ़ें ‘मुझे फंसाने के लिए दबाव बनाने के कारण CBI अधिकारी ने आत्महत्या कर ली’, मनीष सिसोदिया का बड़ा आरोप

लागत में आएगी कमी

एजेंसी प्रमुख ने सातवें ‘बेंगलुरु स्पेस एक्सपो 2022’ को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में, एक किलोग्राम पेलोड को कक्षा में स्थापित करने में 10,000 अमेरिकी डॉलर से 15,000 अमेरिकी डॉलर का व्यय आता है। हमें इसे 5,000 अमरीकी डॉलर या 1,000 अमरीकी डॉलर प्रति किलोग्राम तक लाना होगा। ऐसा करने का एकमात्र तरीका रॉकेट को पुन: प्रयोज्य बनाना है। इसलिए, हम अगला रॉकेट जीएसएलवी एमके III के पुन: प्रयोज्य रॉकेट होने के बाद बनाने जा रहे हैं। एजेंसी के अध्यक्ष ने बताया कि वे इन्फ्लेटेबल एरोडायनामिक डिसेलेरेटर (IAD) सहित विभिन्न तकनीकों पर काम कर रहे हैं, जिनका प्रदर्शन पिछले सप्ताह किया गया था।

उन्होंने कहा, “हमें इसे (रॉकेट बैक ऑन अर्थ) उतारने के लिए एक रेट्रो-प्रोपल्शन रखना होगा।” सोमनाथ ने यह भी बताया कि एक पुन: प्रयोज्य रॉकेट का विचार वर्तमान प्रौद्योगिकियों का एक संयोजन होगा और उद्योग, स्टार्टअप और एजेंसी की वाणिज्यिक शाखा न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) से भी सहायता ली जाएगी।

अभी पढ़ें बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना चार दिवसीय दौरे पर भारत पहुंचीं

भारत में बनाया जाएगा लेकिन अंतरिक्ष क्षेत्र की सेवाओं के लिए संचालित होगा

उन्होंने कहा कि यह विचार है और हम उस विचार पर काम कर रहे हैं। वह विचार अकेले इसरो का नहीं हो सकता है। इसे एक उद्योग का विचार होना चाहिए। इसलिए, हमें एक नया रॉकेट डिजाइन करने में उनके साथ काम करना होगा, न केवल इसे डिजाइन करना, बल्कि इसे इंजीनियरिंग करना, इसका निर्माण करना और इसे एक वाणिज्यिक उत्पाद के रूप में लॉन्च करना और इसे व्यावसायिक तरीके से संचालित करना। इसलिए, आज हम जो करते हैं, उससे यह एक बड़ा बदलाव है। मैं अगले कुछ महीनों में इसे आकार लेते देखना चाहता हूं। हम ऐसा रॉकेट देखना चाहते हैं, एक रॉकेट जो प्रतिस्पर्धी-पर्याप्त होगा, एक ऐसा रॉकेट जो लागत-सचेत, उत्पादन-अनुकूल होगा जो भारत में बनाया जाएगा लेकिन अंतरिक्ष क्षेत्र की सेवाओं के लिए संचालित होगा।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

 

First published on: Sep 05, 2022 06:23 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें