---विज्ञापन---

गुरुवार का व्रत कब से शुरू करना है सबसे शुभ, जनिए सही विधि और नियम

Guruwar Vrat Niyam: गुरुवार व्रत शुरू करने के लिए खास दिन, नियम और विधियां बताई गई हैं। यहां जानिए बृहस्पतिवार का व्रत कब से शुरू करना अच्छा रहेगा।

Edited By : Dipesh Thakur | Updated: Dec 28, 2023 08:44
Share :
Guruwar Vrat Niyam

Guruwar Vrat Kab Se Shuru Kare: गुरुवार, बृहस्पति देव और गुरु ग्रह से जुड़ा है। मान्यतानुसार, इस व्रत को रखने से दांपत्य जीवन में खुशहाली, अनुकूल वर की प्राप्ति, शिक्षा में उन्नति और कुंडली में गुरु ग्रह की स्थिति मजबूत होती है।

शास्त्रों की मान्यता के अनुसार, यह व्रत 16 सप्ताह तक रखा जा सकता है। 17 वें सप्ताह के पहले गुरुवार को उसका उद्यापन (व्रत खोलना) उचित माना गया है। गुरुवार-व्रत के जुड़े खास नियम बताए गए हैं। जिसका विधिवत पालन करने से मनोकामना पूरी होती है। जानिए, गुरुवार व्रत से जुड़े नियम और सही विधि।

गुरुवार का व्रत कब से शुरू करें?

धार्मिक मान्यतानुसार, पौष माह को छोड़कर किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार से यह व्रत शुरू किया जा सकता है। अगर महिलाएं गुरुवार का व्रत शुरू करना चाहती हैं तो उन्हें पीरियड्स के दिनों का ध्यान रखना चाहिए। जो महिलाएं 16 गुरुवार व्रत का संकल्प लेती हैं , उन्हें बीच में नहीं छोड़ना चाहिए।

गुरुवार व्रत नियम-विधि

नियम के मुताबिक गुरुवार का व्रत रखने से मनोकामना पूरी होती है। जब से गुरुवार का व्रत शुरू करें उस दिन सूर्य उदय से पहले उठें। इसके बाद पीले वस्त्र धारण करें। फिर विष्णु भगवान का ध्यान कर व्रत का संकल्प लें। इतना करने के बाद पूजा स्थान पर या भगवान विष्णु को पीले फूल अर्पित करें। इसके अलावा उन्हें इसी रंग के चंदन अर्पित करें। भोग के तौर पर पीली वस्तुओं का ही इस्तेमाल करें।

वैसे भगवान विष्णु को केले का भोग लगा सकते हैं। पूजन के दौरान विष्णु चालीसा, विष्णु सहस्त्रनाम, विष्णु जी के मंत्र का जाप कर सकते हैं। ‘ओम् विष्णवे नमः’ मंत्र का जाप कर सकते हैं। 108 की संख्या में मंत्र का जाप करेंगे तो अच्छा रहेगा। मंत्र जाप के लिए तुलसी की माला शुभ मानी गई है।

गुरुवार व्रत के दौरान दान करना शुभ माना गया है। पीली वस्तुओं का दान करना शुभ रहेगा। चने की दाल का दान अच्छा माना गया है। गुरुवार व्रत के दिन शाम के वक्त भगवान विष्णु की आरती करें। उसके बाद सूर्यास्त होने पर व्रत का पारण करें।

यह भी पढ़ें: पौष में 2 देवताओं की पूजा शुभ फलदायी, घर-परिवार में रहेगी खुशहाली

डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी ज्योतिष पर आधारित है तथा केवल सूचना के लिए दी जा रही है।News24 इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी उपाय को करने से पहले संबंधित विषय के एक्सपर्ट से सलाह अवश्य लें।

First published on: Dec 28, 2023 08:44 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें