Monday, September 26, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

Shrikant Tyagi: ‘गालीबाज’ के खिलाफ लगे पोस्टर पर विवाद, पुलिस बोली- हटाएं, सोसाइटी के लोगों ने दिया ये जवाब

जिस दिन नोएडा में त्यागी समाज की महापंचायत हुई थी, उसी दिन ग्रैंड ओमेक्स सोसायटी के गेट पर सोसायटी के लोगों ने पोस्टर लगाया था। अब इसे हटाने पर विवाद खड़ा हो रहा है।

Noida News: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नोएडा (Noida) सेक्टर-93बी स्थित ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी (Grand Omaxe Society) में एक बार फिर से विवाद खड़ा होने लगा है। अब विवाद पोस्टर का है। सोसायटी में रहने वाले लोगों ने गेट पर सोसायटी में ‘हम अतिक्रमण, उत्पीड़न और महिलाओं के अपमान को न कहने’ को पोस्टर लगा दिया है। वहीं सोसायटी के लोगों ने आरोप लगाया है कि पुलिस इस पोस्टर को हटवाना चाहती है। फेज-2 थाने के थाना प्रभारी किसी एक नेता के इशारे पर ऐसा कर रहे हैं।

22 अगस्त को सोसायटी के गेट पर लगाया था पोस्टर

वहीं फेस-2 थाना प्रभारी ने बताया कि इलाके में शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए यह कदम जरूरी है। सोसाइटी में रहने वाले लोगों ने बताया कि 22 अगस्त को श्रीकांत त्यागी के समर्थन में त्यागी समाज की महापंचायत का आयोजन हुआ था। उसी दिन उन्होंने सोसायटी के गेट पर यह पोस्टर लगाया था, जिसको वे नहीं हटाएंगे। अब इस मामले में दोनों ओर से खींचतान जारी है। सोसायटी के लोगों का आरोप है कि उन पर दबाव बनाया जा रहा है।

श्रीकांत और उसके साथियों पर हुई थी कार्रवाई

बता दें कि श्रीकांत के खिलाफ महिला के साथ छेड़छाड़, आपराधिक धमकी और अन्य आरोपों के लिए मुकदमे दर्ज किए गए थे। इसके अलावा श्रीकांत के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में भी मुकदमा दर्ज किया गया था। श्रीकांत त्यागी की गिरफ्तारी के बाद नोएडा में महापंचायत बुलाई गई थी। इस महापंचायत में गालीबाद श्रीकांत के खिलाफ पुलिस और प्रशासन की ओर से की गई कार्रवाई का विरोध किया गया था। साथ ही सोसायटी में घुसकर पीड़ित महिला को धमकाने और मारपीट के अन्य आरोपियों को मंच पर बुलाकर उनका स्वागत किया गया था।

‘हम महिलाओं के अपमान, अभद्रता व अतिक्रमण को न कहते हैं’

वहीं सोसायटी के लोगों ने मेन गेट पर कुछ पोस्टर लगाए हैं। इनमें लिखा है, ‘हम उत्पीड़न, महिलाओं के अपमान, अभद्र भाषा और अतिक्रमण को ना कहते हैं।’ सोसाइटी के लोगों ने बताया कि मंगलवार सुबह से पुलिस से कई फोन आ चुके हैं। लोगों का आरोप है कि वे त्यागी समुदाय के एक नेता के इशारे पर इन बैनरों को हटाने के लिए दबाव बना रहे हैं, लेकिन हम ऐसा करने के लिए तैयार नहीं हैं, क्योंकि सुबह घूमने के लिए जाने वाली महिलाएं लगातार उत्पीड़न का शिकार हो रही है।

एक दूसरे पर लगाए जा रहे हैं आरोप

सोसायटी में रहने वाले कुछ लोगों ने बताया कि सोमवार को त्यागी समुदाय के कई लोग श्रीकांत त्यागी के फ्लैट में आए थे। बाद में उन्होंने पूरी सोसायटी का चक्कर लगाया। वहीं त्यागी समाज के नेता का कहना है कि हमने सोमवार को पुलिस अधिकारियों से बात की थी। पोस्टर हटाने के लिए कहा था, क्योंकि पोस्टर समाज को निशाना बना रहे हैं। वहीं फेज-2 थाना प्रभारी का कहना है कि हमने लोगों से कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए बैनर हटाने को कहा है। वैसे भी इस मामले में पहले ही आरोपी और साथियों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है।

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -