Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

जहां से शुरू हुआ था रामसेतु, वहां पहुंचे पीएम मोदी, यहीं विभीषण ने खोला था लंका का ‘भेद’

PM Modi Visit Dhanushkodi: धनुषकोडी से लंका करीब 31 किलोमीटर दूर है। यहां से लंका के लिए वानर सेना ने राम सेतु बनाया था। इसी जगह रावण के भाई विभीषण ने श्रीराम से शरण मांगी थी।

Edited By : Amit Kasana | Updated: Jan 21, 2024 14:25
Share :
pm modi visits ram setus origin point tamilnadu
तमिलनाडु के धनुषकोडी पहुंचे पीएम मोदी

PM Modi Visit Dhanushkodi: अयोध्या में श्री राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के विभिन्न धार्मिक स्थलों पर जा रहे हैं। वह अलग-अलग राज्यों में श्री राम मंदिर और भगवान राम से जुड़ी जगहों का दौरा कर रहे हैं। रविवार को इसी कड़ी में पीएम तमिलनाडु के धनुषकोडी पहुंचे। यहां उन्होंने श्री कोठंडारामस्वामी स्वामी मंदिर में पूजा-अर्चना की और Arichal Munai भी गए। Arichal Munai वह जगह है जहां लंका जाने के लिए श्री राम सेतु का निर्माण किया गया था।

कोठंडाराम का मतलब होता है धनुष के साथ राम

जानकारी के अनुसार कोठंडाराम का मतलब होता है धनुष के साथ राम। सुबह प्रधानमंत्री श्री कोठंडारामस्वामी स्वामी मंदिर पहुंचे। बताया जाता है कि धनुषकोडी से लंका करीब 31 किलोमीटर आगे है। यहां से लंका के लिए वानर सेना ने राम सेतु बनाया था। इसके अलावा धनुषकोडी ही वह जगह है जहां विभीषण पहली बार भगवान श्रीराम से मिले थे। यहां उन्होंने श्री राम से शरण मांगी थी और मां सीता के बारे में बताया था। यहीं विभीषण ने रावण और उसकी ताकत के बारे में सारे भेद खोले थे।

सरयू नदी पर नावों के जरिए गश्त की जा रही है

जानकारी के अनुसार इससे पहले शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तिरुचिरापल्ली में श्री रंगनाथस्वामी मंदिर और दक्षिणी राज्य में रामेश्वरम में श्री अरुल्मिगु रामनाथस्वामी मंदिर गए थे। यहां पीएम ने विधि-विधान से पूजा अर्चना की और समंदर में पवित्र डुबकी लगाई थी। 22 जनवरी को अयोध्या में श्री राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह है। 16 जनवरी से राम मंदिर उद्घाटन को लेकर अयोध्या में अलग-अलग अनुष्ठान किए जा रहे हैं। अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। यहां 10 हजार सीसीटीवी हर जगह निगरानी कर रहे हैं। अतिरिक्त महानिदेशक (एडीजी, लखनऊ जोन) पीयूष मोर्डिया ने कहा कि अयोध्या में ड्रोन और नाइट विजन कैमरा से नजर रखी जा रही है। इसके अलावा सरयू नदी पर नावों के जरिए गश्त की जा रही है। स्थानीय पुलिस, खुफिया एजेंसी और सेना सब एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

First published on: Jan 21, 2024 02:18 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें