Thursday, 22 February, 2024

---विज्ञापन---

सावधान हो जाएंः नोएडा और गाजियाबाद में डेंगू ने फिर उठाया ‘फन’, अचानक बढ़े मरीजों की संख्या देख अधिकारी परेशान

Dengue in UP: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में डेंगू (Dengue) अपना खतरनाक असर दिखा रहा है। वहीं नोएडा (Noida) और गाजियाबाद (Ghaziabad) में प्रदूषण की मार के बीच डेंगू से दोबारा अपना फन उठाना शुरू कर दिया है। दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के इन दोनों जिलों में अचानक डेंगू के मरीजों की संख्या में […]

Edited By : Naresh Chaudhary | Updated: Nov 4, 2022 15:45
Share :

Dengue in UP: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में डेंगू (Dengue) अपना खतरनाक असर दिखा रहा है। वहीं नोएडा (Noida) और गाजियाबाद (Ghaziabad) में प्रदूषण की मार के बीच डेंगू से दोबारा अपना फन उठाना शुरू कर दिया है। दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के इन दोनों जिलों में अचानक डेंगू के मरीजों की संख्या में इजाफा दर्ज किया गया है। दोहरी मार को देखते हुए प्रशासन के भी होश उड़ गए हैं।

दोनों जिलों में इतनी ही मरीजों की संख्या

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गाजियाबाद में गुरुवार तक डेंगू के मरीजों की संख्या 530 थी। जबकि नोएडा में यह आंकड़ा 125 पर पहुंच गया। इतना ही नहीं, नोएडा में प्रशासनिक और स्वास्थ्य विभाग के होश उस वक्त उड़ गए जब ग्रेटर नोएडा वेस्ट के सेक्टर-3 के ब्लॉक-ए में एक साथ 15 लोगों में डेंगू की पुष्टि हुई। नोएडा में यह अकेला स्थान है, जहां से एक साथ इतनी ज्यादा संख्या में मरीज मिले हैं।

नोएडा के लोगों ने यह आरोप लगाया

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नोएडा के लोगों ने आरोप लगाया है कि डेंगू के मामले दोबारा इसलिए बढ़ने लगे हैं, क्योंकि अधिकारी पर्याप्त उपाय नहीं कर रहे। शिकायतों के बाद भी एंटी-लार्वा का छिड़काव नहीं कराया गया है। लोग खुद के खर्चे पर इसे करा रहे हैं। इसके अलावा शहर शहर के लोगों ने और भी कई आरोप लगाए हैं।

नोएडा के अधिकारियों ने ये कहा

नोएडा के अधिकारियों ने लोगों के आरोपों का खंडन किया है। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. राजेश शर्मा ने बताया कि गुरुवार को हमने ग्रेटर नोएडा वेस्ट के ब्लॉक-ए में नौ घरों का निरीक्षण किया। कई लोग अब पूरी तरह से स्वस्थ हैं। निरीक्षण में अधिकारियों को सात स्थानों पर पानी जमा हुआ मिला। यहां लार्वा रोधी रसायनों का छिड़काव किया है।

डेंगू की पुष्टि के साथ कम हो रही प्लेटलेट

नोएडा के एक वरिष्ठ चिकित्सक ने बताया कि मामलों की संख्या निश्चित रूप से बढ़ रही है। हम लगभग 20-25 रोगियों को देख रहे हैं, जो बुखार, उल्टी और डेंगू के अन्य लक्षणों के साथ प्रतिदिन आ रहे हैं। इनमें से कुछ लोगों में डेंगू की पुष्टि हो रही है। साथ ही लोगों में प्लेटलेट्स की संख्या कम होती है।

First published on: Nov 04, 2022 03:45 PM
संबंधित खबरें